• Hindi News
  • Rajasthan
  • Kishangarh
  • आश्वासन के बाद भी पैसा नहीं मिला तो धरने पर बैठा निवेशक
--Advertisement--

आश्वासन के बाद भी पैसा नहीं मिला तो धरने पर बैठा निवेशक

भास्कर न्यूज | मदनगंज-किशनगढ़ तेजाजी चौक स्थित निवेश कंपनी के ऑफिस में मंगलवार को निवेशकों के हंगामे के बाद...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 01:30 PM IST
आश्वासन के बाद भी पैसा नहीं मिला तो धरने पर बैठा निवेशक
भास्कर न्यूज | मदनगंज-किशनगढ़

तेजाजी चौक स्थित निवेश कंपनी के ऑफिस में मंगलवार को निवेशकों के हंगामे के बाद मैनेजर द्वारा बुधवार को पैसा देने की लिखित में गारंटी देने के बाद पैसा लेने पहुंचे निवेशकों को मैनेजर ही नहीं मिला। इससे गुस्साए निवेशक ने कार्यालय में हंगामा मचाना शुरू कर दिया। गुस्साए निवेशक ने विरोध जताते हुए मौजूद कर्मचारियों को जमकर खरी-खोटी सुनाई। गुस्से में निवेशक ने कुर्सियां तक फेंक दी और कार्यालय के बाहर ताला लगा दिया। इसके बाद कर्मचारी खुद कार्यालय के दरवाजे पर धरने पर बैठ गए। अाखिर कर्मचारियों की ओर से चेक देने पर मामला शांत हुआ। मालूम हो कि मंगलवार को भी निवेशकों ने पॉलिसी मेच्योर होने के कई महीनों बाद पैसा नहीं मिलने पर जमकर हंगामा मचाया था। अब निवेशकों को पैसा डूबने का भय सता रहा है। लंबे समय से निवेशक परेशान हो रहे है।

जानकारी के अनुसार कृष्णापुरी निवासी मूलचंद शर्मा ने प|ी के नाम की पॉलिसी कंपनी में खुलवाई थी। शर्मा ने बताया कि पांच साल के हिसाब से पॉलिसी के 72 हजार रुपए जमा करा दिए। पॉलिसी अगस्त 17 में मेच्योर हो गई और शर्मा को ब्याज सहित 96 हजार 55 रुपए मिलने थे। लेकिन छह महीने से शर्मा को तेजाजी चौक स्थित कंपनी के कार्यालय में चक्कर काट रहे है लेकिन उन्हें हर बार अगले महीने, पंद्रह दिन कहकर चक्कर कटवाए जा रहे है। मंगलवार को अन्य निवेशकों ने भी पैसा नहीं मिलने और चक्कर कटवाने से परेशान होकर कंपनी के कार्यालय में विरोध जताया था। तब कईं निवेशकों को कर्मचारियों ने चेक दिए और शर्मा को मैनेजर ने बुधवार शाम 4 बजे तक लिखित में गारंटी देकर पूरा पैसा देने का आश्वासन दिया था। बकायदा मैनेजर में लिखकर हस्ताक्षर किए और सील लगाई। दो गवाह के भी साइन कराए। बुधवार दोपहर 3 बजे जब शर्मा कार्यालय पहुंचे तो उन्हें मैनेजर साहब नहीं मिले। इस पर शर्मा आक्रोशित हो उठे और विरोध जताने लगे। शर्मा ने कार्यालय में मौजूद कर्मचारियों को खरी-खोटी सुनाई और तुरंत पैसा देने की मांग पर अड़ गए। इस दौरान कर्मचारी उन्हें समझाते रहे पर शर्मा विरोध करते रहे। गुस्साए निवेशक ने कुर्सियां फेंकना शुरू कर दिया।

