Hindi News »Rajasthan »Kishangarh» प्राइवेट अस्पतालों को भी देने होंगे डेंगू, मलेरिया व स्वाइन फ्लू के आंकड़े

प्राइवेट अस्पतालों को भी देने होंगे डेंगू, मलेरिया व स्वाइन फ्लू के आंकड़े

भास्कर न्यूज.मदनगंज-किशनगढ़. उपखंड में मलेरिया, डेंगू व स्वाइन फ्लू जैसी बीमारियों के मरीजों के आंकड़े अब...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 18, 2018, 04:30 AM IST

प्राइवेट अस्पतालों को भी देने होंगे डेंगू, मलेरिया व स्वाइन फ्लू के आंकड़े
भास्कर न्यूज.मदनगंज-किशनगढ़.

उपखंड में मलेरिया, डेंगू व स्वाइन फ्लू जैसी बीमारियों के मरीजों के आंकड़े अब गैरसरकारी चिकित्सा संस्थान भी चिकित्सा विभाग को देने के लिए बाध्य हाेंगे।

मरीजाें की जानकारी छिपाने पर उन पर जुर्माना भी लगाया जाएगा। मालूम हो कि निजी अस्पतालों में गंभीर बीमारियाें के रोगियाें की पुष्टि के बावजूद चिकित्सा विभाग को समय पर सूचना नहीं दी जाती। विभाग काे देरी से सूचना मिलती है। आंकड़ों में कई बार निजी अस्पतालों की सूचना अपडेट नहीं होती। इस कारण विभाग के आंकड़ाें में मरीजों की संख्या कम रहती है।

जानकारी के अनुयार डेंगू, मलेरिया व स्वाइन फ्लू को सूचीबद्ध बीमारियों में शामिल किया गया है। ऐसे में इन बीमारियाें को लेकर सख्ती बरतने के निर्देश दिए गए हैं। हाल में जयपुर में हुई बैठक में अधिकारियाें ने साफ निर्देशित किया कि इन बीमारी के मरीज यदि निजी लैब या फिर निजी अस्पताल में चिह्नित किए जाते हैं तो उन मरीजों की सूचना चिकित्सा विभाग को देनी होगी। इतना ही नहीं इसमें लापरवाही बरतने पर कार्रवाई करने व जुर्माना लगाने का भी प्रावधान है। इसको लेकर नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया गया है। मरीजाें की सूचना नहीं देने पर लैब या अस्पताल के खिलाफ 500 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा।

मौसमी बीमारियों के लिए करेंगे जागरूक

विभाग के अधिकारियों को भी साफ निर्देशित किया गया है कि बीमारियाें की रोकथाम के लिए लोगों को जागरूक करने के लिए अभियान चलाना होगा। इतना ही नहीं अब विभाग की टीम निरीक्षण अधिकारी के नेतृत्व में टीमें गठित कर किसी भी परिसर में प्रवेश कर फीवर सर्विलेंस, एंटी लार्वा गतिविधियाें और इन बीमारियाें की रोकथाम के लिए दवा छिड़काव कर सकेंगे। इसके साथ ही संदिग्ध मरीजों की ब्लड़ स्लाइड लेकर जहां भी पानी एकत्र हो रखा है वहां एंटी लार्वा गतिविधियां चलाई जाएंगी।

एलाइजा टेस्ट से ही होगी पुष्टि

मलेरिया व डेंगू जैसी बीमारियाें की जांच रिपोर्ट के लिए भी गाइडलाइन तय की गई है। इसके तहत इन दोनों बीमारियां की पुष्टि एलाइजा टेस्ट से ही होगी और इसके लिए विभाग की गाइडलाइन की भी पालना करनी होगी। जिन लैब और अस्पतालों में एलाइजा टेस्ट की सुविधा नहीं है उन्हें सरकारी अस्पतालों में ब्लड सैंपल भिजवाने होंगे। इतना ही नहीं गैर सरकारी चिकित्सा संस्थानाें और लैब में होने वाले किट टेस्ट भी अब मान्य नहीं होंगे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kishangarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×