--Advertisement--

जहां मन स्वच्छ, वहीं सरस्वती का वास

भास्कर न्यूज | मदनगंज किशनगढ़ सिटी रोड जैन भवन में रविवार को मुनि पूज्य सागर महाराज ने बच्चों को विद्या की देवी...

Dainik Bhaskar

Jul 02, 2018, 04:45 AM IST
जहां मन स्वच्छ, वहीं सरस्वती का वास
भास्कर न्यूज | मदनगंज किशनगढ़

सिटी रोड जैन भवन में रविवार को मुनि पूज्य सागर महाराज ने बच्चों को विद्या की देवी सरस्वती की आराधना के बारे में जानकारी दी। मुनि श्री ने कहा कि- “बच्चों का स्कूल का नया सेशन शुरू हो रहा है। उनके इस सेशन की शुरुआत सरस्वती आराधना से हो, इसीलिए सरस्वती आराधना का आयोजन किया गया है। मुनि श्री ने कहा कि जो बच्चे क्रोध करते हैं उनके अंदर सरस्वती का वास नहीं होता। सरस्वती का वास उसी के अंदर होता, जिसका मन स्वच्छ हो। पढ़ाई करते समय विचारों की स्वच्छता रखना आवश्यक होता है।

उन्होंने कहा कि ‘जो बच्चा अपने कमरे की सफाई स्वयं करता है, अपने कमरे में जूते-चप्पल नहीं ले जाता, सरस्वती माता के सामने दीपक प्रज्ज्वलित करता है, उन्हें सफेद पुष्प अर्पित करता है, माता-पिता के चरण स्पर्श करता है, सुबह 4 से 6 बजे तक पढ़ता है, उसके अंदर सरस्वती का प्रवेश होता है। मां सरस्वती अनुशासनहीनता पसंद नहीं करतीं। बच्चों को हमेशा पश्चिम दिशा में मुख कर पढ़ना चाहिए।’ महाराज श्री ने दो मंत्र बताए- ऊं ह्रीं ऐं ह्रीं सरस्वत्यै नमः, ऊं ह्रीं नमः। इन मंत्रों का पढ़ाई करने से पहले कम से कम 9 बार जाप करना चाहिए। उन्होंने कहा कि भक्तामर स्तोत्र के 6 नंबर के काव्य का पाठ भी प्रतिदिन करना चाहिए और उसका अर्घ्य भी चढ़ाना चाहिए। पढ़ाई के समय काले कपड़ों का उपयोग नहीं करना चाहिए। सरस्वती आराधना में सकल दिगम्बर जैन समाज के बच्चों के साथ धर्म सागर विद्यालय एवं सुधासागर प्राकृत पाठशाला के बच्चों ने मंत्र आराधना संस्कार कराए। इस दौरान जैन समाज के सुशील गंगवाल, कमल बैद, महावीर बड़जात्या, बाबूलाल बैद, शैलेन्द्र अजमेरा, मुकेश बाकलीवाल, चिराग बड़जात्या, सुभाष चौधरी, जानू चौधरी सहित आदि उपस्थित थे।

मदनगंज किशनगढ़. अाराधना शिविर में बच्चों को आशीर्वाद देते मुनि पूज्य सागर।

मुनि श्री ने किया केशलोचन

जैन भवन में अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्य सागर महाराज का केशलोचन सुबह 5 बजे किया। इसे देखने के लिए बड़ी संख्या में जैन समाज के लोग मौजूद रहे। महाराज ने बताया कि जैन साधु के 28 मूल गुणों में यह एक आवश्यक क्रिया है, जो उसे करनी ही है ।

मुनि का 39वां जन्म दिवस कल

मुनिसुव्रत पंचायत के अध्यक्ष विनोद पाटनी ने बताया कि मुनि श्री पूज्य सागर महाराज का 39वां जन्मदिवस मंगलवार को धूमधाम से मनाया जाएगा। इसके अंतर्गत विशेष प्रवचन, भद्रबाहु विधान, गुरुपूजन, पाद प्रक्षालन, पिच्छी परिवर्तन, आरती, भजन संध्या का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। यह सभी कार्यक्रम जैन भवन में होंगे। 3 जुलाई को होने वाले आचार्य भद्र बाहु स्वामी विधान में जो जोड़े बैठेंगे, उनके सिर पर मुनि श्री द्वारा लौंग, केसर से सरस्वती का संस्कार होगा और एक मंत्र भी दिया जाएगा।

X
जहां मन स्वच्छ, वहीं सरस्वती का वास
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..