--Advertisement--

बिजनेसमैन को किडनैप कर अश्लील फोटो खींचे, पांच लाख फिरौती मांगी

व्यापारी खुद छूटकर पुलिस के पास पहुंचा, दादाबाड़ी पुलिस ने आरोपी पकड़े, आरकेपुरम थाने में दर्ज नहीं हुई रिपोर्ट

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2017, 06:14 AM IST
businessman kidnapping for ransom in kota

कोटा. व्यापारी का अपहरण करके ब्लैकमेल करने और फिरौती मांगने जैसे गंभीर मामले में कोटा पुलिस कैसे काम करती है, इसकी नजीर शुक्रवार को देखने को मिली। व्यापारी जहां रहता है और जहां घटना हुई, दोनों थानों की पुलिस को पूरे मामले का पता था। व्यापारी दादाबाड़ी थाना क्षेत्र में रहता है। समाजबंधुओं की सूचना पर दादाबाड़ी पुलिस ने अपहरणकर्ताओं को पकड़ लिया। घटना आरकेपुरम क्षेत्र में हुई थी और वो मुकदमा दर्ज करने को तैयार नहीं हुए क्योंकि दादाबाड़ी पुलिस बदमाशों को पकड़ चुकी थी। 8 घंटे चले मामले के बाद समाजबंधुओं ने गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया से बात की। कटारिया के हस्तक्षेप के बाद आरकेपुरम पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया। दो थानों की पुलिस के बीच फरियादी को मुकदमा दर्ज करने को लेकर गृहमंत्री तक क्यों जाना पड़ा। पढि़ए, रिपोर्ट-

धोखाधड़ी : उधार दिए 6 लाख मांगने की बात पर शुरू हुआ विवाद

दरअसल, दादाबाड़ी के राजेश जैन थैली बेचने का व्यापार करते हैं। करीब सालभर पहले दादाबाड़ी के यग्नेश जैन ने उनसे करीब 6 लाख रुपए व्यापार में इन्वेस्ट करने का बोलकर लिए। जब यग्नेश जैन ने पैसे नहीं लौटाए तो राजेश जैन ने दादाबाड़ी थाने में धोखाधड़ी करने की एक शिकायत दर्ज करवाई। इसी दौरान यग्नेश ने उससे समझौता कर लिया और 1-1 लाख करके चैक से पैसा देना का वादा किया। चेक बाउंस हो गया।

चालाकी : सुबह 10 बजे फोन करके बुलाया आरकेपुरम
राजेश जैन के पास शुक्रवार सुबह उसके जानकार मोनू उर्फ आशीष उर्फ नरेन्द्र नामदेव का फोन आया। माेनू ने कहा कि वो यग्नेश से बात करके पूरा पैसा दिलवा देगा। राजेश पैसे लेने के लिए माेनू के साथ आरकेपुरम चला गया। मोनू उसे बॉम्बे योजना मकान नंबर 1-जी-31 में ले गया। वहां उसने झांसा दिया कि वो एक पुलिस वाला है, जो मामला सेट करवा देगा। वहां मोनू ने फोन करके अफसाना उर्फ खुशबू उर्फ रेखा को बुलाया।

फिरौती : संदिग्ध फोटो शूट, परिजनों से मांगे 5 लाख
मोनू के कहने पर अफसाना ने राजेश के साथ संदिग्ध अवस्था में फोटो शूट कराया। फोटो माेनू ने मोबाइल से लिए। अफसाना व मोनू ने जैन से कहा कि अगर अपने रिश्तेदारों को पैसे के लिए फोन नहीं किया तो उसे दुष्कर्म के केस में फंसा देंगे।

समाज एक्टिव : फोन रिकॉर्ड किया, पुलिस की मदद की
राजेश की पत्नी व बहन ने समाजबंधुओं को पूरी जानकारी दी। समाजबंधुओं ने राजेश को फोन किया तो फोन पर राजेश ने व्यापार में घाटे वाली बात फिर दोहराई। मामला संदिग्ध लगने पर समाजबंधुओं ने दादाबाड़ी पुलिस को सूचना दी। इसी बीच राजेश जैन कमरे में अफसाना को बाथरूम जाने का बहाना करके भाग गया। दादाबाड़ी पुलिस ने सादा वर्दी में पुलिस भेजी और जैसे ही मोनू वहां पहुंचा पुलिस ने उसे पकड़ लिया।

सीआई बोले-गलत काम करने गया था फरियादी
आरकेपुरम सीआई धनराज मीणा मुकदमा दर्ज करने को तैयार नहीं हुए। बोले- अपहरण हुआ ही नहीं... जैन तो खुद वहां गलत काम करने गया था...। उनके इस रवैये पर समाज के विनाेद जैन टोरड़ी, विकास जैन, जेके जैन, मनोज जैन आदिनाथ, वीरेंद्र जैन, राजेश जैन आनंद, विजय दुगेरिया, संजय निर्वाण, मनोज बाकलीवाल सहित कई समाजबंधु थाने पर पहुंचे। कई बार बोलने पर भी एफआईआर तक दर्ज नहीं हुई तो समाजबंधुओं द्वारा इस मामले से गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया को अवगत करवाया। उनके हस्तक्षेप के बाद मुकदमा दर्ज हुआ।

businessman kidnapping for ransom in kota
X
businessman kidnapping for ransom in kota
businessman kidnapping for ransom in kota
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..