Hindi News »Rajasthan »Kishangarh» कांस्टेबल भर्ती परीक्षा... जिले में दस घंटे इंटरनेट सेवा ठप, आज भी रहेगी

कांस्टेबल भर्ती परीक्षा... जिले में दस घंटे इंटरनेट सेवा ठप, आज भी रहेगी

कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के कारण शनिवार को अजमेर जिले में 10 घंटे इंटरनेट सेवाएं ठप रहीं। परीक्षा रविवार को भी होनी...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 15, 2018, 04:50 AM IST

  • कांस्टेबल भर्ती परीक्षा... जिले में दस घंटे इंटरनेट सेवा ठप, आज भी रहेगी
    +1और स्लाइड देखें
    कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के कारण शनिवार को अजमेर जिले में 10 घंटे इंटरनेट सेवाएं ठप रहीं। परीक्षा रविवार को भी होनी है, लिहाजा सेवाएं रविवार को भी ठप रहेंगी। जिले के अजमेर शहर, ब्यावर, किशनगढ़, केकड़ी शहरों के 10 लाख से ज्यादा यूजर्स परेशान रहे। नेट बंद होने के कारण कॉलिंग अचानक बढ़ गई। इससे कॉलड्रोप की समस्या भी सामने आई। बातचीत के दौरान वॉयस क्लियर नहीं आने से लोग खासा परेशान हुए। कैशलेस सिस्टम तो पूरी तरह से पटरी से उतर गया। शहर में 12 हजार प्रतिष्ठानों पर स्वैप मशीनें लगी हैं, रोजाना करोड़ों का ऑनलाइन पेमेंट इनके जरिए होता है। लेकिन स्वैप मशीनों का नेटवर्क ठप था, इस कारण ग्राहक ऑनलाइन पेमेंट नहीं कर सके। पेट्रोल पंपों पर बुरे हाल रहे, कार्ड से पेमेंट नहीं होने के कारण कुछ एक पंपों पर तो ग्राहक व पंप संचालक के बीच झगड़े तक की नोबत आ गई। बगैर इंटरनेट के दिन की शुरूआत पर भास्कर ने जब शहरवासियों की प्रतिक्रिया जानी तो एकस्वर में बोले सभी - पुलिस व प्रशासन अपने सिस्टम को फुलप्रूफ बनाएं न कि इंटरनेट सेवाएं बंद कर लोगों को परेशान करें। पूर्व में इससे ज्यादा अभ्यर्थी संख्या वाली परीक्षाएं आयोजित होती रही हैं, लेकिन इस तरह से इंटरनेट बंद कभी नहीं हुआ।

    शुक्र है - लीज लाइन चालू थी, वरना बिगड़ जाती बैंकिंग व्यवस्था | बैकिंग सेवाएं, रेलवे रिजर्वेशन आैर अन्य आवश्यक कार्य प्रभावित नहीं हुए क्योंकि लीज लाइन आैर ब्रॉडबैंड सर्विस चालू थी। यदि यह सर्विस भी बंद होती तो एक दिन के नुकसान के आंकड़े का ग्राफ आैर ज्यादा बढ़ जाता।

    हाय! यह किसकी परीक्षा? कांस्टेबल बनाने के लिए या आमजन को परेशान करने के लिए

    25 लाख से अधिक कॉल्स, कॉलड्रॉप की रही समस्या

    कई सेवाएं पटरी से उतरीं

    इंटरनेट बंद से मोबाइल बैंकिंग, शेयर-ट्रेडिंग, ऑनलाइन खरीदारी, फीस जमा करना, आरटीजीएस सहित कई अन्य आवश्यक व्यवस्थाएं बिगड़ पटरी से उतर गई। लोगों में इंटरनेट बंद के इस तुगलकी फरमान के प्रति गुस्सा देखने को मिला।

    नकल रोकने के दूसरे प्रभावी तरीके अपनाएं जाएं न कि आमजन को परेशान करने वाले तरीके

    नौकरीपेशा विजय जोशी, अरूण, आनंद, जय कुमार आैर गजराजसिंह ने कहा कि बगैर इंटरनेट बंद किए पुलिस नकल रोकने के अन्य प्रभावी तरीके अपना सकती थी। लेकिन मेहनत से बचने के लिए पुलिस ने आमजन को परेशान करने वाला तरीका अपनाया।

    छोटी से छोटी बात के लिए भी जमकर हुई वॉयस कॉलिंग तो बढ़ी कॉलड्राॅप की समस्या

    एयरटेल, वोडोफोन, रिलायंस जिआे, बीएसएनएल, आइडिया, टाटा डोकोमो सहित अन्य नेटवर्क प्रदाताओं की सिम इस्तेमाल करने वाले लोगों को छोटी-छोटी से बात करने के लिए कॉलिंग करनी पड़ी। वॉट्सअप मैसेजिंग का सबसे आसान तरीका है, लेकिन इंटरनेट बंद होने के कारण यह पूरी तरह से ठप हो गया। लोगों को जरूरी मैसेज से लेकर छोटे-छोटे कामों के लिए वॉयस कॉलिंग करनी पड़ी। अकेले अजमेर जिले में इस एक दिन में करीब 25 लाख से अधिक कॉल्स हुए। इससे कॉलड्रोप की समस्या बढ़ गई।

