Hindi News »Rajasthan »Kishangarh» 6 घंटे तक बंद रहे इंटरनेट, आधी बांह की शर्ट व हवाई चप्पल में अभ्यर्थियों को मिला केंद्र पर प्रवेश

6 घंटे तक बंद रहे इंटरनेट, आधी बांह की शर्ट व हवाई चप्पल में अभ्यर्थियों को मिला केंद्र पर प्रवेश

भास्कर न्यूज | मदनगंज-किशनगढ़ आरएएस प्री परीक्षा का प्रश्न पत्र रविवार सुबह आठ बजे डीईओ कार्यालय से केंद्रों के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 06, 2018, 05:20 AM IST

  • 6 घंटे तक बंद रहे इंटरनेट, आधी बांह की शर्ट व हवाई चप्पल में अभ्यर्थियों को मिला केंद्र पर प्रवेश
    +1और स्लाइड देखें
    भास्कर न्यूज | मदनगंज-किशनगढ़

    आरएएस प्री परीक्षा का प्रश्न पत्र रविवार सुबह आठ बजे डीईओ कार्यालय से केंद्रों के लिए निकलते ही इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई। ये इंटरनेट दोपहर दो बजे तक बंद रहे। परीक्षा केंद्रों से सात किलोमीटर के दायरे में इंटरनेट सेवाएं बंद रही। रविवार का अवकाश होने के कारण इंटरनेट पर कार्य करने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

    शहर में बीस दिन में ही लगातार दूसरी बार साइबर कर्फ्यू लग गया। रविवार को सुबह दस से एक बजे तक परीक्षा हुई लेकिन इंटरनेट 6 घंटे तक बंद रहा। इंटरनेट बंद रहने से आम लोगों के साथ, व्यापारियों, विदेशी पर्यटकों और फिलहाल ऑनलाइन फॉर्म भरने वालों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। व्हाट्सएप, फेसबुक, इंटरनेट के साथ दिन की शुरुआत करने वालों को दिन बोरिंग बीता। खासकर युवा ठाले बैठे नजर आए। हालांकि बीएसएनएल सहित अन्य कंपनियों के ब्रॉडबैंड कनेक्शन पर इंटरनेट फेसिलिटी चालू थी लेकिन डोंगल, डाटा कार्ड और मोबाइल पर इंटरनेट सेवाएं बंद रही।

    हर सेंटर की वीडियोग्राफी, 6 फ्लाइंग टीमें

    शहर में आरएएस प्री परीक्षा के लिए 12 केंद्र बनाए गए। इसमें राजकीय कॉलेज, राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय पुराना शहर, राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, केडी जैन गर्ल्स कॉलेज, केडी जैन गर्ल्स स्कूल, केडी जैन पब्लिक स्कूल, अग्रवाल गर्ल्स कॉलेज, अग्रवाल पब्लिक स्कूल, आदर्श विद्या मंदिर, राजकीय शार्दुल स्कूल, पीटीएस सहित अन्य केंद्र शामिल थे। इन केंद्रों पर करीब 4 हजार अभ्यर्थियों को बैठना था लेकिन परीक्षा में 75 फीसदी अभ्यर्थी ही शामिल है। यानि 25 फीसदी अभ्यर्थी अनुपस्थित रहे। प्रत्येक परीक्षा केंद्रों की वीडियोग्राफी कराई गई। परीक्षा केंद्रों पर 6 फ्लाइंग टीमें नजर रखे हुए थी। जानकारी के मुताबिक परीक्षा से पहले प्रश्न पत्र डीईओ कार्यालय में पहुंचे। यहां से छह टीमें जिनमें उपसमन्वयक व पुलिस जाब्ता शामिल हुआ, प्रश्न पत्रों को परीक्षा केंद्रों तक पहुंचाया गया। परीक्षा संपन्न होने के बाद उत्तर पुस्तिकाएं डीईओ कार्यालय पहुंंचाई गई और फिर आरपीएससी मुख्यालय भिजवाई गई।

    सुबह से शाम तक अभ्यर्थियों का मेला : सुबह 6 बजे से ही अभ्यर्थी परीक्षा देने के लिए शहर में पहुंचना शुरू हो गए। कुछ शनिवार रात को ही पहुंच गए। अभ्यर्थियों ने धर्मशालाओं, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड पर रात बिताई। सुबह 8 बजे अभ्यर्थियों को सेंटर पहुंचना शुरू हो गया। अभ्यर्थियों को कई तरह की जांचों से गुजरना पड़ा।

    रेलवे स्टेशन पर अभ्यर्थियों को परेशानी : रेलवे स्टेशन फरासिया क्षेत्र में होने के कारण अभ्यर्थियों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। अभ्यर्थी पुराने स्टेशन के भ्रम में थे। नया रेलवे स्टेशन बहुत दूर होने का पता चलने पर आनन-फानन में अभ्यर्थियों को टेम्पो, ऑटो करने पड़े। टेम्पो, ऑटो चालक ने भी मौके का फायदा उठाया और मनमाने दाम वसूले। यही स्थिति परीक्षा देकर केंद्र से छूटने वाले अभ्यर्थियों के साथ हुई। परीक्षार्थियों को रेलवे स्टेशन के लिए टेम्पो, ऑटो के लिए घंटों इंतजार करना पड़ा। जाते वक्त बसों में ओवरलोड होकर अभ्यर्थी अपने गंतव्य के लिए रवाना हुए।

    मोबाइल- पर्स रखने के नाम पर जमकर कमाई : परीक्षा केंद्रों पर मोबाइल, बेल्ट, पूरी बाहों की शर्ट, घड़ी, जूते, माैजे सहित अन्य वस्तुएं वर्जित थी। ऐसे में अभ्यर्थियों को सामान बाहर रखने की मजबूरी बन गई। केंद्रों के बाहर व आसपास में दुकानदारों ने अभ्यर्थियों का सामान रखने की एेवज में पैसे वसूले। अभ्यर्थियों से पर्स, मोबाइल, घड़ी रखने के 20 से 50 रुपए लिए गए। अभ्यर्थियों का कहना था कि वे दूर दराज से आए है। ऐसे में मोबाइल और पर्स रखना उनकी मजबूरी ही है। इसके लिए केंद्रों को ऐसी व्यवस्था करनी चाहिए थी।

    मदनगंज-किशनगढ़. परीक्षा केंद्र से आरएएस प्री की परीक्षा देकर लौटते अभ्यर्थी।

    परीक्षा केंद्रों पर हुई गहन जांच

    परीक्षार्थी परीक्षा केंद्र में किसी प्रकार की घड़ी, मौजे, धूप का चश्मा, बैल्ट, हैंड बैग, हेयर पिन, ताबीज, कैप, हैट, स्कार्फ, स्टॉल, शॉल, मफलर पहनकर आए अभ्यर्थियों को प्रवेश नहीं दिया गया। ये सब चीजें बाहर ही रखवा दी गई। परीक्षा केंद्र में किसी भी परीक्षार्थी को परीक्षा प्रारंभ होने के दस मिनट बाद प्रवेश नहीं दिया गया। ई-एडमिट कार्ड देखकर ही अभ्यर्थियों को प्रवेश दिया गया। अभ्यर्थियों की पूरी बाहों की शर्ट को खुलवाकर उसे हाफ बांहों का बनाया गया। परीक्षा समाप्त होने पर ओएमआर शीट इकट्ठी करने के पश्चात ही परीक्षार्थी को अपनी सीट छोड़ने की अनुमति दी गई। परीक्षा केंद्र पर परीक्षार्थी ई-प्रवेश प्रोविजनल पत्र, कोई एक फोटो पहचान पत्र जिसमें आधार कार्ड, मतदाता पहचान कार्ड, पेनकार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट की मूल प्रति शामिल वालों को ही अनुमति दी गई। पुरुष अभ्यर्थियों को आधी आस्तीन की शर्ट, टी-शर्ट, कुर्ता, पेंट, पायजामा एवं हवाई चप्पल, स्लीपर पहनने के बाद प्रवेश दिया गया। वहीं महिला अभ्यर्थियों को सलवार सूट या साड़ी, आधी आस्तीन का कुर्ता, ब्लाउज, हवाई चप्पल, स्लीपर पहनकर व बालों में साधारण रबड़ बैंड लगाकर आने वालों को ही प्रवेश दिया गया।

  • 6 घंटे तक बंद रहे इंटरनेट, आधी बांह की शर्ट व हवाई चप्पल में अभ्यर्थियों को मिला केंद्र पर प्रवेश
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kishangarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×