Hindi News »Rajasthan »Kishangarh» देवशयनी एकादशी आज, अब 4 माह बंद रहेंगे मांगलिक कार्य

देवशयनी एकादशी आज, अब 4 माह बंद रहेंगे मांगलिक कार्य

भास्कर न्यूज| मदनगंज-किशनगढ़ आषाढ़ शुक्ल एकादशी - देव शयनी एकादशी सोमवार को श्रद्धा व उल्लास के साथ भक्तजन...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 23, 2018, 04:55 AM IST

देवशयनी एकादशी आज, अब 4 माह बंद रहेंगे मांगलिक कार्य
भास्कर न्यूज| मदनगंज-किशनगढ़

आषाढ़ शुक्ल एकादशी - देव शयनी एकादशी सोमवार को श्रद्धा व उल्लास के साथ भक्तजन मनाएंगे आज के दिन से भगवान विष्णु का शयन काल शुरू हो जाएगा। चातुर्मास या चौमासा की शुरुआत भी हो जाएगी। देवशयनी एकादशी के साथ ही विवाह संस्कार, मुंडन, गृह प्रवेश और मांगलिक कार्य बंद हो जाएंगे। अगले चार महीने तक किसी भी तरह के शुभ कार्य नहीं हो सकेंगे। पंडित सत्यप्रकाश दाधीच ने बताया कि चतुर्मास 23 जुलाई से 18 नवंबर तक रहेगा और इस दौरान किसी भी तरह के शुभ कार्य नहीं हो सकेंगे।

धर्म ग्रंथों के अनुसार अगले चार महीने तक भगवान विष्णु क्षीर सागर में अनंत शैया पर विश्राम करेंगे। इसे भगवान विष्णु का निद्राकाल कहा जाता है तथा देवशयनी एकादशी को हरिशयनी एकादशी भी कहा जाता है। इस दिन से भगवान विष्णु पाताल लोक में राजा बलि के यहां चार मास का पहरा देते हैं। इस दौरान इन चार महीनों में कोई शुभ कार्य नहीं होते हैं, इसलिए तपस्वी जन व धार्मिक लोग भी इन दिनों एक स्थान पर रहकर तप करते हैं। साधु इन दिनों शालीग्राम के रूप में ब्रजवासी भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करते हैं। देवशयनी एकादशी के बाद सूर्य दक्षिणायन हो जाते हैं। ऐसे में मुंडन,उपनयन,भवन निर्माण,गृह प्रवेश,विवाह संस्कार नहीं होते हैं। इस बार 19 नवंबर को देव उत्थान एकादशी है। इस लिए इस दिन सभी शुभ कार्यों काे करने का योग अपने आप ही बन जाता है।

नवंबर और दिसंबर में शुभ मुहूर्त

पंडित दाधीच ने बताया कि इस वर्ष में नवंबर और दिसंबर में सिर्फ चार ही शुभ मूहूर्त हैं। इसके बाद नए साल में विवाह के शुभ मूहूर्त शुरू होंगे। 11 नवंबर से 10 दिसंबर तक बृहस्पति ग्रह अस्त रहेगा। इस कारण विवाह जैसे शुभ कार्य नहीं हो सकेंगे। इसके बीच में सिर्फ 19 नवंबर को देव उठनी एकादशी के दिन ही अबूझ सावा होने के कारण विवाह कार्य होंगे। फिर 12 दिसंबर से शुभ मूहूर्त की शुरुआत हो सकेगी। दिसंबर में 12, 13 और 15 दिसंबर को शुभ मूहूर्त हैं। वहीं जनवरी व फरवरी में भी कम मुहूर्त हैं। उन्होंने बताया कि 15 दिसंबर को आखिरी शुभ मूहूर्त हैं। फिर 16 दिसंबर से 14 जनवरी 2019 तक सूर्य धनु राशि में रहेगा और धनु मलमास चलेगा। इसलिए फिर शुभ कार्यों पर रोक लग जाएगी। फिर 23 जनवरी से शुभ कार्यों की शुरुआत होगी। जनवरी में 23, 25 व 30 और फरवरी में 10, 15, 21, 24 और 28 फरवरी को शुभ मूहूर्त हैं। इन तारीखों में विवाह, मुंडन, यज्ञोपवीत, दीक्षा ग्रहण, गृह प्रवेश जैसे शुभ कार्य होंगे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kishangarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×