    रिचार्ज नहीं हो सका, मनी ट्रांसफर भी नहीं आैर न ही जमा हो सकी फीस

    कुछ नेटवर्क प्रदाता खास एप्लीकेशन के माध्यम से रिचार्ज करते हैं, इसी से डीटीएच रिचार्ज भी होता है। शहर में रोजाना यह करीब 15 लाख रुपए का रिचार्ज होता है, लेकिन इंटरनेट बंद होने के कारण यह ठप हो गया। ई-वॉल्ट के माध्यम से मनी ट्रांसफर ही नहीं बल्कि ऑनलाइन फीस जमा कराने का सिस्टम भी पूरी तरह से ठप हो गया।

    जिलेभर में 10 हजार से अधिक दुकानों पर स्वैप मशीनें लगी हैं, लेकिन इंटरनेट बंद होने के कारण यह मशीनें बंद हो गईं। दुकानों के बाहर सूचना चस्पा करनी पड़ी।

    साठ से अधिक बसें लगाई, तीनों ही कंट्रोल रूम में बैठे रहे अधिकारी

    सिटी रिपोर्टर | अजमेर

    घाटे में चल रही रोडवेज के लिए कांस्टेबल भर्ती परीक्षा खुशियां लेकर आई। दो दिनों से रोडवेज की सभी बसें यात्रियों से खचाखच भरकर चल रही हैं। परीक्षार्थियों की संख्या को देखते हुए रोडवेज ने हर डिपो में अतिरिक्त बसें लगवाई। अकेले अजमेर व अजयमेरू डिपो में साठ बसें अतिरिक्त लगाई गईं। देर शाम तक इन बसों को भी अलग अलग मार्ग पर भेज दिया गया।

    अजमेर डिपो के यातायात प्रबंधक त्रिलोक वैष्णव ने बताया कि शुक्रवार शाम से ही परीक्षार्थियों की भीड़ आना शुरू हो गई थी।

    सबसे अधिक जयपुर व जोधपुर मार्ग पर बसों की डिमांड रही। मुख्यालय से मिले निर्देशों के बाद पहले ही प्रशासन ने अतिरिक्त बसें वर्कशॉप में खड़ी करवा ली थी। शुक्रवार शाम से शनिवार सुबह तक तीस बसें जयपुर व जोधपुर मार्ग पर भेजी गई। शनिवार शाम पेपर छूटने के बाद रोडवेज बस स्टैंड पर उमड़ी परीक्षार्थियों की भीड़ को देखते हुए अधिकारियों ने बसों को डिमांड के अनुसार अलग अलग रूट पर भेज दिया, इस कारण स्टैंड पर ज्यादा भीड़ नहीं रही। अजयमेरू के मुख्य प्रबंधक ओमप्रकाश शर्मा व अजमेर डिपो के अनिल पारीक कंट्रोल रूम से बसों की मॉनिटरिंग कर रहे थे। शाम को भीलवाड़ा रूट पर परीक्षार्थियों की संख्या अधिक थी। इस कारण अन्य मार्ग से बसें हटाकर डिमांड वाले रूट पर भेजी गई।

    कांस्टेबल भर्ती परीक्षा समाप्त होने के बाद शनिवार शाम को रोडवेज बस स्टैंड पर अभ्यर्थियों की भीड़। अजमेर में कई जिलों के अभ्यर्थी परीक्षा देने पहुंचे थे।

    दुकानदारों ने पोस्टर किए चस्पा - आज व कल नहीं दे सकेंगे पीएम मोदी के केशलैस सिस्टम को बढ़ावा, कैश पेमेंट ही करें

    इंटरनेट सेवाएं बंद होने के कारण ऑनलाइन पेमेंट मोड बेपटरी हो गया। पीएम मोदी के केशलैस सिस्टम को बढावा देने के लिए जिलेभर 10 हजार से अधिक दुकानों पर स्वैप मशीनें लगी हैं, लेकिन इंटरनेट बंद होने के कारण यह मशीनें बंद हो गईं आैर दुकान ऑनलाइन से ऑफलाइन मोड पर गए। कई दुकानदारों ने तो बाकायदा पोस्टर चस्पा लिखा कि “आज व कल नहीं दे सकेंगे पीएम मोदी के केशलैस सिस्टम को बढ़ावा, कैश पेमेंट ही करें।’

    पुलिस भर्ती परीक्षा का पहला दिन

    सुपर मार्केट, ज्वैलरी बाजार, इलेक्ट्रॉनिक्स व इलेक्ट्रिकल, कपड़ा बाजार सहित अन्य बाजारों में शहर में 12 हजार से अधिक स्वैप मशीनें लगी हैं। इंटरनेट बंद होने के कारण यह मशीनें बंद हो गई आैर इससे ऑनलाइन पेमेंट नहीं हो सका। इन बाजारों में रोजाना करीब 50 लाख से 1 करोड़ के बीच ऑनलाइन पेमेंट होता है। ऑफलाइन में यह घटकर 25 फीसदी तक आ पहुंचा।

  • कांस्टेबल भर्ती परीक्षा... जिले में दस घंटे इंटरनेट सेवा ठप, आज भी रहेगी
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kishangarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×