104 साल बाद पौने चार घंटे का चंद्रग्रहण / 104 साल बाद पौने चार घंटे का चंद्रग्रहण

Kishangarh News - भास्कर न्यूज | मदनगंज-किशनगढ़ गुरु पूर्णिमा के दिन 27 जुलाई काे सदी का सबसे लंबी अवधि का चंद्रग्रहण होगा। ये संयोग...

Bhaskar News Network

Jul 12, 2018, 04:55 AM IST
104 साल बाद पौने चार घंटे का चंद्रग्रहण
भास्कर न्यूज | मदनगंज-किशनगढ़

गुरु पूर्णिमा के दिन 27 जुलाई काे सदी का सबसे लंबी अवधि का चंद्रग्रहण होगा। ये संयोग करीब 104 वर्षों बाद आ रहा है। इस दिन चंद्रग्रहण पौने चार घंटे का होगा।

चंद्र ग्रहण के दौरान चंद्रमा जब धरती की छाया में रहेगा तो उसकी आभा रक्तिम हो जाएगी। इस कारण चंद्रमा पूरी तरह से लाल हो जाएगा। इस कारण इस स्थिति में आए चंद्रमा को ब्लड मून यानि रक्तिम चंद्रमा भी कहा जाता है। 27 जुलाई की मध्य रात्रि 11 बजकर 55 मिनट से प्रारंभ चंद्र ग्रहण 28 जुलाई की सुबह तीन बजकर 39 मिनट पर पूर्ण होगा। यह चंद्र ग्रहण भारत के साथ ही म्यांमार, भूटान, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, चीन, नेपाल, अफ्रीका, यूरोप के देश अंटाकर्टिका, आस्ट्रेलिया, दक्षिण अमेरिका के मध्य और पूर्वी भाग में दिखाई देगा।

दिन के समय मंदिरों में जगह-जगह होगा गुरु पूजन, रात 11.55 से 3.39 तक रहेगा ग्रहण, रात को होंगे भजन-कीर्तन

गुरु पूर्णिमा 27 जुलाई को, दिनभर चलेगा गुरु पूजन का दौर

‘कबीरा वे नर अंध है, गुरु को कहते और, हरि रूठे, गुरु ठौर है, गुरु रूठे नहीं ठौर’। गुरुजनों के प्रति श्रद्धा के भावों की अभिव्यक्ति का पर्व गुरु पूर्णिमा 27 जुलाई शुक्रवार को है। इस मौके पर शिष्य अपने गुरुजनों का पूजन और अभिवादन करेंगे। नगर में इस दौरान विभिन्न स्थानों पर गुरु पूजन का दौर चलेगा। अनेक स्थानों पर शिष्य अपने दिवंगत गुरु की प्रतिमा और चित्रों का पूजन भी करेंगे। इस मौके पर सभी मंदिरों और धार्मिक स्थलों पर कार्यक्रम होंगे।

चंद्र ग्रहण के दौरान ये कार्य होंगे वर्जित

चंद्र ग्रहण के समय भोजन आदि नहीं करना चाहिए। वहीं शुभ कार्य भी नहीं करने चाहिए। जितने समय चंद्र ग्रहण रहे उस समय भगवान की पूजा-अर्चना करनी चाहिए। इस दौरान गर्भवती महिलाएं घर से बाहर ना निकले। सुई और नुकीली चीजों का उपयोग भी नहीं करना चाहिए। अपने कक्ष तुलसी और नीम के पत्ते रखना चाहिए।

X
104 साल बाद पौने चार घंटे का चंद्रग्रहण
COMMENT