Home | Rajasthan | Kishangarh | बीस साल पुरानी सोनोग्राफी मशीन हुई खराब, महिलाएं निराश लौटीं

बीस साल पुरानी सोनोग्राफी मशीन हुई खराब, महिलाएं निराश लौटीं

राजकीय यज्ञनारायण अस्पताल भास्कर न्यूज|मदनगंज-किशनगढ़ राजकीय यज्ञनारायण अस्पताल में बुधवार को...

Bhaskar News Network| Last Modified - Jul 26, 2018, 05:10 PM IST

1 of
बीस साल पुरानी सोनोग्राफी मशीन हुई खराब, महिलाएं निराश लौटीं
राजकीय यज्ञनारायण अस्पताल

भास्कर न्यूज|मदनगंज-किशनगढ़

राजकीय यज्ञनारायण अस्पताल में बुधवार को सोनोग्राफी के लिए आए मरीजों को निराश लौटना पड़ा। अस्पताल में सोनोग्राफी के दो-दो डॉक्टर उपलब्ध होने के बावजूद एक भी सोनोग्राफी नहीं हुई। सुबह 8 बजे ही सोनोग्राफी मशीन खराब हो गई जिससे मशीन खराब होने के कारण सुबह से घंटों भूखी प्यासी जांच के लिए कतार में खड़ी महिला मरीजाेंं को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। आखिरकार मरीजों को निराश लौटना पड़ा। ऐसी महिला मरीज जिनकी बुधवार को सोनोग्राफी करानी जरूरी थी उन्हे निजी अस्पतालाें की शरण लेनी पड़ी। मशीन खराब होने से महिला मरीजों ने रोष भी जताया। लेकिन तकनीकी खराबी का तुरंत समाधान करना भी अस्पताल प्रशासन के हाथ में नहीं था।

उपखंड का सबसे बड़ा अस्पताल होने के कारण यहां प्रतिदिन करीब 70 से 80 सोनोग्राफी होती है लेकिन बुधवार को एक भी सोनोग्राफी नहीं हुई। अस्पताल में सोनोग्राफी जांच के लिए सुबह मशीन को स्टार्ट किया। वार्मअप किया। इसके बाद सोनोग्राफी के लिए महिला मरीज को बुलाकर जांच करनी चाही तो डिस्प्ले बंद हो गई। सोनोलॉजिस्ट रेडियोलॉजिस्ट शीलारानी सहित स्टाफ के कर्मचारियों ने काफी मशक्कत की लेकिन डिस्प्ले नहीं अाई। बिना डिस्प्ले के सोनोग्राफी नहीं हो सकती। अस्पताल प्रशासन ने केटीपीएल कंपनी के अधिकारियों को मेल, टेलीफोन और पत्राचार के जरिये सूचना देकर तुरंत सोनोग्राफी मशीन को सही कराने के लिए कहा है। लेकिन इंजीनियराें की व्यस्तता के कारण गुरुवार को इंजीनियर भेजने की बात केटीपीएल कंपनी ने कही है। ऐसे में संभवत: गुरुवार को भी सोनोग्राफी जांचें नहीं हो पाएंगी।

20 साल पुरानी मशीन, अस्पताल प्रशासन ने कहा 40 ही सोनोग्राफी करो : अस्पताल प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार अस्पताल में एकमात्र सोनोग्राफी है। ये सोनोग्राफी 20 साल पुरानी है। इस कारण बार-बार काम भी मांगती है। अस्पताल प्रशासन ने सोनोग्राफी जांच केंद्र के प्रभारी को एक दिन में अधिकतम 40 सोनोग्राफी करने के लिए कहा है। इससे ज्यादा सोनोग्राफी की क्षमता मशीन की नहीं है। लेकिन अस्पताल में 60 से 80 तक सोनोग्राफी की जाती है। इस कारण मशीन पर अत्यधिक दबाव बढ़ जाता है।

बुधवार सुबह 8 बजे मशीन में हुई खराबी, घंटों इंतजार करने के बावजूद नहीं हुई साेनोग्राफी, निजी अस्पताल में जाने के सिवाय मरीजों के पास नहीं कोई विकल्प

अस्पताल प्रशासन ने की केटीपीएल कंपनी को शिकायत, अन्य कॉल में ै व्यस्तता के कारण आज आएंगे इंजीनियर, अाज भी नहीं होगी जांच

मदनगंज-किशनगढ़. सोनाेग्राफी मशीन खराब होने के कारण महिला मरीजों को उठानी पड़ी परेशानी।

प्राइवेट में 600 रुपए तक वसूलते है, अस्पताल में निशुल्क होती है

किशनगढ़ के 210 गांव, शहरी जनता सहित रूपनगढ़ उपखंड, परबतसर, अरांई, टौंक जिले, दूदू क्षेत्र तक के मरीज सोनोग्राफी व इलाज के लिए यहां आते है। मरीजों का दबाव बहुत ज्यादा रहता है। इस कारण यहां प्रतिदिन 60 से 70 सोनोग्राफी होती है। लेकिन महिलाओं की कतार इससे भी ज्यादा होती है। रोजाना प्रसूताएं, महिलाएं सोनोग्राफी के लिए घंटों सुबह से भूखी प्यासी रहकर कतार में लगी रहती है। बुधवार को भी यही स्थिति रही और सुबह से घंटों इंतजार करने के बाद मशीन खराब होने की कहकर मरीजाें को भेजा गया। अब मजबूरी में अधिकांश मरीजाें को निजी अस्पताल, नर्सिंग होम पर जाकर सोनोग्राफी करानी पड़ी। सरकारी अस्पताल में जहां सोनोग्राफी निशुल्क होती है वहीं निजी अस्पताल 500 से 600 रुपए तक सोनाग्राफी जांच के वसूलते है।

किशनगढ़. मशीन खराब होने से बंद पड़ा कक्ष।

सोनोग्राफी मशीन अचानक खराब हो गई। सूचना मिलते ही हमने केटीपीएल कंपनी को मेल, मोबाइल, पत्र के जरिये कंप्लेंट लिखाकर घेराबंदी कर दी। कंपनी से जवाब आया कि इंजीनियर दूसरी कॉल पर व्यस्त है। ऐसे में गुरुवार को इंजीनियर भेजेंगे। हमारी तरफ से 24 घंटे में समस्या का समाधान हो जाए इसका प्रयास करते है। डॉ. नरेश मित्तल, पीएमओ, यज्ञनारायण अस्पताल, किशनगढ़

बीस साल पुरानी सोनोग्राफी मशीन हुई खराब, महिलाएं निराश लौटीं
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |