--Advertisement--

चाइनीज मांझे में फंसकर घायल हुए चार कबूतर, एक हफ्ते में हो चुकी 3 पक्षियों की मौत

एक की मांझे में फंसने के दौरान करंट लगने से आंखों की रोशनी चली गई।

Danik Bhaskar | Jan 09, 2018, 04:26 AM IST

कोटा. चाइनीज मांझा पक्षियों के लिए जानलेवा बन गया है। विशेषकर कबूतर के लिए। नए साल के पहले सप्ताह में सोमवार तक शहर में 33 पक्षी मांझे के शिकार बने हैं। इनमें से 3 की मौत हो गई। एक की मांझे में फंसने के दौरान करंट लगने से आंखों की रोशनी चली गई। इतना कुछ हो जाने के बावजूद जिला प्रशासन से चाइनीज मांझे की बिक्री पर रोक नहीं लगाई है। सिर्फ औपचारिकता पूरी करते हुए प्रशासन ने पतंगबाजी करने वालों के लिए आदेश जारी करते कहा कि वह सुबह 6 से 8 और शाम को 5 से 7 बजे तक पतंग नहीं उड़ाएं।


- ह्यूमन हेल्पलाइन के संयोजक मनोज जैन आदिनाथ ने बताया कि 1 से 8 जनवरी तक 33 पक्षी मांझे में फंसकर घायल हुए हैं। सोमवार सुबह स्टेशन, बालाकुंड, कुन्हाड़ी व केशवपुरा से 4 घायल कबूतर मिले। - वहीं, रविवार रात को थेगड़ा में मिले घायल कबूतर का मोखापाड़ा पशु चिकित्सालय के चिकित्सकों से ऑपरेशन करवाया गया। उसकी हड्डी मांझे से कट गई थी।

- वन्यजीव विशेषज्ञ मनीष आर्य के अनुसार कबूतरों के उड़ान भरने का समय निर्धारित नहीं है। इसलिए पतंगबाजी का समय निर्धारित करने का कोई असर नहीं होगा। प्रशासन पक्षियों के लिए घातक बन चुके मांझे पर पूर्ण रूप से रोक लगाए। अन्यथा मकर संक्रांति तक घायल पक्षियों की संख्या में और इजाफा होगा।