--Advertisement--

राजस्थान: 2 डॉक्टर गिरफ्तार, रेजीडेंट्स भी 18 से करेंगे हड़ताल

हड़ताल से पहले सेवारत डॉक्टरों की गिरफ्तारी शुरू

Danik Bhaskar | Dec 17, 2017, 03:50 AM IST

कोटा. सेवारत डॉक्टरों की 18 दिसंबर से घोषित हड़ताल के पहले ही सरकार ने धरपकड़ अभियान शुरू कर दिया। शुक्रवार रात कोटा पुलिस ने शहर के 2 डॉक्टरों को गिरफ्तार कर लिया। दोनों डॉक्टरों को गिरफ्तारी के बाद जमानत पर छोड़ा गया है। पुलिस ने शुक्रवार को कोटा में सेवारत चिकित्सक संघ के प्रदेश महासचिव डॉ. दुर्गाशंकर सैनी के घर भी छापा मारा था, लेकिन वे नहीं मिले।


- बोरखेड़ा थाना सीआई महावीर सिंह ने बताया कि पुलिस ने शुक्रवार को डॉक्टर कुलदीप राणा और मनीष बोहरा को गिरफ्तार किया था, जिनको बाद में जमानत पर छोड़ा गया है। वहीं, रेजीडेंट्स डॉक्टर एसोसिएशन भी सेवारत डॉक्टरों के समर्थन में आ गई है।

- कोटा रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. राजमल मीणा ने कहा कि हम शनिवार को मंत्री से अपनी मांगों व सेवारत चिकित्सकों के मुद्दे पर बात करने आए थे, लेकिन उनकी वार्ता से हम कतई सहमत नहीं है। 18 से रेजीडेंट्स डॉक्टर हड़ताल पर रहेंगे।

रेजीडेंट डॉक्टर्स ने किया चिकित्सा मंत्री का घेराव, सर्राफ बोले-काेई वार्ता नहीं होगी

- मेडिकल कॉलेज के सिल्वर जुबली समारोह में भाग लेने आए चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ का शनिवार शाम रेजीडेंट डॉक्टरों ने घेराव कर लिया।

- कॉलेज कैंपस में कार्यक्रम समाप्ति के बाद जैसे ही चिकित्सा मंत्री मंच से उतरकर जाने लगे तो रेजीडेंट डॉक्टरों ने उन्हें घेर लिया और कहा कि सेवारत चिकित्सकों पर दमनात्मक कार्रवाई की जा रही है।

- रेजीडेंट्स की मांगों पर भी कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा। मंत्री ने उन्हें समझाने का प्रयास किया, लेकिन रेजीडेंट्स ने नारेबाजी शुरू कर दी।

जिसे जो समझना हो समझे

- इससे पहले मीडिया ने बातचीत के दौरान चींटी वाले बयान को लेकर सर्राफ ने कहा कि मैंने कभी ऐसा कोई बयान नहीं दिया। जब उनसे पूछा गया कि डॉक्टर सरकार के इस रवैये की तुलना ब्रिटिश हुकूमत से कर रहे हैं तो दो टूक कहा कि उन्हें जो समझना है, समझें। ऐसे ही सख्ती बरती जाएगी। उन्होंने दो टूक कहा कि इस बार सेवारत डॉक्टरों से काेई बात नहीं होगी।

गफलत में मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर को उठा लाई पुलिस

- धरपकड़ शुरू होने के बाद शनिवार को सेवारत चिकित्सक संघ के ज्यादातर पदाधिकारी भूमिगत हो गए। हालांकि, मेडिकल कॉलेज से संबद्ध अस्पतालों व शहरी स्वास्थ्य केंद्रों पर बड़ी संख्या में इन सर्विस डॉक्टर ड्यूटी पर आए। ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्रों के डॉक्टर जरूर गायब रहे।

- उधर, गफलत में पुलिस शुक्रवार रात मेडिकल कॉलेज के रेडियोलॉजी विभाग में प्रोफेसर डॉ. धर्मराज मीणा के कुन्हाड़ी स्थित घर पहुंच गई।

- उन्होंने बताया कि वे मेडिकल कॉलेज में प्रोफेसर हैं और हड़ताल से उनका कोई वास्ता नहीं है। इसके बावजूद पुलिसकर्मी उन्हें रात 12 बजे थाने ले गए। वहां उनसे हड़ताल पर न जाने का लिखित आश्वासन लेने के बाद ही जाने दिया। बाद में पता चला कि डॉ. धर्मराज नाम से ही एक सेवारत चिकित्सक भी कार्यरत है।