Hindi News »Rajasthan »Kishangarh» चोरी के मामले में महिला को पकड़ने गई पुलिस पर किया हमला, मारपीट कर कार के कांच तोड़े

चोरी के मामले में महिला को पकड़ने गई पुलिस पर किया हमला, मारपीट कर कार के कांच तोड़े

आमजन में विश्वास और अपराधियाें में भय वाली कहावत शनिवार को बांदरसिंदरी थाना पुलिस पर उल्टी पड़ गई। चोरी के मामले...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 12, 2018, 05:05 AM IST

चोरी के मामले में महिला को पकड़ने गई पुलिस पर किया हमला, मारपीट कर कार के कांच तोड़े
आमजन में विश्वास और अपराधियाें में भय वाली कहावत शनिवार को बांदरसिंदरी थाना पुलिस पर उल्टी पड़ गई। चोरी के मामले में फुलेरा में महिला से पूछताछ करने गई बांदरसिंदरी थाना पुलिस पर महिला के परिजन, रिश्तेदाराें ने हमला कर दिया। पुलिस पर पत्थर फेंके गए और कार के कांच तोड़ दिए। पुलिस निजी कार लेकर गई थी। मारपीट में दो कांस्टेबल चोटिल हो गए। इसमें एक महिला कांस्टेबल भी शामिल है। घटना के बाद मौके पर माहौल गर्मा गया। बांदरसिंदरी थाने के सिपाही की ओर से फुलेरा थाने में राजकार्य में बांधा, मारपीट, तोड़फोड़ सहित कई धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया गया है। प्रकरण में पुलिस ने मीडिया से दूरी बनाई रखी। मीडियाकर्मियों के फोन नहीं उठाए। देर शाम पुलिस ने प्रेस नोट जारी किया जिसमें बताया कि चोरी के मामले में फुलेरा से आरोपी महिला को गिरफ्तार कर थाने ले आई। चोरी के प्रकरण में पुलिस ने तीन जनों को गिरफ्तार किया है। इसमें दो महिला आरोपी शामिल हैं। तीनाें महिला आरोपियों को रविवार को अवकाशकालीन मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया जाएगा।

जानकारी के अनुसार चोरी के पुराने मामले में बांदरसिंदरी थाना पुलिस शक के आधार पर फुलेरा पांची नाम की महिला पूछताछ करने के लिए प्राइवेट कार लेकर थाने से रवाना हुई। बांदरसिंदरी एसएचओ विक्रम सेवावत, कांस्टेबल सवाईसिंह, महिला कांस्टेबल सीता व अन्य प्राइवेट कार लेकर फुलेरा पहुंच गए। दोपहर को फुलेरा क्षेत्र में पहुंचकर पांची से पूछताछ और उसे थाने ले जाने की बात पर महिला के परिजन तैश में आ गए। उन्होंने अपने रिश्तेदारों के साथ पुलिस पर हमला बोल दिया। पुलिस पर पथराव चालू कर दिया। मारपीट शुरू कर दी। घटना से एसएचओ सहित स्टाफ सकते में आ गया। हमलावरों ने कार के कांच तोड़ दिए। घटना से मौके पर माहौल गर्मा गया। मारपीट में कांस्टेबल सवाई सिंह के सिर में चोटें आई और लहूलुहान हो गया। वहीं महिला कांस्टेबल सीता का मोबाइल टूट गया। घटना की सूचना पर फुलेरा थाना पुलिस मौके पर पहुंची। कांस्टेबल सवाई सिंह का प्राथमिक उपचार कराया। फुलेरा थाने में राजकीय कार्य में बाधा व अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया गया। क्षतिग्रस्त कार लेकर पुलिस बांदरसिंदरी थाने पहुंच गई।

चोरी के मामले में तीन को किया गिरफ्तार

दिनभर मीडिया से बचने के बाद पुलिस देर शाम प्रेस नोट जारी किया। पुलिस उपाधीक्षक राजवीर सिंह के निर्देशन में जारी प्रेस नोट में बताया कि 27 जुलाई को दिन दहाड़े सूने मकान में चोरी के मामले में कार्रवाई करते हुए तीन जनाें काे गिरफ्तार किया है। इसमें दो महिला आरोपी शामिल हैं। पुलिस ने फुलेरा क्षेत्र से पांची बागरिया, बांदरसिंदरी थाना क्षेत्र निवासी नेमा बागरिया और उसके पति भैरूं बागरिया को गिरफ्तार किया है। पांची पर आरोप है कि वह कुछ लोगों के साथ योजना बनाकर चोरी करने बांदरसिंदरी आई थी। तीनों आरोपियाें को रविवार को अवकाशकालीन मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया जाएगा।

राजकार्य में बाधा का मामला दर्ज किया

चोरी के मामले में फुलेरा पांची को गिरफ्तारी करने गए थे। वहां पुलिस पर हमला कर दिया गया। राजकार्य में बाधा का मामला दर्ज कराया गया। पांची को चोरी के मामले में गिरफ्तार कर लिया गया। उसके साथ नेमा और उसका पति भैरूं को भी पकड़ा है। पुलिस पर आरोप लगते रहते हैं। राजवीर सिंह, पुलिस उपाधीक्षक किशनगढ़

विवादाें में है बांदरसिंदरी पुलिस, महिला आयोग ने माना गंभीर!

बांदरसिंदरी थाना पुलिस की कार्यप्रणाली पिछले कुछ दिनाें से सवालों के घेरे में है। 27 जुलाई को थाने से महज 500 मीटर की दूरी पर दिन दहाड़े सूने मकान में लाखों रुपए की चोरी हुई थी। पुलिस पर आरोप ये है कि पिछले सात दिन से शक के आधार पर नेमा नाम की एक महिला और उसकी साथी महिला को थाने पर बंद कर रखा है। जबकि नियमानुसार महिला को 24 घंटे से ज्यादा थाने पर नहीं रखा जा सकता। उसके लिए महिला कांस्टेबल का होना भी आवश्यक है, लेकिन बिना किसी गिरफ्तारी के पुलिस सात दिन से दो महिला को संदेह के आधार पर पकड़ रखा है। मामले की गंभीरता को देखते हुए महिला अायोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने मामले को गंभीर मानते हुए पुलिस को नोटिस जारी किया है।

थाने में खड़ी कार जिसके कांच टूटे हुए हैं।

मीडिया से बनाई रखी दूरी, एसएचओ ने फोन तक नहीं उठाया

घटना के बाद से बांदरसिंदरी पुलिस ने मीडिया से दूरी बनाए रखी। मीडियाकर्मियाें को रोकने के लिए थाने के बाहर दो सिपाही लगा दिए गए। पूरे मामले में पुलिसकर्मी मीडिया से बचते रहे। यहां तक बांदरसिंदरी एसएचओ ने मोबाइल कॉल तक उठाना बंद कर दिया। चोटिल पुलिसकर्मी के भी नजदीक नहीं जाने दिया, ना ही मिलने दिया गया। मीडियाकर्मियों ने कॉल किए, लेकिन एसएचओ ने फोन तक नहीं उठाया। थाने के लैंडलाइन नंबर पर कॉल करने पर टालमटोल जवाब देते रहे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kishangarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×