• Hindi News
  • Rajasthan
  • Kota
  • मुकंदरा में इसी माह टी 91 को बसाने के लिए ट्रेंक्यूलाइज करने की तैयारी
--Advertisement--

मुकंदरा में इसी माह टी-91 को बसाने के लिए ट्रेंक्यूलाइज करने की तैयारी

Kota News - वन विभाग मार्च में मुकंदरा हिल्स टाइगर रिजर्व में बाघ टी-91 को बसाने की तैयारी में जुट गया है। मुकंदरा में बाघ को...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 04:00 AM IST
मुकंदरा में इसी माह टी-91 को बसाने के लिए ट्रेंक्यूलाइज करने की तैयारी
वन विभाग मार्च में मुकंदरा हिल्स टाइगर रिजर्व में बाघ टी-91 को बसाने की तैयारी में जुट गया है। मुकंदरा में बाघ को लाने के लिए रामगढ़ सेंचुरी में रणथंभौर की टीम उसे ट्रेंक्यूलाइज करने में लगी हुए हैं। इसके लिए उसे बीच-बीच में मीट दिया जा रहा हैं। रणथंभौर के फील्ड डायरेक्टर वाईके साहू ने बताया कि टी-91 को मार्च में मुकंदरा में शिफ्ट कर दिया जाएगा। साहू ने कहा कि टाइगर की नियमित मॉनिटरिंग की जा रही है। उसके पहले वन विभाग को मुकंदरा में बाघों को बसाने के लिए उनकी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने जरूरी हो गया हैं। चूंकि टी-91 बाघ पिछले तीन माह से बूंदी जंगलों व रामगढ़ सेंचुरी में घूम रहा है। वहीं, बाघ पर खतरा मंडरा रहा है। 22 फरवरी की रात 10:20 बजे दो शिकारी कैमरा ट्रैप में ट्रेस हुए। उनके हाथों में टॉर्च और दो बंदूक थी। जो छह दिन बाद भी वन विभाग के हाथ नहीं लगे। इस बारे में डीसीएफ सुनील चिद्री ने ज्यादा कुछ नहीं बताया।

टाइगर रिजर्व में सुरक्षा बढ़ाई जा रही है

डीसीएफ डॉ. मोहनराज ने बताया कि रामगढ़ सेंचुरी में शिकारियों के सामने आने के बाद मुकंदरा में सुरक्षा बढ़ा दी हैं। बाघों को बसाने के लिए 31 मार्च के पहले एनक्लोजर का बाकी काम कंपलीट कर लिया जाएगा। वनकर्मियों से नियमित ट्रेकिंग करवाई जा रही हैं। वायरलेस सेट काम कर रहे हैं। रणथंभौर से मिले जवानों को दरा व सावनभादो वनक्षेत्र में तैनात किया गया हैं।

बाघों के जच्चा गृह रामगढ़ में हुआ था शिकार





बाघों की सुरक्षा के लिए यह करने होंगे इंतजाम

मुकंदरा में सूचना तंत्र ठीक से विकसित नहीं हुआ। टाइगर रिजर्व व अन्य सेंचुरी में अवैध गतिविधियों को रोकने में प्राथमिक रूप से सूचना तंत्र मजबूत होना बेहद जरूरी हैं। वायर लेस सेट है लेकिन नेटवर्क कमजोर हैं। नाकों पर स्टाफ हैं। आने जाने वालों से पूछता के बाद तलाशी नहीं होती। रात्रि पेट्रोलिंग नियमित नहीं हैं। नाकों में वाहन का अभाव हैं। जवाहर सागर , गागरोन व रावठां रेंज कार्यालयों में हथियार नहीं हैं। तीन फीट के डंडे की दम पर वन कर्मचारी अवैध गतिविधियों को अंजाम देने वालों को नहीं सक्षम नहीं हैं।

X
मुकंदरा में इसी माह टी-91 को बसाने के लिए ट्रेंक्यूलाइज करने की तैयारी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..