• Hindi News
  • Rajasthan
  • Kishangarh
  • अशांति और हादसों से भरा रहा अप्रैल, एक माह मेंं 25 मौत
--Advertisement--

अशांति और हादसों से भरा रहा अप्रैल, एक माह मेंं 25 मौत

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:05 AM IST

Kishangarh News - भास्कर न्यूज| मदनगंज-किशनगढ़ इस साल अप्रैल महीना हादसों और आत्महत्या से भरा रहा। महज अप्रैल के 30 दिन में 25 जनों की...

अशांति और हादसों से भरा रहा अप्रैल, एक माह मेंं 25 मौत
भास्कर न्यूज| मदनगंज-किशनगढ़

इस साल अप्रैल महीना हादसों और आत्महत्या से भरा रहा। महज अप्रैल के 30 दिन में 25 जनों की मौत हो गई। जिसमें सड़क हादसे, ट्रेन की चपेट में और फैक्ट्री में काम करते समय श्रमिक की मौतें हुई है। इन्ही मौतों के बीच 6 घटनाएं आत्महत्या की रही और एक घटना हत्या की रही। एक सप्ताह में अलग-अलग मामलों में दो श्रमिकों की फैक्ट्री में मौत की घटना से विवाद और अशांति का माहौल रहा। भू व्यापारी प्रदीप चौधरी के घर में घुसकर बदमाशों ने फायरिंग की। कुल मिलाकर पूरा अप्रैल अशांति भरा रहा। यज्ञनारायण अस्पताल की मोर्चरी के डीपफ्रीजर इन शवों से भरे रहे। खुद पुलिस भी लगातार हो रही मौतों की घटनाओं से बैचैन रही। इन सबको देखते हुए कईं बार शांति यज्ञ तक की बातें उठने लगी। अब आज से मई माह शुरू हो रहा है। ऐसे में लोगों को मई महीने से शांति होने की उम्मीद है।

20 अप्रैल के शुक्रवार को हुई ये तीन घटनाएं

केस 1|
20 अप्रैल की सुबह सड़क दुर्घटना में स्कूटी सवार मार्बल व्यापारी सुरेश की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी। डम्पर ने स्कूटी को टक्कर मार दी।

केस 2| हाउसिंग बोर्ड क्षेत्र में 20 अप्रैल की सुबह एक स्कूली गौरव अग्रवाल (19) का शव घर में फंसे से झूलता मिला। गौरव बारहवीं कक्षा का छात्र था। घटना के वक्त गौरव घर में अकेला था।

केस 3| सुभाष कॉलोनी स्थित पावरलूम फैक्ट्री में काम करते समय पानी की टंकी के पास, आजाद नगर निवासी जगदीश की करंट लगने से मौत हो गई थी। घटना के बाद श्रमिकों ने मुआवजे को लेकर विरोध किया और शव नहीं लेने पर अड़ गए। शनिवार की सुबह मुआवजा पांच लाख रुपए देने पर मामला शांत हुआ।

27 अप्रैल शुक्रवार को भी हुए मिलते जुलते हादसे

केस 1|
जयपुर हाइवे पर नसीराबाद पुलिया के निकट 27 अप्रैल की सुबह बेकाबू कार ने बाइक को टक्कर मारते हुए खड़े ट्रक के पीछे टकरा गई। हादसे में मंडावरिया निवासी सावर गुर्जर की मौके पर ही मौत हो गई।

केस 2| कृष्णापुरी क्षेत्र में 27 अप्रैल की सुबह अपने घर में एडवोकेट रवि प्रकाश मंडोलिया का शव फंदे पर झूलता मिला। पुलिस आत्महत्या के कारणों का पता लगाने में जुटी है।

केस 3| सुभाष कॉलोनी स्थित पावरलूम फैक्ट्री में 27 अप्रैल की रात को काम करते समय लकड़ी के कटले की चपेट में आने से मालियों की ढाणी निवासी कैलाश माली की मौत हो गई। मौत के बाद श्रमिकों ने शव नहीं उठाने दिया। मुआवजा तीन लाख रुपए देने पर श्रमिक माने और अगले दिन शनिवार दोपहर को शव उठाने दिया। तब जाकर मामला शांत हुआ।

अजीब इत्तफाक, लगातार दो शुक्रवार रहे ब्लैक फ्राइडे, तीन घटनाएं एक जैसी रही

अप्रैल महीने में हादसों और मौतों के बीच दो शुक्रवार बड़े अजीब निकले। 20 अप्रैल और 27 अप्रैल को शुक्रवार थे और इन दोनों ही शुक्रवार को तीन-तीन मौतें हुई। तीनों ही मौतों में काफी समानता रहा। दोनों शुक्रवार ब्लेक फ्राइडे साबित हुए।

इन हादसों ने झकझोर दिया

केस 1|
2 अप्रैल की सुबह ग्राम बालापुरा में आपसी झगड़े को लेकर सूरजभान ने अपनी प|ी नौसर देवी पर पत्थर से हमला कर हत्या कर दी और फरार हो गया। देर शाम सूरजभान ने गांव के पास ही पेड़ पर फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। अगले दिन शव फंदे से झूलता मिला। मृतका प्रधान की बहन थी।

केस 2| 5 अप्रैल को ग्राम रामपुरा में श्मशान की नाडी में क्षति विक्षिप्त अवस्था में पांचू गुर्जर का शव मिला था। पुलिस ने परिजनों की रिपोर्ट पर व्यक्तियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया।

केस 3| 17 अप्रैल की रात को फलाेदा गांव के निकट चलती ट्रेन से गिरकर उत्तरप्रदेश निवासी सुधीर, अजमेर के तोपदड़ा निवासी रेखा की मौत हो गई थी। दोनों की मौत अगले दिन हो गई।

केस 4| 10 अप्रैल की रात को बाइक पर सवार होकर आए नकाबपोश बदमाशों ने भू व्यापारी प्रदीप चौधरी के मकान में घुसकर फायरिंग की। प्रकरण में चार जनों को गिरफ्तार कर लिया।

X
अशांति और हादसों से भरा रहा अप्रैल, एक माह मेंं 25 मौत
Astrology

Recommended

Click to listen..