Home | Rajasthan | Kishangarh | पेरिस की आर्ट गैलेरी में छाएगा किशनगढ़

पेरिस की आर्ट गैलेरी में छाएगा किशनगढ़

श्याम मनोहर पाठक|मदनगंज-किशनगढ़ किशनगढ़ चित्रकारिता की महक पेरिस के आर्ट गलियारे में महकेगी। पेरिस के आर्ट...

Bhaskar News Network| Last Modified - Jun 30, 2018, 04:55 AM IST

1 of
पेरिस की आर्ट गैलेरी में छाएगा किशनगढ़
श्याम मनोहर पाठक|मदनगंज-किशनगढ़

किशनगढ़ चित्रकारिता की महक पेरिस के आर्ट गलियारे में महकेगी। पेरिस के आर्ट गलियारे में 6 से 12 जुलाई तक बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के तत्वावधान में आर्ट गैलरी सजाई जाएगी। इसमें भारत के ख्याति प्राप्त चित्रकार अपनी कला का प्रदर्शन करेंगे। इस प्रदर्शनी में भाग लेने के लिए राजस्थान से दो कलाकारों का चयन किया गया। इसमें डाॅ. नाथूलाल वर्मा व चित्रकारिता के व्याख्याता व संस्था प्रधान राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल किशनगढ़ के पवन कुमार कुमावत का चयन हुआ है।

जानकारी के अनुसार राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय पुरस्कारों से पुरस्कृत चित्रकार पवन कुमावत किशनगढ़ शैली को अलग ही रूप में निखारने का कार्य किया है। रलावता में पैदा हुए कुमावत अपने संघर्ष के कारण जाने जाते है। गुरु व बड़े भाई बृजमोहन कुमावत ने बचपन में इन्हें ब्रश पकड़ाया। तब से पवन कुमावत ने पीछे मुड़ कर नहीं देखा और विभिन्न अंदाज में चित्रकारिता कर किशनगढ़ शैली को नया आयाम दिया। तीन जुलाई को कुमावत टीम के साथ पेरिस के लिए रवाना होंगे। कुमावत को दो बार कालीदास पर चित्रकारिता को लेकर राष्ट्रीय अकादमी पुरस्कार से नवाजा गया है।

पेरिस में छाएगी कालीदास पर बनी चित्रकारिता

संस्था प्रधान व ख्यातिप्राप्त चित्रकार कुमावत पेरिस में किशनगढ़ शैली को आधार मानकर अपनी पारम्परिक तकनीकी से नायक नायिका को कालीदास की रचना के साथ जोड़कर प्रदर्शित करेंगे। इसमें खासकर नखक्षतांगी, मेघवार्ता, मनमोहिनी, प्रेमाग्नि, चुगलखोर, पंचागी भ्रमरावृत्ति, अठखेली भ्रमरी शीर्षक सहित अन्य विषयों को जलीय रंगो के साथ बिखेरेंगे। कुमावत ने बताया कि राजस्थान विश्वविद्यालय से सेवानिवृत्त प्रोफेसर नाथूलाल वर्मा भी राजस्थानी चित्रकारिता का जीवंत चित्रण करेंगे। वह भारतीय शैली में राग रागिनियों, नायक नायिकाओं, गीत गोविंद जैसे विषयों पर मौलिक चित्रों को प्रदर्शित करेंगे।

चित्रकारिता को जिंदा रखा

चित्रकार पवन कुमार न केवल चित्रकार है अपितु किशनगढ़ के राजकीय स्कूलों से खत्म होती चित्रकारिता को जिंदा रखने का कार्य किया है। कुमावत का किशनगढ़ के सभी राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूलों में चित्रकारिता विषय खुलवाने में महत्वपूर्ण योगदान है। इस कार्य में विधायक भागीरथ चौधरी का विशेष योगदान रहा। राजकीय स्कूलों में चित्रकारिता विषय खुलने के कारण ही शिक्षा आयुक्तालय ने राजकीय कालेज में पीजी स्तर पर चित्रकला विषय खोला जो किशनगढ़ के लिए बड़ी उपलब्धि है।

पवन कुमावत की बनाई कलाकृति।

पेरिस की आर्ट गैलेरी में छाएगा किशनगढ़
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now