--Advertisement--

एक्सीडेंट के बहाने ट्रक लूटते थे पुलिसवालों के बेटे, हाईवे पर ही करते थे वारदात

बोरखेड़ा फोरलेन पर ट्रक ड्राइवर को लूटने वाले 3 बदमाश गिरफ्तार

Dainik Bhaskar

Jan 15, 2018, 07:38 AM IST
विकास सिंह (19) यह मूलतया: गांव खीवला की ढाणी, जिला सीकर का रहने वाला है। कोटा में जे-2 सिटी पुलिस लाइन में रहता है। इसके पिता हनुमान सिंह पुलिस लाइन में ड्राइवर हैं। विकास सिंह (19) यह मूलतया: गांव खीवला की ढाणी, जिला सीकर का रहने वाला है। कोटा में जे-2 सिटी पुलिस लाइन में रहता है। इसके पिता हनुमान सिंह पुलिस लाइन में ड्राइवर हैं।

कोटा. जिन पुलिसकर्मियों पर शहर की सुरक्षा की जिम्मेदारी है, उनके बेटे ही शहर में लूट जैसी वारदातों को अंजाम दे रहे थे। बोरखेड़ा पुलिस ने शनिवार को बोरखेड़ा में ट्रक चालक को लूटने वाले तीन युवकों को पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार किया तो उनमें से दो पुलिसकर्मियों के बेटे निकले। तीनों फिलहाल पढ़ाई कर रहे हैं। तीनों गर्लफ्रेंड को खुश करने, उन्हें महंगे गिफ्ट देने, महंगे मोबाइल और अन्य शौक पूरे करने के लिए लूट करते थे। तीनों वारदात करने के लिए ज्यादातर हाईवे को चुनते थे, जहां ट्रक के आगे बाइक लगाकर रुकवाते और टक्कर मारने या मोबाइल तोड़ने का बहाना बनाकर ट्रक ड्राइवरों को लूटते थे।


एसपी अंशुमन भौमिया ने बताया कि 13 जनवरी को पारसौली जिला चित्तौडगढ़ निवासी ट्रक चालक सुरेन्द्र सिंह ने एफआईआर थाने पर दी। जिसमें कहा कि डीडी नेत्र चिकित्सालय, बोरखेड़ा के पास फोरलेन पर बाइक सवार तीन बदमाशों ने ओवरटेक करके ट्रक रुकवा लिया। चालक व खलासी के साथ मारपीट करके उनसे 20 हजार 600 रुपए नकद लूट लिए।

बोरखेड़ा सीआई महावीर सिंह ने सुरेन्द्र द्वारा बताए हुलिए और टेक्निकल इन्वेस्टिगेशन के आधार पर वारदात में प्रयुक्त बाइक का पता लगा लिया। बाइक के रजिस्ट्रेशन नंबर के आधार पर आरोपियों का एड्रेस मिल गया। पुलिस ने अनुसंधान के बाद 24 घंटे में तीन बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया।

ड्राइवर को धमकी देकर करते थे लूट

तीनों बदमाश बाइक से हाईवे पर फिल्मी अंदाज में लूट की वारदात को अंजाम देते थे। वो पहले हाईवे पर आने-जाने वाले वाहनों की रैकी करते थे। हाईवे पर सुनसान जगह पर वाहन को अकेला देखकर वाहन का पीछा करके उसके सामने फिल्मी अंदाज में बाइक लगा देते थे। जैसे ही ड्राइवर वाहन को रोकता था, उसे डराने लगते थे। बोलते- तेज रफ्तार में ट्रक चला रहे हो, हमारी बाइक अड़ गई और महंगा मोबाइल टूट गया। हमारा साथी टक्कर से घायल हो गया है। ड्राइवर डर के मारे नुकसान की भरपाई की बात कहता और वो इस तरीके से ड्राइवर के पास जितने पैसे होते उसे लूटकर फरार हो जाते।

महंगे शौक पूरे करने को बने लुटेरे
तीनों बदमाश अपने ममौज मस्ती व महंगे मोबाइल फोन का शौक पूरा करने के लिए वारदातों को अंजाम देते थे। तीनों छात्र हैं। पुलिस टीम में एएसपी समीर कुमार के नेतृत्व में डीएसपी नरसीलाल मीणा, महावीर सिंह, बहादुर सिंह, रामदेव, नरेश, रामप्रसाद, दुर्गा लाल शामिल रहे।

रॉबिन सिंह (21) कोटा में  ई-4 सिटी पुलिस लाइन में रहता है। इसका पिता रणवीर सिंह पहले पुलिस में था। जिसे कुछ माह पहले पुलिस महकमे से बर्खास्त कर दिया गया था। रॉबिन सिंह (21) कोटा में ई-4 सिटी पुलिस लाइन में रहता है। इसका पिता रणवीर सिंह पहले पुलिस में था। जिसे कुछ माह पहले पुलिस महकमे से बर्खास्त कर दिया गया था।
रजत शर्मा (20) कोटा के बोरखेड़ा थाना क्षेत्र स्थित जयहिंद नगर के मकान नंबर 21 में रहता है। इसके पिता भी सरकारी कर्मचारी थे, जिनकी कुछ समय पहले मौत हो चुकी है। रजत शर्मा (20) कोटा के बोरखेड़ा थाना क्षेत्र स्थित जयहिंद नगर के मकान नंबर 21 में रहता है। इसके पिता भी सरकारी कर्मचारी थे, जिनकी कुछ समय पहले मौत हो चुकी है।
X
विकास सिंह (19) यह मूलतया: गांव खीवला की ढाणी, जिला सीकर का रहने वाला है। कोटा में जे-2 सिटी पुलिस लाइन में रहता है। इसके पिता हनुमान सिंह पुलिस लाइन में ड्राइवर हैं।विकास सिंह (19) यह मूलतया: गांव खीवला की ढाणी, जिला सीकर का रहने वाला है। कोटा में जे-2 सिटी पुलिस लाइन में रहता है। इसके पिता हनुमान सिंह पुलिस लाइन में ड्राइवर हैं।
रॉबिन सिंह (21) कोटा में  ई-4 सिटी पुलिस लाइन में रहता है। इसका पिता रणवीर सिंह पहले पुलिस में था। जिसे कुछ माह पहले पुलिस महकमे से बर्खास्त कर दिया गया था।रॉबिन सिंह (21) कोटा में ई-4 सिटी पुलिस लाइन में रहता है। इसका पिता रणवीर सिंह पहले पुलिस में था। जिसे कुछ माह पहले पुलिस महकमे से बर्खास्त कर दिया गया था।
रजत शर्मा (20) कोटा के बोरखेड़ा थाना क्षेत्र स्थित जयहिंद नगर के मकान नंबर 21 में रहता है। इसके पिता भी सरकारी कर्मचारी थे, जिनकी कुछ समय पहले मौत हो चुकी है।रजत शर्मा (20) कोटा के बोरखेड़ा थाना क्षेत्र स्थित जयहिंद नगर के मकान नंबर 21 में रहता है। इसके पिता भी सरकारी कर्मचारी थे, जिनकी कुछ समय पहले मौत हो चुकी है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..