--Advertisement--

BJP पार्षद बोले- जनता के काम नहीं हो रहे, चुनाव में कैसे जाएंगे?

निगम के सामने तुरत-फुरत में तोड़ दिया अतिक्रमण, अन्य मामलों में ऐसी जल्दबाजी क्यों नहीं दिखाई

Danik Bhaskar | Feb 07, 2018, 08:02 AM IST

कोटा. भाजपा पार्षद दल की मंगलवार को हुई बैठक में पार्षदों ने जिलाध्यक्ष हेमंत विजयवर्गीय के सामने अधिकारियों पर अपनी भड़ास निकाली। उन्होंने कहा कि निर्माण कार्यों की फाइलें लंबे समय से पड़ी है, पेंशन फाॅर्मों पर साइन नहीं हो रहे। फाइलों के अंबार लगे हैं लेकिन, महीनों तक उनका निस्तारण नहीं किया जाता, जबकि वीआईपी मूवमेंट पर बजट भी आ जाता है और फाइलें भी निकल जाती हैं। यही हालत रही तो आने वाले चुनावों में किस मुंह से जनता के सामने जाएंगे। अधिकारी तो महापौर व अतिक्रमण समिति को जानकारी दिए बिना अतिक्रमण तोड़ रहे हैं, जबकि वर्षों से लंबित प्रकरणों पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा।


बैठक में भाजपा के आधे भी पार्षद नहीं पहुंचे थे, लेकिन जो पहुंचे उन्होंने खुलकर अपनी बात कही। पार्षदों ने कहा कि महापौर कह रहे हैं चुनाव से पहले एक-एक करोड़ के काम उनके वार्ड में हो जाएंगे। अधिकारियों का यही रवैया रहा तो आचार संहिता लग जाएगी और काम कैसे होंगे। फाइलें उपायुक्तों के पास भेजी जा रही हंै। पहले इनका समय तो निर्धारित किया जाए। निर्माण काम पूरी तरह बंद पड़े हैं, कोई काम नहीं हो रहा। अधिकारी सुन नहीं रहे हैं।

समितियों के अधिकार तक कम कर दिए, उनकी बैठकें नहीं होती और उनसे संबंधित कामों के फैसले हो जाते हैं, स्वच्छता सर्वे के नाम पर सभी काम रोके हुए हैं, पेंशन फार्मों पर साइन नहीं हो रहे, पीड़ित लगातार निगम में चक्कर लगा रहे हैं। यही हाल रहा तो किस मुंह से आने वाले चुनावों में जनता के सामने जाओगे। निगम के सामने मल्टीस्टोरी का गेट तोड़ा, इस बारे में महापौर व समिति अध्यक्ष को सूचना क्यों नहीं दी। इसमें अधिकारियों की ऐसी क्या रुचि थी, तीन-तीन साल पुरानी शिकायतें पड़ी है, उनके अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई तो कभी इस प्रकार से नहीं हुई।

ये समस्याएं भी उठाई
पार्षदों ने मीटिंग के दौरान फाइलों के निस्तारण को लेकर देरी समेत, शहर में मांस विक्रेताओं की समस्या, एलईडी लाइट्स के नहीं जलने, गर्मी की दस्तक तथा कुछ क्षेत्रों में पानी की कमी महसूस होने के बावजूद बोरिंग नहीं करवाने, मवेशियों तथा सूअरों की समस्या के बारे में नाराजगी व्यक्त की। पार्षदों ने कहा कि बोर्ड की बैठक में इन समस्याओं को लेकर अधिकारियों से एक-एक विषय पर जवाब मांगा जाएगा।