--Advertisement--

मिनिमम लैंडिंग चार्ज पर अटकी कोटा-दिल्ली फ्लाइट, हो चुका कोटा से दिल्ली का ट्रायल

सीएम व सांसद दिल्ली में केंद्रीय मंत्री से कर चुके मुलाकात, इसके बावजूद लैंडिंग चार्ज घटाने को तैयार नहीं जीएमआर कंपनी

Danik Bhaskar | Dec 27, 2017, 06:30 AM IST

कोटा. सीएम की केंद्रीय नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा से मुलाकात के बावजूद काेटा एयरपोर्ट से दिल्ली की उड़ान में आ रही उलझनें सुलझती नहीं दिख रही। सबकुछ तय होने के बाद अब दिल्ली एयरपोर्ट प्रबंधन ने लैंडिंग चार्ज में एक और शर्त जोड़ दी। इसे मानने से इंट्रा स्टेट एयर सर्विस का संचालन कर रही कंपनी सुप्रीम एविएशन ने मना कर दिया। ऐसे में फिलहाल यह उड़ान शुरू होने की कोई उम्मीद नहीं है।


दिल्ली एयरपोर्ट सरकार के पास नहीं बल्कि जीएमआर कंपनी के पास है। किसी भी प्राइवेट ऑपरेटर को वहां लैंडिंग चार्ज देना होता है। कोटा-बूंदी के सांसद ओम बिरला ने सुप्रीम एविएशन के सीईओ के साथ 28 जुलाई को दिल्ली में केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा से मुलाकात की थी। इसमें जीएमआर के उच्चाधिकारियों से भी चर्चा हुई थी और तय किया गया था कि सुप्रीम एविएशन प्रत्येक फ्लाइट की लैंडिंग पर 8 हजार रुपए देगी और पैसेंजर सर्विस फीस आदि पैसा नियमानुसार दिया जाएगा। इस तरह प्रति फ्लाइट करीब 12 हजार रुपए लैंडिंग चार्ज बन रहा था।


कंपनी ने इस आधार पर सारी तैयारियां भी कर ली, लेकिन जब डेट व टाइम स्लॉट की बात आई तो जीएमआर ने कहा कि इस चार्ज के अलावा 10700 रुपए जीएसटी के साथ मिनिमम लैंडिंग चार्ज भी देना होगा। यह चार्ज जोड़ते ही प्रति फ्लाइट करीब 26 हजार रुपए लैंडिंग चार्ज होता है, जिसे देने से सुप्रीम एविएशन ने मना कर दिया।


कंपनी का कहना है कि हम कम कीमत पर छोटे शहरों के पैसेंजर को बड़े शहरों से जोड़ना चाहते हैं। इतना लैंडिंग चार्ज देने के बाद हमें मजबूरन पैसेंजर से दोगुना किराया लेना होगा, जो हमारी इंट्रा स्टेट एयर सर्विस की नीतियों के प्रतिकूल है। गौरतलब है कि इस मसले पर 1 सितंबर को सीएम ने दिल्ली में केंद्रीय मंत्री सिन्हा से मुलाकात की थी और जल्दी ही डेट तय होने का आश्वासन दिया गया था।

हो चुका कोटा से दिल्ली का ट्रायल

कोटा में भले ही किसी को पता नहीं हो, लेकिन कोटा से दिल्ली की फ्लाइट का ट्रायल हो चुका है। असल में जुलाई में दिल्ली में हुई बातचीत के बाद जब सौदा पटता दिखा तो कंपनी ने 17 अक्टूबर को कोटा से दिल्ली के बीच ट्रायल कर लिया, जो सफल भी माना गया।


हम कोटा से दिल्ली का किराया 4500 रुपए तक रखना चाहते थे। लैंडिंग के लिए जीएमआर जिस तरह के चार्ज जोड़ रही है, उससे हम 5500 रुपए लेकर भी फ्लाइट ऑपरेशन में हिचक रहे हैं। पहले सारी बात हो गई थी, लेकिन अब उन्होंने मिनिमम लैंडिंग चार्ज की शर्त जोड़ दी।
- अमित अग्रवाल, सीईओ, सुप्रीम एविएशन