पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Kishangarh News Rajasthan News Kareena Suspect Found In Kishangarh Again Admitted In Isolation

किशनगढ़ में फिर मिला काेराेना संदिग्ध, आइसोलेशन में भर्ती

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

किशनगढ़ से एक बार फिर काेराेना संदिग्ध मरीज शनिवार काे जवाहरलाल नेहरू चिकित्सालय के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करवाया गया है। यह तीसरा मौका है जब किशनगढ़ से काेराेना संदिग्ध अाया है। इससे पहले भी तीन लाेग किशनगढ़ से भर्ती हाे चुके हैं। अस्पताल प्रशासन ने चिकित्सा विभाग काे काेराेना संदिग्ध अाने की सूचना दे दी है। विभाग मरीज के घर परिजन सहित अासपास के क्षेत्र में सर्वे करवा रहा है। अस्पताल में दाे स्वाइन फ्लू के मरीज भी भर्ती हुए। देर शाम एक मरीज की रिपोर्ट पॉजीटिव अाई है।

किशनगढ़ निवासी एक युवक के सर्दी व जुकाम की शिकायत के बाद परिजन अस्पताल लेकर गए। जहां चिकित्सकों काे काेराेना के लक्षण नजर अाने पर उसे अजमेर रेफर कर दिया। यहां प्राथमिक जांच में उसके काेराेना के लक्षण सामने अाए हैं। आइसोलेशन वार्ड में उसे भर्ती करवाया गया है।

स्वाइन फ्लू पॉजीटिव भर्ती

इधर जेएलएन अस्पताल के अाइसाेलेशन वार्ड में देर शाम दाे स्वाइन फ्लू के मरीज भर्ती हुए। धोलाभाटा निवासी मरीज की रिपोर्ट ताे निगेटिव अाई लेकिन घूघरा निवासी मरीज की रिपोर्ट पॉजीटिव अाई है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने स्वाइन फ्लू के दाेनाें ही पीड़ित मरीजों के घर व अास पास के क्षेत्रों में सर्वे करवाने के साथ ही टेमीफ्लू का वितरण किया गया है।

इधर... संदिग्ध मरीज की अफवाह ने उड़ाई विभाग की नींद

अजमेर/भिनाय | पहले भिनाय बाद में केकड़ी के जिला अस्पताल से अजमेर काेराेना संदिग्ध मरीज काे रेफर किए जाने की सूचना वाटसएप ग्रुप पर अपलोड हाेते ही चिकित्सा विभाग के अधिकारियों की नींद उड़ गई। प्रदेश के चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा के गृह क्षेत्र केकड़ी अस्पताल से काेराेना संदिग्ध की सूचना अाने के कारण विभाग तुरंत हरकत में अा गया।

जवाहरलाल नेहरू चिकित्सालय में संदिग्ध मरीज की बारीकी से स्केनिंग की गई। काेराेना वायरस के लक्षण एक भी मरीज मेंं नजर नहीं अा रहे थे। केवल खांसी, गले में खराश व बुखार मानकर उसे काेराेना समझ लिया गया। गोवा में होटल के अंदर लगातार विदेशियों के संपर्क में रहने के कारण उसे काेराेना संदिग्ध माना गया, जबकि अभी तक गोवा में एक भी संदिग्ध नहीं मिला है। काेराेना काे लेकर गलत जानकारी व्हाट्सएप ग्रुप में अपलोड किए जाने काे सीएमएचओ डाॅ. के के साेनी ने गंभीर माना। इस मामले में चिकित्सक काे फटकार लगाने के साथ ही पाबंद किया गया कि एेसी बातें लिखकर वह आमजन काे भ्रमित नहीं करे। गाैरतलब है कि गोवा की एक होटल में काम करने वाला बड़-गांव निवासी गणपत सिंह पुत्र जयसिंह गत 5 मार्च काे ही गोवा से लौटकर गांव अाया था।

खबरें और भी हैं...