कार्यालय पर लगाया ताला, धरने पर बैठ गया निवेशक

विरोध के बावजूद कोई सुनवाई नहीं होने पर गुस्साए शर्मा ने घर से अपने पुत्र को बुलाकर ताला मंगवा लिया। गुस्साए शर्मा ने कार्यालय के मुख्य दरवाजे पर ताला लगा दिया और बाहर धरने पर बैठ गए। हालांकि पुत्र के कहने पर ताला खोल दिया। लेकिन शर्मा धरने पर ही बैठे रहे। कर्मचारियों ने उन्हें उठाना प्रयास किया लेकिन शर्मा पैसा देने पर ही उठने की मांग पर अड़ गए। इससे मौके पर माहौल गर्मा गया। शर्मा ने आरोप लगाया कि कंपनी सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला दे रही है जिसमें सेबी को सहारा की ओर से पैसा दिया जा रहा है। इस कारण देरी हो रही है। लेकिन इसका खामियाजा निवेशकों को क्यों उठाना पड़ रहा है। निवेशकों को पैसा डूबने की चिंता सता रही है। सैकड़ों निवेशकों ने हजारों, लाखों रुपए लगा रखे हैं। शर्मा ने आरोप लगाया कि कार्यालय के मैनेजर, कर्मचारियों को हर महीने तनख्वाह दी जा रही है। नए ग्राहकों से निवेश कराया जा रहा है। लेकिन जिनकी पॉलिसी मेच्योर हो गई उनका पैसा डूब रहा है। शर्मा के विरोध के बाद कर्मचारियों ने 96 हजार 55 रुपए का चेक दिया तब जाकर शर्मा धरने से उठे।

तेजाजी चौके कार्यालय पर पैसा नहीं मिलने पर धरने पर बैठा निवेशक।

भास्कर न्यूज | मदनगंज-किशनगढ़

तेजाजी चौक स्थित निवेश कंपनी के ऑफिस में मंगलवार को निवेशकों के हंगामे के बाद मैनेजर द्वारा बुधवार को पैसा देने की लिखित में गारंटी देने के बाद पैसा लेने पहुंचे निवेशकों को मैनेजर ही नहीं मिला। इससे गुस्साए निवेशक ने कार्यालय में हंगामा मचाना शुरू कर दिया। गुस्साए निवेशक ने विरोध जताते हुए मौजूद कर्मचारियों को जमकर खरी-खोटी सुनाई। गुस्से में निवेशक ने कुर्सियां तक फेंक दी और कार्यालय के बाहर ताला लगा दिया। इसके बाद कर्मचारी खुद कार्यालय के दरवाजे पर धरने पर बैठ गए। अाखिर कर्मचारियों की ओर से चेक देने पर मामला शांत हुआ। मालूम हो कि मंगलवार को भी निवेशकों ने पॉलिसी मेच्योर होने के कई महीनों बाद पैसा नहीं मिलने पर जमकर हंगामा मचाया था। अब निवेशकों को पैसा डूबने का भय सता रहा है। लंबे समय से निवेशक परेशान हो रहे है।

जानकारी के अनुसार कृष्णापुरी निवासी मूलचंद शर्मा ने प|ी के नाम की पॉलिसी कंपनी में खुलवाई थी। शर्मा ने बताया कि पांच साल के हिसाब से पॉलिसी के 72 हजार रुपए जमा करा दिए। पॉलिसी अगस्त 17 में मेच्योर हो गई और शर्मा को ब्याज सहित 96 हजार 55 रुपए मिलने थे। लेकिन छह महीने से शर्मा को तेजाजी चौक स्थित कंपनी के कार्यालय में चक्कर काट रहे है लेकिन उन्हें हर बार अगले महीने, पंद्रह दिन कहकर चक्कर कटवाए जा रहे है। मंगलवार को अन्य निवेशकों ने भी पैसा नहीं मिलने और चक्कर कटवाने से परेशान होकर कंपनी के कार्यालय में विरोध जताया था। तब कईं निवेशकों को कर्मचारियों ने चेक दिए और शर्मा को मैनेजर ने बुधवार शाम 4 बजे तक लिखित में गारंटी देकर पूरा पैसा देने का आश्वासन दिया था। बकायदा मैनेजर में लिखकर हस्ताक्षर किए और सील लगाई। दो गवाह के भी साइन कराए। बुधवार दोपहर 3 बजे जब शर्मा कार्यालय पहुंचे तो उन्हें मैनेजर साहब नहीं मिले। इस पर शर्मा आक्रोशित हो उठे और विरोध जताने लगे। शर्मा ने कार्यालय में मौजूद कर्मचारियों को खरी-खोटी सुनाई और तुरंत पैसा देने की मांग पर अड़ गए। इस दौरान कर्मचारी उन्हें समझाते रहे पर शर्मा विरोध करते रहे। गुस्साए निवेशक ने कुर्सियां फेंकना शुरू कर दिया।

X
आश्वासन के बाद भी पैसा नहीं मिला तो धरने पर बैठा निवेशक
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..