--Advertisement--

किराए का कमरा लेने के बहाने कर गया रैकी, आंखों में मिर्च पाउडर फेंक लूट ली चेन

वृद्धा ने एकबारगी लुटेरे को पकड़ भी लिया था, लेकिन मिर्च के कारण जलन हुई तो छोड़ना पड़ा

Danik Bhaskar | Dec 20, 2017, 05:53 AM IST

कोटा. रामपुरा में मंगलवार को ऐसी वारदात हो गई, जिससे पूरा मोहल्ला दहशत में आ गया। कोतवाली के सामने छोटी समाध की गली में दोपहर साढ़े 11 से 12 बजे के बीच 30-35 साल का युवक सरकारी स्कूल की रिटायर्ड टीचर सुशीला मित्तल (65) के घर पहुंचा। बदमाश ने उनकी आंखों में मिर्च पाउडर फेंका और चेन लूट ली।

- बताया गया कि युवक एक दिन पहले भी सुशीला के घर कमरा किराए से लेने आया था, लेकिन उन्होंने मना कर दिया।

- इसके बाद मंगलवार को यह युवक फिर आया। उसने कहा कि मुझे पड़ोस में ही कमरा मिल गया है। मेरा गार्ड सामान लेकर आ रहा है। आप झाड़ू दे दो। कुछ देर बाद उसने पानी मांगा। तभी युवक ने मौका पाकर सुशीला को धक्का दिया। उनकी आंखों में मिर्ची फेंकी और गले से चेन तोड़कर फरार हो गया। सुशीला ने लुटेरे को पकड़ लिया, लेकिन मिर्ची फेंकने से वे असहज हो गई और लुटेरा भाग गया।

सीसीटीवी फुटेज मिला : बाइक पर हेलमेट पहनकर निकला लुटेरा

- दिनभर के प्रयास के बाद शाम को पुलिस को रामपुरा बाजार में एक प्रतिष्ठान पर लगे सीसीटीवी कैमरे से लुटेरे का फुटेज मिला। पुलिस ने इसकी तस्वीरें भी जारी की।

- हालांकि, बाइक पर सवार इस लुटेरे ने हेलमेट पहना हुआ है, इसलिए चेहरा नजर नहीं आ रहा।

- डीएसपी राजेश मेश्राम ने बताया कि बाइक के नंबरों को भी तकनीकी मदद से देखा तो सिर्फ इतना नजर आया कि बाइक आरजे 20 नंबर से है।

भतीजा बोला-घर में ही सुरक्षित नहीं तो फिर कहां जाएं?
- सुशीला के भतीजे कमलेश गुप्ता इस घटना से खासे डरे हुए हैं। कमलेश ने बताया कि मैं दुकान पर था। मेरी पत्नी टीचर है, वह पढ़ाने चली गई थी। बेटियां स्कूल गई थीं। इस वक्त घर में अकेली बुआ रहती हैं। वे रोज सुबह मंदिर जाती हैं और लौटकर दूध लेकर उसे गर्म करने किचन में जाती हैं। यह लुटेरा उसी वक्त आया और उन्हें बातों में उलझाकर वारदात कर डाली।

- कमलेश ने बताया कि एक दिन पहले वो आया था तो उसने बुआ को मेरा नाम लेकर कहा था कि कमलेश जी ने बताया है कि हमारे यहां कमरा खाली है, जबकि मेरी किसी से कोई बात ही नहीं हुई और हमारे यहां इतने कमरे ही नहीं कि किराए पर दें। हालांकि, यह बात भी बुआ ने मुझे बाद में बताई। वह युवक करीब एक घंटे से हमारी गली में था। पड़ोस में अन्य महिलाओं से भी काफी देर उसने बातें की। बुआ के गले में 2 तोला की सोने की चेन थी। भगवान का शुक्र है कि बुआ को चोट नहीं लगी। जब मैं दुकान से कोतवाली पहुंचा तो उनकी आंखें लाल हो रखी थीं। बाद में मुझे बताया गया कि उनकी आंखों में मिर्ची फेंकी गई है। आप ही बताइए, मेरे परिवार में तो कोई दूसरा पुरुष भी नहीं है। पत्नी और बुआ ही रहती हैं। अब घर में भी महिला सुरक्षित नहीं है तो फिर कहां सुरक्षित मानेंगे?

- 30-35 साल के युवक ने खाकी कलर की जैकेट और नीले रंग की जीन्स पहनी हुई थी। हुलिए के आधार पर उसकी तलाश कर रहे हैं। इस गली में हमने खंगाल लिया, कहीं भी सीसीटीवी कैमरा नहीं है।

- छुट्टन लाल, थानाधिकारी, कोतवाली