Hindi News »Rajasthan »Kishangarh» ढाई साल से नहीं मिली मजदूरी, पुलिस को शिकायत की तो किया गिरफ्तार

ढाई साल से नहीं मिली मजदूरी, पुलिस को शिकायत की तो किया गिरफ्तार

पुलिस का ध्येय आमजन में विश्वास आैर अपराधियों में डर आपने जरूर सुना होगा, लेकिन बांदरसिंदरी थाना पुलिस इसके...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 04, 2018, 05:25 AM IST

ढाई साल से नहीं मिली मजदूरी, पुलिस को शिकायत की तो किया गिरफ्तार
पुलिस का ध्येय आमजन में विश्वास आैर अपराधियों में डर आपने जरूर सुना होगा, लेकिन बांदरसिंदरी थाना पुलिस इसके विपरीत आमजन में ही ऐसा डर पैदा कर रही है कि कोई परिवादी भूलकर भी शिकायत दर्ज कराने थाने नहीं जाए। इसका ताजा उदाहरण एक दिहाड़ी मजदूर के साथ हुई घटना के बाद सामने आया है। मजदूर ढाई साल पहले बांदरसिंदरी में सेंट्रल यूनिवर्सिटी में ठेकेदार के अधीन सीमेंट प्लास्टर का काम करता था, ठेकेदार उसकी मेहनत के 2000 रुपए डकार गया। पिछले ढाई साल से वह अपनी मजदूरी के लिए चक्कर काट रहा है, लेकिन नतीजा सिफर। मजदूर ने पिछले माह संबंधित थाना पुलिस बांदरसिंदरी थाने में शिकायत की तो पुलिस ने मजदूर से ही थाने में मारपीट कर उसे शांतिभंग करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। ठेकेदार आैर मारपीट करने वाले पुलिसकर्मियों की शिकायत के साथ न्याय के लिए पीड़ित मजदूर सीएमआे, गृहमंत्रालय, डीजीपी से लेकर सीआे किशनगढ़, एडीशनल एसपी ग्रामीण, एसपी सिटी आैर आईजी अजमेर रेंज के दफ्तर के कई चक्कर काट चुका है लेकिन अब तक इस मामले में कार्रवाई नहीं हुई।

पीड़ित मजदूर नरसाराम।

घटनाक्रम एक नजर

कई बार मांगी मजदूरी, लेकिन हर बार ठेकेदार से मिला एक ही जवाब- ले लेना

बाड़मेर के मलवा गांव का रहने वाला नरसाराम बेनीवाल ने बताया कि वे ढाई साल पहले बाड़मेर के रहने वाले ठेकेदार बाबूराम के अधीन काम करता था। बांदरसिंदरी में सेंट्रल यूनिवर्सिटी में सीमेंट प्लास्टर का काम करने के लिए ठेकेदार उसे यहां लाया। काम कराने के बाद मजदूरी के 2000 रुपए नहीं दिए। नरसाराम ने बताया कि मजदूरी नहीं मिलने के कारण उसने काम छोड़ दिया आैर कहीं आैर काम करने लगा। इस बीच ठेकेदार से कई बार पैसे मांगे, लेकिन मजदूरी नहीं मिली।

गांव वाले पूछ रहे हैं, कि आखिर तूने क्या गलत काम किया?

नरसाराम का यह भी कहना है कि गिरफ्तारी के बाद गांव में उसकी बदनामी हो गई। गांव वाले पूछ रहे हैं, तूने क्या गलत काम किया था जो पुलिस ने तुझे गिरफ्तार किया। गांव वालों को सफाई देते-देते थक गया। नरसाराम ने बताया कि वह खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल के पास भी शिकायत लेकर पहुंचा था, उन्होंने कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

मारपीट का आरोप निराधार, सुसाइड की धमकी पर गिरफ्तार

नरसाराम आैर बाबूराम दोनों बाड़मेर के रहने वाले हैं। बाबूराम ठेकेदार है, नरसाराम उसके यहां मजदूरी करता था। मजदूरी के लेन-देन को लेकर विवाद था। नरसाराम की शिकायत दर्ज है। ठेकेदार से उसकी मजदूरी दिलवा दी गई थी। पिछले दिनों वह थाने पर आया था आैर कहीं सुनवाई नहीं होने की बात कहकर आत्महत्या करने की धमकी देने लगा। इस पर पुलिस ने उसे शांतिभंग में गिरफ्तार कर हाथोंहाथ एसडीएम किशनगढ़ के समक्ष पेश किया था। थाने पर किसी तरह की कोई मारपीट नहीं की गई, आरोप निराधार हैं। विक्रम सिंह, थानाप्रभारी, बांदरसिंदरी

यह कैसी पुलिसिंग? पहले डांट-फटकार, फिर शांतिभंग में कर लिया गिरफ्तार

नरसाराम पूरी तरह से परेशान हो पिछले मई माह में संबंधित थाना बांदरसिंदरी थाने में ठेकेदार के खिलाफ शिकायत करने पहुंचा। परिवादी नरसाराम ने ठेकेदार के खिलाफ शिकायत दी तो पुलिस ने पहले तो उस डांट-फटकार कर रवानगी देने की कोशिश की, लेकिन वे बिना शिकायत दर्ज हुए लौटने काे तैयार नहीं हुआ। बाद में पुलिस ने उससे ठेकेदार का नंबर लिया आैर उसे फोन पर बात की। नरसाराम का आरोप है कि इसके बाद पुलिस ने उससे मारपीट करना शुरू कर दिया आैर उसे शांतिभंग के आरोप में गिरफ्तार कर लिया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kishangarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×