--Advertisement--

यहां रोज सुबह नवजातों को धूप दिखाने इकट्‌ठा होती हैं दादी-नानी

विटामिन-डी भरपूर मिलेगा, जिससे हड्डियों का विकास होगा और रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी।

Danik Bhaskar | Jan 19, 2018, 06:09 AM IST

कोटा. ये तस्वीर संभाग के सबसे बड़े प्रसव केंद्र जेकेलोन अस्पताल की है, जहां रोजाना सुबह नवजात बच्चों की दादी-नानी और तीमारदारी में आए अन्य परिजन इसी तरह बच्चों को धूप में लेकर बैठते हैं। नवजात बच्चों के लिए धूप का क्या महत्व है, बता रहे हैं शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. विवेक गुप्ता-

धूप के फायदे

पीलिया कम होगा, हड्डियां मजबूत होंगी और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी। नवजात बच्चों में पीलिया कॉमन बीमारी है। धूप से बच्चों का पीलिया कम किया जा सकता है। विटामिन-डी भरपूर मिलेगा, जिससे हड्डियों का विकास होगा और रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी।

भास्कर नॉलेज : इन 3 बातों का जरूर ध्यान रखें

1. तापमान नियंत्रित रखें

नवजात अपने शरीर का तापमान मेंटेन करने में अक्षम होते हैं। बाहर का तापमान जल्द ही बच्चों को ठंडा या गर्म कर देता है, जो नुकसानदायक भी हो सकता है। धूप में बच्चों का तापमान असामान्य आने पर उसे ठीक करें।

2. डिहाइड्रेशन या निर्जलीकरण

नवजात की त्वचा पतली व अल्प विकसित होती है और धूप में तेजी से नमी व पानी खोती है। इसलिए धूप में बच्चे को समय सीमित रखें व इस दौरान मां का दूध सावधानी से पिलाते रहें।

3. त्वचा व आंखों को बचाएं

बच्चों की त्वचा और आंखों में सूर्य की किरणों का प्रतिरोध करने वाले मिलेनिन का अभाव होता है। इस कारण से त्वचा झुलसने और बीमारी का खतरा रहता है। नवजात की आंखों का सीधी रोशनी से बचाव किया जाना चाहिए।