Hindi News »Rajasthan »Kota» Families Have Expressed Their Fear Of Murder, Not Being Suicide By Mayank

परिजनों ने जताई हत्या की आशंका, मयंक के सुसाइड नहीं करने के कारण भी गिनाए

रविवार को नहर में मिला था युवक का शव, पुलिस को मोबाइल कॉल डिटेल से मौत का राज खुलने की उम्मीद।

Bhaskar News | Last Modified - Dec 19, 2017, 08:43 AM IST

परिजनों ने जताई हत्या की आशंका, मयंक के सुसाइड नहीं करने के कारण भी गिनाए

कोटा.युवक मयंक शर्मा का शव नहर में मिला था, लेकिन उसके परिजन इसे आत्महत्या मानने को तैयार नहीं हैं। उनका कहना है कि 4 दिन पहले मयंक मोबाइल पर किसी से बात करते हुए घर से निकला था। वो मां से बोलकर गया था कि खाना बना लो, मैं 10-15 मिनट में बड़े पापा के घर जाकर रहा हूं। 15 मिनट बाद ही उसका फोन स्विच ऑफ मिला। रविवार को उसका शव डेरा सच्चा सौदा के पीछे से निकल रही केपाटन-कापरेन ब्रांच नहर में मिला।

- शव मिलने के 24 घंटे बाद भी उसका मोबाइल गायब है। उसके दोनों नंबर भी स्विच ऑफ रहे हैं। अब पुलिस का पूरा फोकस उस मोबाइल में छुपे हुए राज को उजागर करने पर हैं। पुलिस दोनों मोबाइल नंबर की कॉल डिटेल और लोकेशन की जांच करने में जुटी हुई है।

- मयंक के पिता किशन शर्मा, बहन प्रीति शर्मा, मामा, भाई दोस्तों ने सोमवार को तीन ऐसी अहम वजह बताई, जिससे वे यह साबित करना चाहते है कि मयंक सुसाइड नहीं कर सकता।

लव अफेयर हो सकती है सुसाइड की वजह :

- जब मयंक का शव नहर में मिला, उस वक्त मौके पर एसआई मीरा बेनीवाल पहुंची थी। बेनीवाल का कहना है कि मौके पर देखने से यह सुसाइड लग रहा है। पुलिस ने 174 में मर्ग दर्ज करके जांच शुरू की। जांच अधिकारी एएसआई धर्मपाल का कहना है कि यह क्लियर सुसाइड हैं। पुलिस अब तक की जांच में सुसाइड का प्राथमिक कारण मयंक के प्रेम संबंध को मान रही हैं। हालांकि, अभी तक जांच पूरी नहीं हुई।

- वहीं, मयंक के सुसाइड के तीन मुख्य कारण पुलिस मान रही हैं। पहला- शव पर किसी तरह के चोट के कोई निशान नहीं मिले। अगर मारपीट हुई होती तो शव पर निशान मिलते, जो नहीं मिले। दूसरा- अब तक की जांच में मयंक की किसी से कोई रंजिश सामने नहीं आई। उसकी किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी। तीसरा- पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद आई फाइंडिंग को आधार माना हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक मौत का कारण फेफड़ों में पानी भरना था। नहर में डूबने पर उसके फेफड़ों में पानी भरा और उसकी मौत हुई।

कोई तनाव नहीं, खाना बनाने का कहकर गया था
मयंकको कोई तनाव नहीं था। उसके व्यवहार से भी ऐसा बिल्कुल नहीं लगा। वो शुक्रवार को ऑफिस से आया, फिर भाई के चेहरे पर साबुन लगाते हुए मजाक किया। मां से बोलकर गया कि खाना बना दो। अगर सुसाइड करना होता तो ऐसा क्यों बोलता? वो पानी से डरता था, इसलिए वो पानी में सुसाइड नहीं कर सकता।

घर से दूसरी गली तक भी पैदल नहीं जाता था
मयंकघर से बाहर बड़े पापा के घर दूसरी गली में पैदल तक नहीं जाता था। उसका शव घर से करीब 7 किलोमीटर दूर केपाटन-कापरेन ब्रांच नहर में मिला। वो वहां तक कैसे गया? उसकी बाइक भी घर पर ही है। वो रात को 10 बजे के पहले घर जाता था। शराब, ड्रग्स जैसा कोई गलत शौक नहीं था।

चेहरे से लगा कि उसकी मौत कुछ घंटों पहले हुई
वोशुक्रवार रात से लापता था और शव रविवार सुबह मिला। उसे जब नहर से निकाला गया तो चोट आने से शव पर ताजा खून था। इसे देखकर परिजनों का दावा है कि मौत कुछ घंटों पहले हुई। गोताखोरों का भी मानना है कि तीन दिन पुराना शव फूल जाता है, जबकि मयंक का शव फूला नहीं था। मयंक कभी रात को घर के बाहर नहीं रुकता था। वो दो दिनों तक कहां था?

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kota

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×