Home | Rajasthan | Kishangarh | मंदिरों में रुद्राष्टाध्यायी मंत्रों से किया जलाभिषेक

मंदिरों में रुद्राष्टाध्यायी मंत्रों से किया जलाभिषेक

भास्कर न्यूज| मदनगंज-किशनगढ़ श्रावण मास के दूसरे सोमवार पर पूजा अर्चना के लिए शहर के प्रमुख शिवालयों में शिवभक्त...

Bhaskar News Network| Last Modified - Aug 07, 2018, 05:35 AM IST

1 of
मंदिरों में रुद्राष्टाध्यायी मंत्रों से किया जलाभिषेक
भास्कर न्यूज| मदनगंज-किशनगढ़

श्रावण मास के दूसरे सोमवार पर पूजा अर्चना के लिए शहर के प्रमुख शिवालयों में शिवभक्त पूजा अर्चना के लिए उमड़े। शिवालय जय-जय शिव लहरी, जय-जय बम भोले से गूंज रहा था। शहर की कई कॉलोनियों से शिव भक्तों की टोली पुष्कर से पवित्र जल कावड़ में लेकर आई। इसी जल से शिवालयों में जलधारा की गई।

श्रावण मास में प्रति दिन शिव भक्तों का हुजूम शिवालयों में उमड़ रहा है। भगवान भोले का अभिषेक करने की भक्तों में होड़ मची हुई है। शिव भक्तों ने भगवान भोले का बिल्वपत्र, आक, धतूरे तथा अन्य सामग्रियों से भोले व उनके परिवार की पूजा अर्चना की। चारों ओर रुद्राष्टाध्यायी पाठ के स्वर सुनाए दे रहे थे। सांय काल भोले का नयनाभिराम शृंगार किया गया। भोले की आरती कर प्रसाद का वितरण किया गया। कई शिवालयों में कावड़ियों द्वारा पुष्कर से लाए जल से अभिषेक किया गया। शिव भक्तों ने बाबा का गुणगान करते हुए रविवार रात को शहर में प्रवेश किए। सोमवार को पुष्कर से लाए पवित्र जल से शिव मंदिर में अभिषेक किया गया।

परिषद क्षेत्र के कई शिव मंदिरों में श्रावण मास के दूसरे सोमवार पर भगवान भोले का अभिषेक किया गया। महावीर कालोनी स्थित राधाकृष्ण मंदिर स्थित शिवालय पर महेश शर्मा परिवार द्वारा भगवान भोले का अभिषेक किया गया। पूरे दिन मंदिर परिसर में रुद्राष्टाध्यायी पाठ के साथ ओम नम:: शिवाय गूंजता रहा। इस प्रकार पुराना शहर स्थित सिटी रोड दधीचि रंग वाटिका स्थित भोला का मंदिर, अमरनाथ छतरी महादेव मंदिर, बाबा अमरनाथ महादेव मंदिर, सिद्धेश्वर महादेव मंदिर, गोपेश्वर महादेव मंदिर, कृष्णापुरी स्थित सिद्धेश्वर महादेव मंदिर, लक्ष्मीनगर स्थित सत्य शिव साई मंदिर तथा लक्ष्मीनारायण मंदिर स्थित रामेश्वरम शिव मंदिर में रुद्राष्टाध्यायी पाठ के बीच अभिषेक किया गया। शिवभक्तों ने भगवान भोले व परिवार पर पंचामृत से बना जल चढ़ाया। सायं काल नयनाभिराम शृंगार किया गया। शहरवासियों ने श्रावण मास सोमवार पर वन भ्रमण कर मौसम का आनंद लिया। महिलाओं व युवतियों ने भगवान शिव का व्रत रखा और आस पास के बाग बगीचों में जाकर वन भ्रमण किया। बाग में लगे झूले का आनंद लिया। भगवान भोले के मंगल गीत गाए। वन भ्रमण करने गई महिलाओं ने बताया कि श्रावण मास के सोमवार का व्रत कर वन भ्रमण करना चाहिए। इस प्रकार घूम घूम कर भगवान भोले की अराधना करने से हरितिमा को देखकर मन प्रसन्न रहता है और घर परिवार में सुख समृद्धि आती है।

बागों में रही चहल पहल : पुराना शहर सुखसागर, सिटी रोड सुभाष बाग, सुमेर टॉकीज तिराहे पर स्थित महावीर पार्क, हाउसिंग बोर्ड स्थित पार्क, आजाद नगर स्थित आजाद पार्क, गांधी नगर स्थित गांधी पार्क में भीड़ रही। महिला पुरुष, बच्चे, युवा सभी बाग में लगाई गई मनोरंजन के साधनों के साथ मस्ती कर रहे थे। महिलाएं झूलों का विशेष आनंद ले रही थी। झूला झूलने के साथ श्रावण के गीतों गूंज रहे थे। परिषद क्षेत्र के सभी पार्क सुबह से ही भरे रहे।

