• Hindi News
  • Rajasthan
  • Kishangarh
  • रोजाना 80 मीट्रिक टन कचरा होता है 30 मीट्रिक टन शहर से हटता ही नहीं
--Advertisement--

रोजाना 80 मीट्रिक टन कचरा होता है 30 मीट्रिक टन शहर से हटता ही नहीं

Kishangarh News - भास्कर न्यूज| मदनगंज-किशनगढ़. नगर परिषद के लिए कचरे का निस्तारण बड़ी चुनौती बन गया है। शहर में प्रतिदिन 80 मीट्रिक...

Dainik Bhaskar

Jun 26, 2018, 04:35 PM IST
रोजाना 80 मीट्रिक टन कचरा होता है 30 मीट्रिक टन शहर से हटता ही नहीं
भास्कर न्यूज| मदनगंज-किशनगढ़.

नगर परिषद के लिए कचरे का निस्तारण बड़ी चुनौती बन गया है। शहर में प्रतिदिन 80 मीट्रिक टन कचरा निकलता है जिसमें से महज 50 मीट्रिक टन कचरे का ही निस्तारण होता है। यानी रोज 30 मीट्रिक टन कचरा शहर में ही पड़ा रह जाता है। कचरे का निस्तारण नहीं होने के कारण, व गीले और सूखे कचरा को अलग अलग नहीं कर पाने के कारण स्वच्छता सर्वे 2018 में किशनगढ़ अब भी 352 वें स्थान पर है।

चार अस्थायी डंपिंग यार्ड की जरूरत

शहर 45 वार्ड में फैला है और प्रत्येक वार्ड पर एक छोटी गाड़ी कचरा संग्रहण के लिए है। यानी 45 वार्ड पर 45 गाड़ियां कचरा संग्रहण के लिए हैं। यह गाड़ियां कचरा लेकर जब मुख्य डंपिंग यार्ड सिलोरा तक जाती है तो दूसरी बार लौटकर वार्ड तक नहीं पहुंच पाती है। डंपिंग यार्ड एनएच 79 पर सिलोरा में है जहां जाकर वापस लौटना मुश्किल है। फिर गाड़ियों में से अक्सर 8-10 गाड़ियां खराब रहती है। शहर के पास ही नगर परिषद भूमि में चारों दिशाओं में चार अस्थाई डंपिंग क्षेत्र विकसित किया जाए। जहां से छोटे वाहन जा कर खाली कर दें और ट्रैक्टर और डंपर में भरकर कचरा मुख्य डंपिंग यार्ड तक जा सके और छोटे वाहन बार बार वार्ड में कचरा संग्रहण के लिए चक्कर लगा सके।

परिषद के सामने ये 4 बड़ी चुनौतियां

1. शहर में खुले में शौच अब भी बड़ी चुनौती है। कच्ची बस्तियों व शहर के बाहरी क्षेत्र में अभी खुले में शौच हो रहा है।

2. रात्रि सफाई की व्यवस्था अभी धीमी है शहर के मुख्य बाजारों के हाल अभी नहीं सुधरे हैं।

3. तीन सामुदायिक शौचालय व 18 सार्वजनिक शौचालयों के रखरखाव व शहर में नए शौचालयों का निर्माण परिषद के लिए बड़ी चुनौती है।

4. शहर के नालों पर अतिक्रमण पूरे शहर में चल रही सिविल खुदाई की वजह से शहर की सफाई व्यवस्था प्रभावित हो रही है।

35 वार्ड ठेके पर, 10 परिषद के जिम्मे

डोर टू डोर कचरा संग्रहण के लिए शहर के सभी 45 वार्ड शामिल है। प्रत्येक वार्ड में 45 वाहन हैं जो कचरा संग्रहण कर रहे है। वार्ड में कचरा एक जगह संग्रहण कर ट्रेचिंग ग्राउंड तक कचरा भेजने की ट्रांसपोर्ट व्यवस्था ना होने से पूरा कचरा संग्रहण नहीं हो पा रहा है। 35 वार्ड में सफाई का कार्य ठेके पर है। जबकि 10 वार्ड की सफाई परिषद के जिम्मे है। कुल 658 कर्मचारी हैं। 16 ट्रैक्टर मय ट्रॉली भी सफाई व्यवस्था में जुटे हैं।

X
रोजाना 80 मीट्रिक टन कचरा होता है 30 मीट्रिक टन शहर से हटता ही नहीं
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..