Hindi News »Rajasthan »Kota» Couple Survive In Extream Road Accident

हादसे में चकनाचूर हो गई कार, जानें कैसे बच गई आगे बैठे कपल की जान

वहीं पीछे बैठे माता-पिता की जान चली गई और साली की हालत नाजुक।

Bhaskar News | Last Modified - Dec 04, 2017, 03:46 AM IST

कोटा.7 नवंबर को हुए कार हादसे में एक बेहद चौंकाने वाली बात सामने आई है। दरअसल इस हादसे में खड़े कार ट्रक से जाकर भिड़ी अाैर आगे से पूरी तरह चकनाचूर हो गई। कार में आगे बैठे कपल सुरक्षित बच गए और पीछे बैठे 3 में से 2 की मौत हो गई। एक महिला की हालत अभी भी नाजुक है। हादसे के बाद कार की हालत देख एक बार कोई यकीन ही नहीं कर सकता कि इसमें आगे बैठे लोग बच सकते हैं? यह सब कैसे हुआ, किन कारणों से आगे बैठे लोग बच गए? यह सब समझने के लिए भास्कर ने इस केस की पड़ताल की। माता-पिता की मौत और साली मौत से जूझा रही...

- धनेश्वर टोल प्लाजा के पास 27 नवंबर को ये हादसा हुआ था। हादसे के वक्त कार को बसंत विहार निवासी नवीन जैन (44) ड्राइव कर रहे थे।

- वे और उनकी पत्नी सुनीता (38) आगे बैठे थे। पीछे वाली सीट पर नवीन के पिता बाबूलाल, मां लाड़ बाई और नवीन की साली सरोज थीं।

- हादसे में बाबूलाल और लाड़ बाई की मौत हो चुकी, जबकि सरोज के ब्रेन का बड़ा ऑपरेशन किया गया है, वह अभी निजी हॉस्पिटल में भर्ती हैं। नवीन और उनकी पत्नी सुनीता को मामूली चोट आई थी।

- भास्कर ने पड़ताल में सामने आया है कि सीट बेल्ट और एयर बैग ने आगे बैठे कपल की जान बचा ली।

सीट बेल्ट लगी होती तो आज माता-पिता मेरे साथ होते

नवीन ने बताया, "मैं गाड़ी ड्राइव कर रहा था। मैं और मेरी पत्नी आगे बैठे थे। दोनों ने सीट बेल्ट लगा रखी थी। सीट बेल्ट लगी होने से ही आगे के एयर बैग खुले और हम दोनों पति-पत्नी बच गए। पीछे बैठे माता-पिता और मेरी पत्नी की बहन उछलकर आगे आए, शीशा टूटा और ट्रक से उनके सिर टकराए। इसके बाद का मुझे भी कुछ पता नहीं। मैं पहले सीट बेल्ट नहीं लगाता था, लेकिन, माउंट आबू में मेरे एक दोस्त की कार खाई में गिर गई थी और सीट बेल्ट लगी होने की वजह से वह बच गया था। तभी से मैंने सीट बेल्ट लगाना शुरू कर दिया। मैं सभी से कहूंगा कि सीट बेल्ट जरूर लगाएं। यदि पीछे बैठे माता-पिता ने सीट बेल्ट लगाई होती तो आज वे हमारे बीच होते। आज की कारों में पीछे भी सीट बेल्ट होती है, मेरी कार में भी थी।"

एक्सपर्ट व्यू - पीछे बैठे तीनों लोगों के सिर में लगी थी गंभीर चोट

सीनियर न्यूरो सर्जन के मुताबिक, जब इस घटना के बारे में मुझे पूरी जानकारी मिली तो मुझे खुद ताज्जुब हुआ। तीनों जख्मियों को सबसे पहले मैंने ही देखा था, तीनों के हैड इंजरी थी। 2 की मौत हो गई और तीसरी महिला की भी हालत नाजुक ही है। इस केस से पता चलता है कि सीट बेल्ट लगाना सेफ्टह के लिहाज से कितना अहम है। हादसे में पीछे बैठे तीनों लोग उछलकर आगे गए और ट्रक के लोहे से सिर पर गंभीर चोट लगी। जबकि, आगे बैठे लोग सीट बेल्ट की वजह से उछल नहीं पाए और एयर बैग खुल गए, जिससे वे बच गए।

आगे की स्लाइड्स में देखें खबर से जुड़ीं फोटोज...

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kota

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×