Hindi News »Rajasthan »Kishangarh» अल्पमत में बनती हैं सरकारें, ठेका हटाने के लिए चाहिए पूर्ण बहुमत!

अल्पमत में बनती हैं सरकारें, ठेका हटाने के लिए चाहिए पूर्ण बहुमत!

भास्कर न्यूज| मदनगंज-किशनगढ़ केंद्र सरकारों से लेकर प्रदेश में कुल मतदान के 20 से 30 प्रतिशत वाेट प्राप्त करने...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 10, 2018, 04:50 AM IST

अल्पमत में बनती हैं सरकारें, ठेका हटाने के लिए चाहिए पूर्ण बहुमत!
भास्कर न्यूज| मदनगंज-किशनगढ़

केंद्र सरकारों से लेकर प्रदेश में कुल मतदान के 20 से 30 प्रतिशत वाेट प्राप्त करने वाली पार्टियां सरकार बना लेती हैं। राजस्थान में कुल मतदान का 36.92 प्रतिशत वोट पाकर सरकारें बनी हैं तो केंद्र की वर्तमान सरकार कुल मतदान का 31 प्रतिशत वोट लेकर सत्ता में है, लेकिन डींडवाड़ा के टिहरी के लोग पंचायत में शराब की दुकान बंद करने के लिए सरकार 51 प्रतिशत मतदान को ही आधार मान रही है।

यहां के ग्रामीणों का कहना है कि सरकार को बरसों पुराने नियमों में बदलाव कर सिर्फ ग्राम सभा के प्रस्ताव के आधार पर ही शराब के ठेकों को बंद करवाने की व्यवस्था करवानी चाहिए। महिलाओं का कहना है कि शराब के कारण यहां के कई परिवार बर्बाद हो रहे है। इसलिए टिहरी क्षेत्र में शराब की अवैध दुकानें बंद करवाकर ही दम लेंगे। मतदान से नहीं तो लाठी के दम पर अवैध ठेके बंद करवाएंगे। टिहरी के ग्रामीणों ने दिया था कलेक्टर को ज्ञापन ग्राम पंचायत डींडवाड़ा के ग्रामीणों ने बुधवार को ग्राम टिहरी तहसील में संचालित शराब की अवैध ब्रांचाें को बंद कराने की मांग की थी। ग्रामीणों ने कलेक्टर को दिए ज्ञापन में बताया कि टिहरी में शराब की अवैध ब्रांचें चल रही है। शराबी आए दिन गांव में महिलाआें से अभद्रता करते हैं और गालियां निकालते है। महिलाओं का घर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है। पुलिस की गाडी भी 4-5 दिन से गांव के बाहर से गुजरती है लेकिन कोई कार्रवाई नहीं करती। ज्ञापन देने वालों में धापू कंवर, कमल, रेणू कंवर, कानी, छोटी, लक्ष्मण सिंह, सीमा, दशरथ सिंह, नेराज, मना, रतन कंवर, लाडा देवी, पप्पू कंवर, विद्या, रामकुमारी, कैलाश कंवर, कविता, समझ कंवर, कुंदन कंवर, प्रकाश कंवर, रतनलाल, मोहनलाल, गीता, पूजा, टिंकू प्रजापत, नंदू कंवर, टीना देवी आदि शामिल थे।

यह है राजस्थान एक्साइज एक्ट

1950 सेक्शन 41 -नियम 3 में बताया गया है कि किसी पंचायत या वार्ड में शराब की दुकान तब बंद कराई जा सकती है। जब यदि पंचायत के कुल मतदाताआें के 51 प्रतिशत या इससे अधिक ठेके के खिलाफ मतदान करते है। -नियम 4 के अनुसार किसी पंचायत या वार्ड के एक दहाई मतदाता फार्म संख्या एक के जरिये हस्ताक्षर युक्त शिकायत एसडीओ को दें। -नियम 5 के अनुसार आवेदन मिलने पर एसडीओ क्षेत्र में जाकर जांच करेगा। वोटर्स और हस्ताक्षर करने वाले वही लोग आैर एक दहाई संख्या में है, इस बात की पुष्टि होने पर एसडीओ एक्साइज कमिश्नर को यह पत्र फॉरवर्ड करेगा। -नियम 6 अनुसार एक्साइज कमिश्नर एसडीओ की रिपोर्ट को कंसिडर करेगा। प्रक्रिया नियम अनुसार होने पर कमिश्नर संबंधित कलेक्टर को शराब की दुकान बंद करने या नहीं करने के लिए मतदान कराने के लिए निवेदन करेगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kishangarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×