• Hindi News
  • Rajasthan
  • Kishangarh
  • राजनीति की भेंट चढ़ा बालिका स्कूल को क्रमोन्नत करने का मामला
--Advertisement--

राजनीति की भेंट चढ़ा बालिका स्कूल को क्रमोन्नत करने का मामला

Kishangarh News - मदनगंज-किशनगढ़| कृष्णापुरी में संचालित राजकीय शार्दुल बालिका उच्च माध्यमिक स्कूल क्षेत्रवासियों की राजनीति का...

Dainik Bhaskar

Jul 21, 2018, 05:20 AM IST
राजनीति की भेंट चढ़ा बालिका स्कूल को क्रमोन्नत करने का मामला
मदनगंज-किशनगढ़| कृष्णापुरी में संचालित राजकीय शार्दुल बालिका उच्च माध्यमिक स्कूल क्षेत्रवासियों की राजनीति का शिकार होते जा रही है। एक पक्ष संसाधन बढ़ाने के साथ स्कूल को क्रमोन्नत कराना चाह रहा है तो दूसरी ओर अटल सेवा व विकास समिति किशनगढ़ के पदाधिकारी तत्काल प्रभाव से स्कूल को क्रमोन्नत करने पर आमादा हैं। वे स्कूल क्रमोन्नत नहीं होने के लिए संस्थाप्रधान को जिम्मेदार बता रहे हैं।

सेवा समिति के अध्यक्ष कन्हैयालाल बाकोलिया व महामंत्री रामस्वरूप शर्मा ने संस्थाप्रधान ओपी जांगिड़ पर अारोप लगाया कि संस्था प्रधान बालिका स्कूल के विकास में बाधा बन रहे हैं। समिति के स्कूल क्रमोन्नत नहीं होने पर तालाबंदी की चेतावनी देने से स्कूल प्रशासन बौखला गया है। पदाधिकारियों ने बताया कि स्कूल में 6 कक्षा कक्ष हैं और दो का निर्माण किया जा रहा है। अगर स्कूल को क्रमोन्नत किया जाता है तो स्कूल का संचालन दो पारियों में किया जा सकता है। पहली पारी में कक्षा आठ से बारहवीं तक और दूसरी पारी में कक्षा एक से सातवीं कक्षा तक का संचालन किया जा सकता है। दो पारी में स्कूल संचालन से न तो संसाधन की कमी होगी और न ही किसी प्रकार की असुविधा। सेवा समिति के पदाधिकारियों ने आरोप लगाया कि संस्थाप्रधान की लापरवाही के कारण ही गत वर्ष दसवीं कक्षा बोर्ड परिणाम 46 प्रतिशत ओर इस बार 50 प्रतिशत आया है। यह परिषद क्षेत्र में न्यूनतम परिणाम देने वाला स्कूल है। वहीं संस्थाप्रधान ओपी जांगिड़ ने आरोपों को निराधार बताते हुए कहा कि यहां पर स्कूल संचालन कराने के लिए बड़ी मेहनत से लाया गया है। न्यूनतम संसाधनों के साथ पहला सत्र शुरु हुआ। इसके बाद परीक्षा परिणाम सुधर रहा है। स्कूल में अध्ययन को देखते हुए और स्कूल स्टाफ की मेहनत का ही परिणाम है कि आज स्कूल का नामांकन पांच सौ के करीब पहुंच रहा है। जब स्कूल यहां आया तो एक साथ 250 से अधिक बालिकाओं ने टीसी कटवा ली थी। स्कूल प्रशासन की मेहनत के कारण ही नामांकन बढ़ रहा है। अध्ययन से अभिभावक संतुष्ट है। हम भी चाहते है कि हमारी स्कूल क्रमोन्नत हो। इसके लिए प्रयास भी किया गया है। इस बार कक्षा दसवीं की आठ छात्राओं को गार्गी पुरस्कार मिलेगा। वहीं कक्षा आठ की आठ बालिकाओं को लेपटॉप मिलेगा। स्कूल शिफ्ट होने के साथ ही भामाशाहों से मिलकर स्कूल में 22 लाख रुपए के विकास कार्य कराए गए हैं। फिर मैं स्कूल क्रमोन्नत में बाधा कैसे हूं। कुछ लोगो की ओछी राजनीति का शिकार स्कूल विकास को बना रहे है। मैं ऐसा होने नहीं दूंगा।

X
राजनीति की भेंट चढ़ा बालिका स्कूल को क्रमोन्नत करने का मामला
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..