• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Kishangarh News
  • तीन साल पहले मुख्य आरोपी के निशाने पर था चौधरी, कार से पीछा कर किया था हमले का प्रयास!
--Advertisement--

तीन साल पहले मुख्य आरोपी के निशाने पर था चौधरी, कार से पीछा कर किया था हमले का प्रयास!

हाऊसिंग बोर्ड में मकान में छिपकर रह रहे बदमाशों का मुख्य सरगना जितेंद्र सिंह तीन साल पहले भी किशनगढ़ आ चुका है।...

Dainik Bhaskar

Jul 12, 2018, 04:55 AM IST
हाऊसिंग बोर्ड में मकान में छिपकर रह रहे बदमाशों का मुख्य सरगना जितेंद्र सिंह तीन साल पहले भी किशनगढ़ आ चुका है। गांधीनगर थाने का हिस्ट्रीशीटर विश्राम चौधरी जितेंद्र के निशाने पर था। उस पर हमला करने की नीयत से जितेंद्र ने चौधरी की कार का पीछा कर फायर किया था। आरोपी जितेंद्र सिंह ने हिस्ट्रीशीटर चौधरी का मकराना चौराहे से पीछा किया। आरोपी डस्टर कार लेकर आया था। जबकि चौधरी 2100 नंबर की स्काॅर्पियो गाड़ी से अपने घर जा रहा था। जितेंद्र तीन बदमाशों के साथ आया था आैर चौधरी की कार का पीछा किया। मोहनपुरा गांव तक पहुंचने के बाद चौधरी ने अचानक कार को घुमाया और फायर किया। इस पर जितेंद्र अपने साथियों के साथ फरार हो गया। इस मामले का खुलासा खुद चौधरी ने किया है। चौधरी उस वक्त जितेंद्र सिंह को पहचान गया था लेकिन घटना की पुष्टि चौधरी के मार्बल गोदाम पर अवैध कब्जा करने के मामले में जेल जाने पर हुई। जेल में आरोपी जितेंद्र सिंह किसी अन्य प्रकरण में बंद था। चौधरी और जितेंद्र के आमने सामने होने पर घटना की सत्यता का पता चला।

सुपारी किलर है आरोपी, पैसा लेकर करते हैं फायरिंग!

विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार जितेंद्र सिंह और उसकी गिरोह के साथी सुपारी किलर है। पैसा लेकर वो किसी पर भी फायरिंग कर सकते हैं। विश्राम चौधरी का पीछा कर उस पर हमले का प्रयास भी इसी का एक हिस्सा था। ऐसे में पुलिस के लिए ये भी सवाल गहरा गया है कि किशनगढ़ में बदमाशों का रुकना कहीं फिर से इस कड़ी को तो नहीं जोड़ रहा। बदमाश कहीं फिर से सुपारी लेकर किसी पर हमला तो नहीं करने वाले थे। पुलिस इस संबंध में बारीकी से पूछताछ कर रही है।

हवेली को लेकर हुआ था विवाद, इसलिए किया पीछा

सूत्रों के अनुसार सब्जी मंडी में हवेली को खरीदने और बेचने को लेकर विवाद चल रहा था। उस वक्त हवेली को लेकर विश्राम चौधरी से दूसरी पार्टी के बीच विवाद और कहासुनी हुई थी। उसके बाद जितेंद्र सिंह ने कार लेकर चौधरी का पीछा किया और उस पर हमला करना चाहा। लेकिन वह कामयाब नहीं हो पाया। इस घटना के बाद गांधीनगर थाने का हिस्ट्रीशीटर विश्राम चौधरी खुद को असुरक्षित बता रहा है। पुलिस इस प्रकरण के बारे में जांच कर रही है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..