Hindi News »Rajasthan »Kishangarh» मार्बल गोदाम पर नाबालिग श्रमिकों में विवाद, पुलिस ने बल प्रयोग कर खदेड़ा

मार्बल गोदाम पर नाबालिग श्रमिकों में विवाद, पुलिस ने बल प्रयोग कर खदेड़ा

भास्कर न्यूज | मदनगंज-किशनगढ़ मकराना चौराहे पर मार्बल गोदाम में काम करने वाले दो नाबालिग श्रमिकों की नादानी बड़े...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 19, 2018, 04:45 AM IST

मार्बल गोदाम पर नाबालिग श्रमिकों में विवाद, पुलिस ने बल प्रयोग कर खदेड़ा
भास्कर न्यूज | मदनगंज-किशनगढ़

मकराना चौराहे पर मार्बल गोदाम में काम करने वाले दो नाबालिग श्रमिकों की नादानी बड़े विवाद का कारण बनते-बनते रह गई। दोनों के बीच हुई मारपीट के बाद दोनों ओर से सैकड़ों की संख्या में लोगों के जमा होने से माहौल तनावपूर्ण बन गया। दोनों पक्ष अामने-सामने हो गए। पुलिस को भीड़ को भगाने के लिए लाठीचार्ज करना पड़ा।

जानकारी के अनुसार मार्बल एरिया में मकराना चौराहे के पास मार्बल गोदाम में मजदूर काम करते हैं। सोमवार की सुबह 11 बजे दो नाबालिग मजदूरों में काम करते समय किसी बात पर कहासुनी हो गई और इस पर विवाद हो गया। वे देखते ही देखते धक्का मुक्की करने लगे। आपस में गुत्थमगुत्था हो गए और मारपीट करने लगे। ये देखे मौके पर अन्य श्रमिक जमा हो गए। दोनों मजदूरों ने अपने-अपने परिचितों को फोन कर दिया। कुछ ही देर में दोनों पक्षों के सैकड़ों लोग जमा होे गए। मजदूरों ने आते ही मारपीट शुरू कर दी। जिससे विवाद और बढ़ गया। घटना की सूचना गांधीनगर थाना पुलिस को मिलते ही तुरंत एसएचओ भागसिंह मय जाप्ता मौके पर पहुंचे और भीड़ को हटाने के लिए लाठीचार्ज शुरू कर दिया। पुलिस ने लाठियां भांजी तो मौके से मजदूर और तमाशबीन भागते नजर आए। पुलिस ने मिनटों में भीड़ काे भगाकर स्थिति को नियंत्रण में किया। पुलिस ने दोनों मजदूरों को शांतिभंग के आरोप में हिरासत में लिया। पूछताछ में दोनों मजदूर नाबालिग निकले। दोनों की उम्र 17 साल निकली। पुलिस ने परिवार के लोगों को थाने बुलाकर समझाइश की और उन्हें छोड़ दिया।

समय रहते पुलिस नहीं पहुंचती तो बढ़ सकता था मामला

मदनगंज-किशनगढ़. मकराना चौराहे पर विवाद के बाद पहुंची गांधीनगर पुलिस मजदूरों को थाने ले जाती हुई।

दोनों थानों की पुलिस दिनभर गश्त करती रही

मकराना चौराहे पर दो बाल मजदूरों के विवाद के बाद हुए तनावपूर्ण माहौल के मद्देनजर गांधीनगर थाना पुलिस और मदनगंज थाना पुलिस ऐहतियात के तौर पर क्षेत्र में गश्त करती रही। इसके अलावा पुलिस दोनों पक्षाें के मौजिज लोगों और परिवार के लाेगों को थाने बुलाकर समझाती रही। ताकि विवाद को समाप्त कर दें। पुलिस को ये प्रयास सफल भी रहा और उग्र होता विवाद समय रहते ही समाप्त हो गया।

मार्बल एरिया में बड़ी संख्या में काम कर रहे हैं बाल श्रमिक

मार्बल एरिया में नाबालिग मजदूरों के बीच हुए विवाद से उनकी बाल मजदूर होने का पता चला। न हकीकत ये है कि गांधीनगर क्षेत्र में अनगिनत संख्या में बाल मजदूर काम कर रहे है। जिनकी उम्र 12 साल से लेकर 17 साल के बीच है। इस ओर ना तो श्रम विभाग कोई कार्रवाई करता है और ना ही प्रशासन। नाबालिग बच्चों से पत्थर काटने से लेकर, थप्पियां उठाना, फिलिंग तक का काम कराया जाता है।

सूत्रों के अनुसार घटना महज पांच से दस मिनट के बीच हुई। नाबालिग मजदूरों के बीच हुई मारपीट की सूचना उनके परिवार वालों को मिलते ही गांधीनगर क्षेत्र में ही रह रहे उनके परिवार के लोग और अन्य मजदूर आनन-फानन में मार्बल गोदाम पर पहुंच गए और आपस में भिड़ गए। पांच मिनट में सैकड़ों लोगों की भीड़ जमा होने से रैला लग गया। मजदूरों ने हाथों में पत्थर उठा लिया। मौके पर सांप्रदायिक विवाद की आशंका बढ़ गई। पुलिस ने आते ही भीड़ को भगाने के लिए लाठी बरसाना शुरू कर दिया। इसके बाद तमाशबीन और असामाजिक तत्वों के लोग मौके से भाग छूटे। पुलिस ने वीडियोग्राफी भी शुरू करवा दी जिससे आसपास में खड़े लोग भी स्वत: ही रवाना हो गए।

दोनों नाबालिग थे

दो मजदूरों में किसी बात को लेकर मारपीट और विवाद हो गया था। दोनों के परिचितों के आने और तमाशबीनों के खड़े होने से भीड़ जमा हो गई। मौके पर पहुंचकर भीड़ को भगाकर मजदूरों को थाने लाया गया। लेकिन दोनों नाबालिग निकले। दोनों के परिवार वालों और मौजिज लाेगों को समझाकर सुपुर्द कर दिया गया। भागसिंह, एसएचओ, गांधीनगर थाना

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kishangarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×