कावड़ियों का स्वागत: राजारेडी स्थित वार्ड 23 में राजकीय लूणकरण बाहेती स्कूल के पास शिवसेना हिंदुस्तान के कार्यकर्ता पुष्कर से पैदल कावड़ लेकर पहुंचे। कावड़ियों के पहुंचते ही क्षेत्रवासियों ने उनका ढोल-ढमाकों के बीच पुष्पवर्षा से स्वागत किया गया। इसके बाद शिव मंदिर में भगवान शिव का पुष्कर के पवित्र जल से जलाभिषेक किया गया। स्वागत करने वालों में नितिन उर्फ निक्कू नेमनानी, अनिल बंजारा, फूलचंद मौर्य, यश कतीरिया, दीपक कसोटिया, बजरंग मेघवंशी, कुलदीप, पंकज, दीपसिंह सहित अन्य शामिल थे।

मदनगंज किशनगढ. महावीर काॅलोनी शिवालय में जलाभिषेक करते हुए भक्त।

रूपनगढ़ में झूला महोत्सव, सुरसुरा में कावड़ियों ने किया अभिषेक

रूपनगढ़|कस्बे के पुष्टिमार्गीय संप्रदाय की हवेली में झूला महोत्सव में जरी चमक से सजे झूले में ठाकुरजी बिराजे। जरी चमक से सजे झूले में नख-शिख पर्यन्त शृंगारित गोकुलचंद्रमाजी के युगल चल श्रीविग्रह को बिराजमान कर मुखिया पंकज कुमार ने झुलाया। इस अवसर पर हवेली संगीत में भगवानदास औदिच्य, शांतनु शर्मा, राकेश मुखिया, गोकलेश आदि ने प्रभु के सम्मुख अष्टछाप के भक्त कवियों द्वारा रचित पदों का गायन राग मल्हार में किया।

सुरसुरा में कावड़ियों ने किया जलाभिषेक : समीपवर्ती ग्राम सुरसुरा में सोमवार को कावड़ियों ने भगवान सदाशिव का जलाभिषेक किया। पुष्कर सरोवर से जल लाकर सुरसुरा पहुंचने पर उनका स्वागत किया गया। रुद्राष्टाध्यायी के मंत्रों के बीच शिवभक्तों ने नीलकंठ महादेव पर जल चढ़ाया। महाकाल मित्र मंडली सुरसुरा के कावड़ियों ने लक्ष्मीनारायण महाराज के नेतृत्व में पूजा पाठ किया और गाजे बाजे के साथ शिवमहिमा का गान किया। नगर के कुल 28 कावड़िये जल लेकर आये। इसमें सोनू माटोलिया,गौरी शंकर प्रजापति, राजू गुर्जर, ओमप्रकाश बाना, गणेश माली, अंकित पारीक, दीनदयानल सेन आदि शामिल थे। संतोष माटोलिया, लक्ष्मण रुलाणा, हरदेव गुर्जर आदि ने बैंडबाजों व गुलाब पुष्पवर्षा के बीच स्वागत किया।

मदनगंज-किशनगढ़. राजारेडी में कावड़ियों का गाजे-बाजे के साथ किया गया स्वागत।

सावन में शिव पूजा का विशेष महत्व

अरांई| पुलिस थाना स्थित शिवालय में सावन के सोमवार को जलाभिषेक किया गया। इस अवसर पर मंदिर ओम नम: शिवाय के जयकारों से गुंजायमान हो गया। कार्यक्रम में श्री दयालु रामद्वारा के महंत डाॅ. रामप्रकाश रामस्नेही ने जलाभिषेक कर पूजा अर्चना की। इस अवसर पर थाना प्रभारी मुकेश मीणा ने नागरिकों के साथ जलाभिषेक किया।

श्रद्धालुओं ने शिव का दूध, दही, शहद, गन्ना सहित गंगा जल से जलाभिषेक किया एवं भांग, धतूरे, गुड़, चने का भोग लगा कर जयकारे लगाए। कार्यक्रम में रामद्वारा के महंत डाॅ. रामप्रकाश रामस्नेही ने बताया कि सावन में शिव आराधना का विशेष प्रयोजन होता है। शिव सबसे सरल स्वभाव के देव हैं जिन्हें मात्र जल चढ़ा कर आशीर्वाद प्राप्त किया जा सकता है। इससे पूर्व शिव मंदिर परिसर में आयोजित शिव जगराता में भजन गायक गिरधर गोपाल व्यास ने मां की ममता मांगे बेटा श्रवण की तरह, शिव से बड़ा दानी नहीं कोई, आराधना करता हूं, क्षमा करो मेरे प्रभु जी सहित भजनों की रस धारा बही। भोर तक श्रोताओं ने भजनों का आनन्द लिया। भजन संध्या में रामस्नेही रामनिवास रामस्नेही, उस्ताद अयूब ने भजन प्रस्तुत किये। ग्राम के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने सहस्र जलाभिषेक में भाग लेकर शिव की आराधना करी एवं आशीर्वाद लिया।

मंदिरों में रुद्राष्टाध्यायी मंत्रों से किया जलाभिषेक
मंदिरों में रुद्राष्टाध्यायी मंत्रों से किया जलाभिषेक
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now