--Advertisement--

वन विभाग की टीम ने जंगली सूअर के मांस के साथ दो आरोपियों को पकड़ा, एक फरार

प्रदेश के तीसरे टाइगर रिजर्व मुकंदरा में बाघों को बसाया जाना है।

Danik Bhaskar | Jan 07, 2018, 09:11 AM IST

कोटा. प्रदेश के तीसरे टाइगर रिजर्व मुकंदरा में बाघों को बसाया जाना है। टाइगर रिजर्व के कोर एरिया के रावतभाटा रोड पर बसे कोलीपुरा गांव के तीन व्यक्तियों ने गांव से 500 मीटर की दूरी पर शुक्रवार रात खेत में फंदा लगाकर एक जंगली सूअर का शिकार किया। वन विभाग की टीम ने मांस के साथ दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि एक आरोपी फरार हो गया है।
वन विभाग को मुखबिर से सूअर के शिकार की सूचना मिली। इस पर डीसीएफ एसआर यादव ने कोलीपुरा गांव में आरोपियों की धरपकड़ के लिए दो टीमें गठित की। शनिवार दोपहर को कोलीपुरा रेंजर नवनीत शर्मा व बोराबास रेंजर संजय शर्मा के नेतृत्व में टीमों ने दबिश देकर दो व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लिया। उनके घरों से सूअर का मांस, खाल और शिकार में उपयुक्त हथियार बरामद किए हैं। आरोपियों ने अपने नाम दिनेश उर्फ कालू मीणा (21) और कमलेश मीणा (40) बताया। हालांकि, उनका एक साथी फरार हो गया। फरार आरोपी को पकड़ने के लिए वन विभाग की टीमें दबिश दे रही हैं। रेंजर नवनीत ने बताया कि पकड़े गए आरोपियों को रविवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। शिकारियों को पकड़ने वाली टीम में कोलीपुरा रेंज के फॉरेस्टर दीपक गौतम, फॉरेस्ट गार्ड राजूलाल, बोराबास रेंज से सहायक वनपाल वीरेंद्र सिंह यादव आदि थे।

आरोपी दिनेश के खेत में लगाया तार का फंदा

कोलीपुरा रेंजर ने बताया कि आरोपियों ने पहले शिकार की प्लानिंग की। आरोपी दिनेश उर्फ कालू मीणा के खेत पर फंदा लगाया। रात 11 से 12 बजे के बीच सूअर उसमें फंस गया और उसे पीट-पीटकर मार दिया। बाद में मांस का बंटवारा कर अपने-अपने घर ले आए। वन विभाग ने दिनेश के घर दबिश दी तो मांस को चूल्हे पर उबाला जा रहा था। वहीं कमलेश ने घर में छिपाकर रखा था। टीम ने फंदे में काम लिए तार बरामद किए हैं। दोनों आरोपियों को बोराबास रेंजर कार्यालय में रखा है। उनसे पूछताछ की जा रही है। कोलीपुरा गांव मुकंदरा से विस्थापित होना है।

सरिए से मारा सूअर, 20 किलो मांस बरामद : सूअर का डॉ. एके पांडेय ने कोटा जू में पोस्टमार्टम किया। डॉक्टर के अनुसार सिर में चोट के निशान मिले हैं। 20 किलो में से 2 किलो मांस पका हुआ मिला। इसके सैंपल लिए हैं। जांच के लिए भारतीय वन्यजीव संस्थान देहरादून भेजा जाएगा। सूअर दो साल की मादा थी।


^इंफार्मेशन सिस्टम के तहत शिकार की सूचना मिली थी। कार्रवाई कर दो आरोपियों को वन विभाग ने पकड़ा है। उनके खिलाफ वन्यजीव संरक्षण अधिनियम के तहत कड़ी कार्रवाई होगी।
-एसआर यादव, डीसीएफ, मुकंदरा