Hindi News »Rajasthan »Kishangarh» हाइटेक चोरों ने फेसबुक स्टेटस देख सूने मकान को बनाया निशाना

हाइटेक चोरों ने फेसबुक स्टेटस देख सूने मकान को बनाया निशाना

विकास टिंकर|मदनगंज-किशनगढ़. आमजन के साथ ही अपराधी भी दिन-ब-दिन हाइटेक हो रहे हैं। हालत यहां तक पहुंच गए हैं कि चोर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 17, 2018, 04:30 AM IST

हाइटेक चोरों ने फेसबुक स्टेटस देख सूने मकान को बनाया निशाना
विकास टिंकर|मदनगंज-किशनगढ़.

आमजन के साथ ही अपराधी भी दिन-ब-दिन हाइटेक हो रहे हैं। हालत यहां तक पहुंच गए हैं कि चोर अब सोशल नेटवर्किंग साइट्स के स्टेटस को देखकर आपके घरों तक पहुंच रहे हैं। शहर में अब तक ऐसे तीन मामले सामने आ चुके हैं। मिर्जा बावड़ी रोड शास्त्री नगर क्षेत्र में दिनदहाड़े दो मकानों में चोरी की घटनाएं हुई थी। परिवार के सदस्य वैष्णो देवी घूमने के लिए धार्मिक यात्रा पर गए थे। पीछे से चोरों ने सामान समेट लिया।

जानकारी के अनुसार गत दिनों पूर्व हुई चोरियों की घटना में सामने आया कि पीड़ित परिवार के बाहर घूमने जाने की तस्वीरों को फेसबुक पर देखकर चोरों ने वारदातों को अंजाम दिया। चोर फेसबुक स्टेटस पढ़कर यूजर्स को खोजते हैं। इसके बाद वे सूने मकान तक पहुंचकर चोरी की वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। ये मामले सामने आने के बाद पुलिस ने अलर्ट जारी किया है। इसके साथ ही सूने मकान छोड़ने से पहले रिश्तेदारों को रखवाली के लिए छोड़ने और पुलिस को इत्तला देने की अपील की है। इसके साथ ही सोशल साइट्स का सावधानी से उपयोग करने और स्टेटस पर सभी जानकारी शेयर नहीं करने का अाग्रह किया है।

सोशल साइट्स पर रखते हैं पूरी नजर

पुलिस के अनुसार चोर सोशल साइट्स के जरिये आप पर पूरी नजर रखे हुए हैं। आपकी सुखद यात्रा की तस्वीरें सोशल साइट्स पर देखकर चोर मकान सूना होने तक का पता लगा रहे हैं। वे डिटेल खंगालकर उन मकानों तक पहुंचकर चोरी की वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। खुद पुलिस भी इस बात को स्वीकार रही है। इसलिए जनता से मकान सूना नहीं छोड़ने का अलर्ट जारी कर रही है। जनसहभागिता शिविर में भी पुलिस क्षेत्रवासियों को मकान सूना छोड़ने की बजाय अपने परिचित को दिन और रात के लिए रोककर जाने की सलाह दे रही है।

केस 1 | 4 जनवरी की देर रात को चोरों ने अजमेर रोड पर एक साथ दो मकानों को निशाना बनाया था। घटना के वक्त मकान सूना था। चोरों ने नकदी सहित सामान चुरा लिया था। चाेरों ने सोशल साइट्स की तस्वीरें देखकर सूने मकान का पता किया और वारदात को अंजाम दिया।

केस 2 | 17 अप्रैल को गांधीनगर थाना क्षेत्र में सूने मकान को चोरों ने निशाना बनाया था। परिवार के लोग तीन से चार दिन के लिए बाहर गए हुए थे। युवाओं ने सोशल साइट्स पर फोटोग्राफ्स अपलोड कर रखे थे। संभवत: चोरों को वहीं से मकान सूने होने का पता चला।

केस 3 | 22 मई को मदनगंज क्षेत्र में चोरों ने सूने मकान को निशाना बनाया था। परिवार के लोग पांच-सात दिन से बाहर गए हुए थे। घर पर कोई नहीं था। इसी का फायदा चोरों ने उठाया।

केस 4 | 14 जून गुरुवार को मिर्जा बावड़ी रोड शास्त्री नगर क्षेत्र में दो भाईयों के मकान को दिनदहाड़े चोरों ने निशाना बनाया। परिवार के लोग धार्मिक यात्रा पर वैष्णो देवी सहित अन्य स्थानों पर गए थे। पुलिस पता लगाने में जुटी है कि चोरों को मकान सूना होने की जानकारी कैसे मिली।

पुलिस ने किया अलर्ट, घर सूना छोड़ने से पहले बरतें सावधानी

घर सूना छोड़ने से पहले किसी जिम्मेदार या परिचित काे दिन और रात के लिए मकान के रखरखाव की जिम्मेदारी देकर जाएं।

मकान सूना छोड़ने से पहले चौकीदार लगाएं या पुलिस को सूचना देकर जाएं।

भ्रमण या यात्रा पर जाने की तस्वीरें सोशल साइट्स पर कुछ दिनों बाद अपलोड करें। अपराधी इन्ही तस्वीरों के जरिये मकान सूना होने का पता लगाते हैं।

मकान की छतों या बाहर सोने पर भीतर निगरानी सुनिश्चित करें।

सामान बेचने के लिए अजनबी या बाहर व्यक्तियों पर भरोसा ना करें। पहले उनके पहचान संबंधी दस्तावेज जांच लें।

संदिग्ध या बाहरी व्यक्ति की सूचना तुरंत पुलिस को दें।

शास्त्री नगर इलाके में चोरी का माैका मुआयना करती पुलिस। (फाइल फाेटो)

फेसबुक पर अपलोड करते हंै लोग घूमने की तस्वीरें, यहां से लीक होती हैं सूचना

डीएसपी ओमप्रकाश किलानिया ने बताया कि आज के समय हर कोई सोशल साइट्स का उपयोग करता है। ज्यादातर फेसबुक, इंस्टाग्राम, व्हाट्सएप शामिल है। लोग परिवार के साथ घूमने की तस्वीरें डिटेल के साथ अपलोड करते है। साथ ही कहां-कहां घूम रहे हैं ये तक जानकारी अपने फ्रेंड्स तक को दे दी जाती है। इसी का फायदा आपराधिक किस्म के लोग उठाते है। अपराधी लगातार इन सोशल साइट्स का उपयोग कर रहे है। अधिकांश लोग गर्मियों की छुटि्टयां होने के कारण परिवार के साथ घूमने जाते हैं। इसी के लिए चोर सतर्क रहते हैं। वे नेट के जरिये फेसबुक प्रोफाइल सर्च करते हैं। तस्वीरें देखकर भ्रमण पर निकले व्यक्ति का पता लगाने के लिए सर्च करना शुरू कर देते है। तस्वीरों से पता चल जाता है मकान सूना है। इसके बाद वे रैकी कर मकान सूना होने की तस्दीक करते है। इसके बाद वारदात को अंजाम देते हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kishangarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×