किशनगढ़

--Advertisement--

आधा आषाढ बीता, औसत से कम बारिश ने किया निराश

मदनगंज-किशनगढ़| अजमेर जिले में कई जगहों पर बादल बरसे हैं मगर किशनगढ़ उपखंड में आसमान में प्रतिदिन घनघोर घटाएं छाती...

Dainik Bhaskar

Jul 18, 2018, 05:05 AM IST
आधा आषाढ बीता, औसत से कम बारिश ने किया निराश
मदनगंज-किशनगढ़| अजमेर जिले में कई जगहों पर बादल बरसे हैं मगर किशनगढ़ उपखंड में आसमान में प्रतिदिन घनघोर घटाएं छाती हैं मगर बिन बरसे ही लौट जाती हैं। आषाढ़ आधा बीत गया। शहर व गांव के लोग आस लगाए बैठे हैं कि बारिश हो जाए और जलाशयों में पानी आ जाए। जनवरी 2018 से लेकर अब तक 69 एमएम बरसात हुई है। जो आैसत से 480.2 एमएम बरसात कम हुई है। अगर पांच वर्षो की बारिश पर नजर डाली जाए तो किशनगढ़ क्षेत्र में औसत बारिश 549.2 एमएम है।

गत वर्ष जनवरी से जुलाई तक 316 एमएम बारिश ही हुई थी। गत वर्ष से भी इस बार 247 एमएम कम बारिश हुई है। क्षेत्र के बीस से अधिक जलाशय व तालाब सूखे पड़े है। पानी पेंदे में भी नहीं है। अगर इसी प्रकार के हालात बने रहे तो आने वाले दिनो में हालात विकट हो जाएंगे।

बारिश पर एक नजर: किशनगढ़ परिषद क्षेत्र में 1 जनवरी 2018 से अब तक 69 एमएम बारिश हुई है। इसी प्रकार बांदरसिंदरी क्षेत्र में 65 एमएम, सिलोरा क्षेत्र में 55 एमएम, अंराई क्षेत्र में 75 एमएम बारिश हुई है। जबकि विगत पांच वर्षो में 639, 542, 386, 448, 731 व इस बार अब तक 69 एमएम बरसात हुई। पांच वर्ष के आंकड़ो के अनुसार औसत बारिश 549.2 एमएम रिकार्ड की गई है। अभी भी औसत बारिश से 480.2 एमएम बरसात कम हुई है। ग्रामवासियों ने बताया कि अगर पानी की स्थिति इसी प्रकार रही तो आने वाले दिनो में हालात बहुत विकट हो जाएंगे। पानी की बूंद बूंद के लिए तरसना पड़ेगा।

X
आधा आषाढ बीता, औसत से कम बारिश ने किया निराश
Click to listen..