--Advertisement--

ड्राई-डे पर शराब की 200 पेटियां बेची, आबकारी विभाग ने छापा मारा तो सामने आई हकीकत

Kota News - विधानसभा चुनावों में निर्वाचन विभाग के आदेशों की जमकर धज्जियां उड़ाई गई। चुनावों के चलते प्रशासन ने आदेश दिए कि 5...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 04:05 AM IST
Kota News - 200 bars of liquor were sold on dry day excise department raided the reality
विधानसभा चुनावों में निर्वाचन विभाग के आदेशों की जमकर धज्जियां उड़ाई गई। चुनावों के चलते प्रशासन ने आदेश दिए कि 5 दिसंबर शाम 5 बजे बाद से शराब की बिक्री पूरी तरह बंद होगी। लेकिन, इस आदेश को हवा दिखाते हुए शहर में जमकर शराब परोसी गई। इसका खुलासा आबकारी विभाग द्वारा विधानसभा चुनाव से एेनवक्त पहले 6 दिसंबर रात को की गई छापामार कार्रवाई में हुई। कोटा उत्तर विधानसभा क्षेत्र के नयापुरा में आबकारी महकमे ने छापा मारा। जिस दुकान पर छापा मारा, वहां 200 पेटियां शराब की कम मिली। यानी 5 से 6 दिसंबर के बीच जब दुकान खुली नहीं तो अंदर रखा माल कम कैसे हो गया? जिससे एक बार पूरे महकमे के होश फाख्ता हो गए। आबकारी विभाग ने 7 दिसंबर को मामले में मुकदमा दर्ज करके इसे जांच में ले लिया है।

आबकारी महकमें से जुड़े सूत्रों ने बताया कि विधानसभा चुनाव के दौरान शहर में चुनाव आयोग से जुड़े कई अधिकारी-कर्मचारी गोपनीय रूप से निगाह रखे हुए थे। इसी दौरान एक गुप्त सूचना पर आबकारी महकमे ने 6 दिसंबर रात करीब 10 बजे से नयापुरा थाने के पास स्थित अंग्रेजी शराब की दुकान पर छापा मारा। दुकान पर बाहर से ताला लगा हुआ था, जिस पर अधिकारियों ने दुकान संचालक को मौके पर बुलाया। जब दुकान को खोलकर चेक किया गया तो स्टॉक रजिस्टर में से अलग-अलग 2-3 ब्रांड की 200 शराब की पेटियां गायब मिली। जबकि 5 दिसंबर को जो स्टॉक रजिस्टर था, उसमें यह पेटियां दर्ज थी। ऐसे में दोनों दिन के रजिस्टर मिसमैच हो गए और यह पुष्ट हो गया कि प्रशासन के आदेश की अवहेलना करते हुए अवैध रूप से शराब बेची गई है।


चुनाव आयोग को जाएगी रिपोर्ट, लाइसेंस रद्द होने की संभावना : ऐसे मामलों में आबकारी विभाग एक्साइज एक्ट की धारा 58सी में कार्रवाई करता हैं, जो सख्त कार्रवाई मानी जाती है। आबकारी महकमे के जानकारों की मानें तो अमूमन इस तरह के केस सामने आने पर विभाग लाइसेंस निरस्त करता है। इधर, इस पूरे मामले को इसलिए भी गंभीर माना जा रहा है कि क्योंकि ऐसा ठीक चुनाव के एक दिन पहले हुआ और विभाग से बाहरी व्यक्ति की सूचना देने पर कार्रवाई हुई। इस मामले की पूरी तथ्यात्मक रिपोर्ट चुनाव आयोग भी भेजी जाएगी।

ड्राई-डे पर शराब बेचने वाले लाउंज मालिक पर आबकारी विभाग मेहरबान

चुनाव शांति से कराने के लिए जिला प्रशासन की सख्ती के बावजूद शहर के कई लाउंज में शराब परोसी गई। ड्राई डे होने के बावजूद यहां जाम छलके। भास्कर ने अपने स्टिंग में रंगबाड़ी स्थित बुलेट लाउंज को जिला प्रशासन व निर्वाचन आयोग के आदेशों की खुले आम धज्जियां उड़ाते हुए बेनकाब किया। पुलिस ने यहां से शराब बेचते व लोगों को शराब परोसते एक को पकड़ा भी, लेकिन दो दिन बाद भी आबकारी विभाग के अधिकारियों ने रेस्टोरेंट मालिक के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। आबकारी विभाग में लाउंज संचालक ने शनिवार व रविवार को पार्टी लाइसेंस का रजिस्ट्रेशन भी करवा रखा है, फिर भी आबकारी विभाग ने कार्रवाई के नाम पर अभी तक कुछ नहीं किया गया। मजेदार बात तो यह है कि आबकारी विभाग के अधिकारियों का अब तक उस लाउंज के संचालक का नाम व निवास तक के बारे में जानकारी नहीं मिल पाई है।

कर्मी को जेल भेजकर खानापूर्ति की : आबकारी विभाग ने कार्रवाई के दौरान यहां पर काम कर रहे। एक युवक को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ मामला दर्ज कर उसे जेल भेज खानापूर्ति कर ली। जबकि नियमानुसार जिसके नाम से लाउंज संचालित हो रहा है, उसके खिलाफ भी आबकारी विभाग को मामला दर्ज करना चाहिए था, लेकिन विभाग ने उस पर मेहरबानी दिखाते हुए उसपर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है।

रंधावा के कार्यक्रम में भी यही हुआ था : पंजाबी सिंगर रंधावा के कार्यक्रम में आयोजकों ने वहां पहुंचे लोगों को जमकर शराब बांटी। 400 लोगों के लिए शराब वितरण का आबकारी विभाग से परमिशन ली और कार्यक्रम में हजारों लोगों को शराब बांटी। यहां तक की कोचिंग स्टूडेंट्स तक को भी शराब बांटी गई। आबकारी विभाग ने जांच में इस शिकायत को सही भी पाया। लेकिन कार्रवाई के नाम पर आज तक कुछ नहीं हुआ। अधिकारी सूत्रों के अनुसार विभाग ने आयोजक पर जुर्माना कर उसे छोड़ दिया है।

X
Kota News - 200 bars of liquor were sold on dry day excise department raided the reality
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..