नीट / 40 से 80% दिव्यांगता होने पर ही निशक्त श्रेणी में माने जाएंगे छात्र

X

  • 40 फीसदी से कम डिसेबिलटी हुई तो दिव्यांग श्रेणी में नहीं
  • नीट-2019 के लिए 7 दिसंबर से आवेदन किए जा सकते हैं

Dec 05, 2018, 04:14 AM IST

कोटा. नीट में निशक्त कैटेगरी को लेकर नीट यूजी के सीनियर डायरेक्टर की ओर से ऑफिशियल नोट जारी कर स्थिति साफ की गई है। मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया की ऑफिशियल वेबसाइट पर जारी गाइडलाइन में विभिन्न प्रकार की दिव्यांगता श्रेणियां दी गई हैं। इनमें दिव्यांगता के प्रतिशत के आधार पर पात्रता दी गई है।

 

पहली दिव्यांगता श्रेणी लोकोमोटिव डिसेबिलिटी है। यदि लोकोमोटिव डिसेबिलिटी 40% से कम है तो विद्यार्थी मेडिकल कोर्स के लिए तो पात्र है, लेकिन दिव्यांग की श्रेणी में नहीं आएगा। लोकोमोटिव डिसेबिलिटी 40%  से 80% के बीच है तो विद्यार्थी दिव्यांग श्रेणी में नीट-2019 के लिए आवेदन कर सकता है। लोकोमोटिव डिसेबिलिटी 80% से ज्यादा है तो विद्यार्थी मेडिकल कोर्स के लिए पात्र ही नहीं होगा। नीट-2019 के लिए 7 दिसंबर से आवेदन किए जा सकते हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना