--Advertisement--

जलदाय अफसर कलेक्टर को समय रहते बता देते तो यह न होता

भीषण गर्मी में पानी की किल्लत झेल रहे अजमेर जिले के नागरिकों, जलदाय अधिकारियों द्वारा यदि समय रहते जिला कलेक्टर को...

Dainik Bhaskar

Jun 10, 2018, 04:50 AM IST
जलदाय अफसर कलेक्टर को समय रहते बता देते तो यह न होता
भीषण गर्मी में पानी की किल्लत झेल रहे अजमेर जिले के नागरिकों, जलदाय अधिकारियों द्वारा यदि समय रहते जिला कलेक्टर को थडोली पंप हाउस ट्रांसफार्मर के खराब होने की सूचना दे दी जाती तो शहरवासियों को मौजूदा जल संकट का सामना नहीं करना पड़ता। फिलहाल, जिन इलाकों में शनिवार को पानी मिलना था उन्हें रविवार को व जिन्हें रविवार को मिलना था उन्हें साेमवार को पानी मिलेगा। इस तरह जल सप्लाई का अंतराल अभी 48 की बजाय 72 घंटे रहेगा।

इसका कारण बीसलपुर परियाेजना के थडोली इंटेक पंप हाउस में कंट्रोलर ट्रांसफार्मर पावर ट्रांसमीशन (सीटीपीटी) सिस्टम खराब होना है। सिस्टम ठीक किया जा रहा है। फिलहाल जयपुर डिस्कॉम से सप्लाई जोड़कर पंपिंग शुरू कर दी गई है। जिलेभर में खाली हो चुके वितरण सिस्टम को शनिवार की पूरी रात पंपिंग कर भरा जाएगा। इस पूरे मामले में जलदाय महकमे के अफसरों की घोर लापरवाही सामने आई है। जिला कलेक्टर ने इसके लिए उन्हें फटकार भी लगाई।

जानकारी के मुताबिक शुक्रवार की देर रात लाइन में फाल्ट आ गया। इससे थडोली पंपिग स्टेशन पर आठ घंटे बिजली बंद रही। सीटीपीटी सिस्टम ने काम करना बंद कर दिया। इसकी वजह से पूरे जिले में पानी का वितरण नहीं हो पाया। सिस्टम ठीक करने का काम शनिवार की सुबह आठ बजे बाद शुरू हुआ। अफसरों ने जिला कलेक्टर आरती डोगरा को सुबह साढ़े दस बजे सूचित किया। कलेक्टर ने देरी से सूचित करने पर अफसरों को फटकारा। चूंकि डोगरा बिजली कंपनी में भी रहीं हैं, इसीलिए उन्होंने बिना देरी किए जयपुर डिस्कॉम से सप्लाई हेतु प्रमुख शासन सचिव से संपर्क किया। जयपुर से बिजली मिलते ही सुबह करीब साढ़े 11 बजे पंपिंग आरंभ हाे गई।

शहर में पानी और 24 घंटे देरी से मिलेगा

जिन इलाकों में गुरुवार को सप्लाई दी गई थी, वहां अब रविवार को आपूर्ति

केकड़ी. थडोली पंपिंग स्टेशन पर सीटीपीटी सिस्टम को दुरुस्त करते कर्मचारी।

तालमेल की कमी से बिगड़ी व्यवस्था

1. जलदाय विभाग और बिजली महकमे के बीच तालमेल के अभाव ने खेल बिगाड़ा। बीसलपुर परियोजना के अधिशासी अभियंता कालूराम मीणा का कहना है कि शुक्रवार रात करीब 2.50 बजे यह बिजली व्यवधान आया था। लाइन फाॅल्ट और ट्रांसफार्मर में दिक्कत की वजह से हुए व्यवधान के बारे में बिजली निगम को सूचना करवाई, लेकिन कंट्राेल रूम पर फाेन नहीं उठाते। शनिवार सुबह आठ बजे जाकर खामी को दुरुस्त करवाने का प्रयास हुआ।

2. डिस्कॉम के निवाई के एक्सईएन दिनेश कनाेजिया का कहना है कि उनकी ओर से कोई कोताही नहीं बरती गई है। थडोली में जिस करंट ट्रांसफार्मर में खराबी थी वह जलदाय विभाग का अपना ट्रांसफार्मर है। कनौजिया ने यह तक कह दिया कि वैसे भी एक बार में यदि वर्ष के दाैरान तकनीकी खराबी आ जाती है ताे कोई दिक्कत वाली बात नहीं है।

कलेक्टर को तुरंत बताते तो नहीं बिगड़ती स्थिति

बीसलपुर डैम टोंक जिले में है। टोंक को जयपुर डिस्कॉम से विद्युत आपूर्ति होती है। थडोली को अजमेर डिस्कॉम से मिलती है। थडोली में आपूर्ति प्रभावित होती है तो जयपुर डिस्कॉम से ली जा सकती है। इसके लिए उच्च स्तर पर ही प्रयास होते हैं। जैसे कि 2015 में हुए थे। शुक्रवार की तड़के आपूर्ति प्रभावित होते ही यदि कलेक्टर को तत्काल सूचित कर दिया जाता तो जयपुर से आपूर्ति लेकर पंपिंग शुरू की जा सकती थी। लेकिन सात घंटे बाद कलेक्टर को बताया गया। कलेक्टर सूचना मिलते ने एक घंटे बाद ही बिजली की व्यवस्था हो गई और पंपिंग का काम शुरू हो गया।

जलदाय महकमे ने शनिवार की सुबह उन इलाकों में पानी की सप्लाई दे दी गई जहां सप्लाई तय थी। ऐसा इसलिए हो पाया क्योंकि टंकियों में पानी था। लेकिन अब रविवार को सप्लाई नहीं हो पाएगी। शनिवार की रात पंपिंग के जरिए सबसे पहले इन टंकियों को भरा जाएगा। अधिकांश इलाकों में सप्लाई 24 घंटे देरी से 72 घंटे में हो पाएगी। जिन इलाकों में गुरुवार को सप्लाई दी गई थी, उनमें रविवार को, जिन इलाकों में शनिवार को सप्लाई दे दी गई वहंा मंगलवार तक सप्लाई होगी।

2015 में भी आई थी खराबी

2015 में भी सीटीपीटी सिस्टम खराब हो गया था, लेकिन अफसरों की सतर्कता की वजह से चार घंटे में ठीक हो गया था। तब जयपुर से लाइन लेने में देरी नहीं की गई थी। सीटीपीटी सिस्टम की स्टैंडबाइ के रूप में वैकल्पिक व्यवस्था भी की गई।

केकड़ी, बिजयनगर, किशनगढ़ में भी असर | केकड़ी, बिजयनगर, किशनगढ व बीसलपुर पाइपलाइन से जुड़े गांवों में भी पेयजल आपूर्ति प्रभावित रहेगी।

X
जलदाय अफसर कलेक्टर को समय रहते बता देते तो यह न होता
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..