Hindi News »Rajasthan »Kishangarh» मुख्य आरोपी का रिमांड दो दिन बढ़ाया, तीन आरोपियों को जेल

मुख्य आरोपी का रिमांड दो दिन बढ़ाया, तीन आरोपियों को जेल

भास्कर न्यूज|मदनगंज-किशनगढ़ नसीराबाद हाइवे पर चार दिन पूर्व उदयपुर कलां के पास हत्या कर चलती कार से जीजा का शव...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 15, 2018, 04:45 AM IST

मुख्य आरोपी का रिमांड दो दिन बढ़ाया, तीन आरोपियों को जेल
भास्कर न्यूज|मदनगंज-किशनगढ़

नसीराबाद हाइवे पर चार दिन पूर्व उदयपुर कलां के पास हत्या कर चलती कार से जीजा का शव फेंकने के मामले में गिरफ्तार चारों आराेपी की रिमांड अवधि पूरी होने पर गुरुवार को पुलिस ने आरोपियों को कोर्ट में पेश किया। जहां से तीन आरोपी को न्यायिक अभिरक्षा में भेजा गया जबकि मुख्य आरोपी साले किशन को दो दिन के पुलिस रिमांड पर सौंपा गया है। इससे पूर्व पुलिस हत्या प्रयुक्त कार को भी बरामद कर चुकी है। इसी कार में जीजा की हत्या की गई थी।

किशनगढ़ थाना पुलिस के अनुसार 10 जून शनिवार की शाम को नसीराबाद हाइवे पर चलती कार एसवीयू से एक युवक का शव फेंककर कार सवार बदमाश फरार हो गए थे। मृतक की पहचान बांदरसिंदरी निवासी रामनिवास बलाई (35) पुत्र जगदीश बलाई के रूप में हुई। मृतक के परिजनों ने रामनिवास के शुक्रवार को बिजयनगर निवासी अपने साले किशन भांभी के पास जाने की बात कही थी। पुलिस ने किशन के बारे में जानकारी निकाली तो पुलिस को सुराग मिलता चला गया। पुलिस ने प्रकरण में आरोपी साला किशन भांभी (30), चमन (25) पुत्र छगनलाल जाट, कालू (22) पुत्र महावीर जाट को हिरासत में लेकर पूछताछ की। पूछताछ में आरोपियों ने वारदात कबूल कर ली। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। अारोपियों पूर्व में रिमांड पर चल रहे थे। प्रकरण में चौथा आरोपी सत्यनारायण पुत्र सोहनदास वैष्णव को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। चारों आरोपी को गुरुवार को कोर्ट में पेश किया गया जहां से आरोपी चमन, कालू और सत्यनारायण को न्यायालय ने जेल भेज दिया गया। जबकि मुख्य आरोपी साला किशन भांभी को दो दिन के रिमांड पर सौंपा गया। मालूम हो कि किशन भांभी को महंगी कार खरीदने का शौक था। उसने अपने जीजा रामनिवास के नाम सफेद रंग की एसवीयू खरीदी। जिसकी कीमत करीब 22-23 लाख रुपए थी। कार किश्तों में खरीदी। लेकिन किशन किश्तें भी नहीं चुका पाया। उस पर लगातार किश्तें डयू होने से कर्ज बढ़ता चला गया। इस दौरान किशन ने साढ़े सोलह लाख की बीमा पॉलिसी करवा ली। लगातार बढ़ते कर्ज के कारण किशन को ख्याल आया कि उसके जीजा के नाम कार है और उसकी मृत्यु पर किश्त भी नहीं जमा करानी पड़ेगी और साढ़े सोलह लाख की पॉलिसी के पैसे भी मिल जाएंगे।

पुलिस की गिरफ्त में हत्या के आरोपी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kishangarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×