--Advertisement--

भास्कर और निगम का स्वच्छता अभियान कल से, ताकि सुधर जाए कोटा की रैंकिंग

स्वच्छता सर्वे : 28 से 31 दिसंबर तक शहर में होंगे कई कार्यक्रम, एलन कोचिंग इंस्टीट्यूट भी जुड़ा है इस अभियान से

Danik Bhaskar | Dec 27, 2017, 06:49 AM IST

कोटा. दैनिक भास्कर और नगर निगम ने स्वच्छता सर्वे में कोटा शहर को नंबर वन बनाने के लिए हाथ मिला लिया है। अभियान के तहत 28 से 31 दिसंबर तक शहर में कई कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे, ताकि केंद्र की ओर से 4 जनवरी से शुरू किए जा रहे स्वच्छता सर्वे में हमारी रैंकिंग सुधरे। इस अभियान से एलन कोचिंग संस्थान भी जुड़ा हुआ है। इस अभियान को एक बड़े मिशन के रूप में चलाया जाएगा और कोशिश यही रहेगी कि कचरे अौर गंदगी को शहर से दूर कर दिया जाए। शहरवासियों के लिए भी यह अच्छा मौका रहेगा कि वे स्वच्छता को लेकर शुरू किए जा रहे इस मिशन को आंदोलन का रूप दे दें।

सर्वे 4 जनवरी से, इस बार 4 हजार शहरों से होगा मुकाबला

दैनिक भास्कर के साथ शहरवासी और नगर निगम भी इस सर्वे में कोटा की अच्छी रैंकिंग चाहते हैं। इसी भावना का सम्मान करते हुए यह अभियान चलाया जा रहा है। इतना तय है कि कोटा को नंबर वन बनाने के लिए जनता को भी जागरूक होना पड़ेगा, शहर को साफ रखने को खुद की जिम्मेदारी समझना होगा। ऐसा करने पर ही सर्वे टीम को कोटा साफ-सुथरा नजर आएगा। खुले में शौच से पूरी तरह मुक्त होने के लिए हर परिवार को टॉयलेट का उपयोग करना होगा। जनता द्वारा सही जवाब देने पर निगम को 1400 अंक मिल सकते हैं। किन-किन बातों से नंबर कट सकते हैं या कोटा पिछड़ सकता है, वो काम जनता नहीं करें। स्वच्छता एप अधिक से अधिक डाउनलोड हो।


इस बार चुनौती कठिन रहेगी, क्योंकि हमारा मुकाबला 4 हजार दूसरे शहरों से होगा। पिछले वर्ष 500 शहरों में हुए स्वच्छता सर्वेक्षण में कोटा 341वें नंबर पर था।

#इन सवालों के सही जवाब पर मिलेंगे नंबर

Q. क्या आप जानते हैं कि आपका शहर स्वच्छता सर्वे में भाग ले रहा है- 175 नंबर
उत्तर-
हां


Q. आपका क्षेत्र पिछले साल के मुकाबले ज्यादा साफ है या नहीं- 175 नंबर
उत्तर-
हां


Q. इस बार आपके शहर में सार्वजनिक स्थानों पर डस्टबिन रखना शुरू किया या नहीं- 150 नंबर
उत्तर.
जी हां, सड़क नए चित्रकारी वाले डस्टबिन रखे हैं

Q. क्या आप डोर-टू -डोर कचरा संग्रहण हो रहा है, क्या आप उससे संतुष्ट है।- 175 नंबर
उत्तर. जी हां डोर-टु -डोर कचरा कलेक्शन आधे वार्डों में शुरू हो चुका है।

Q. पब्लिक टायलेट इस साल और बने है या नहीं- 150 नंबर
उत्तर-
इस वर्ष करीब 8 हजार टायलेट बन चुके हैं।

- जनवरी 2017 से दिसंबर 18 के बीच स्वच्छता एैप डाउनलोड करने पर। 150 नंबर तथा एेप 70% डाउनलोड हुआ तो- 100 नंबर
- एेप पर आई शिकायतों का कितने प्रतिशत समाधान कितने समय में नगर निगम द्वारा किया गया।- 150 नंबर