• Home
  • Rajasthan
  • Kota
  • नासा की तकनीक से हाड़ौती के पानी का अध्ययन आज
--Advertisement--

नासा की तकनीक से हाड़ौती के पानी का अध्ययन आज

कोटा समेत हाड़ौती में पानी की गुणवत्ता व विभिन्न फसलों की खेती के गहन अध्ययन के लिए भारत सरकार नासा की एविरिस एनजी...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 04:05 AM IST
कोटा समेत हाड़ौती में पानी की गुणवत्ता व विभिन्न फसलों की खेती के गहन अध्ययन के लिए भारत सरकार नासा की एविरिस एनजी सेंसर (एयरबॉर्न विजिबल इंफ्रारेड इमेजिंग स्पेक्ट्रो मीटर-नेक्स्ट जेनरेशन) तकनीक की मदद लेगी। इसरो के माध्यम से यह अध्ययन कराया जा रहा है। इसी के तहत रविवार को एविरिस एनजी सेंसर लेकर इसरो का खास एयरक्राफ्ट कोटा पहुंचेगा, जो एनआरएससी (नेशनल रिमोट सेंसिंग सेंटर), हैदराबाद द्वारा तैयार किया गया है। यह एयरक्राफ्ट कोटा में कुछ देर के लिए उड़ान भरेगा। इसी दौरान एविरिस एनजी सेंसर अध्ययन के फोकस बिंदुओं से जुड़ी विभिन्न इमेजेज कैप्चर करेगा। इसरो के अधिकारियों ने भास्कर से बातचीत में इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि यह एयरक्राफ्ट उदयपुर से उड़ान भरकर उदयपुर ही लैंड करेगा, कोटा में सिर्फ कुछ देर फ्लाई करेगा।

इसरो के अधिकारियों ने बताया कि यह इस सेंसर की प्री-लॉन्चिंग है, जो भारत में हो रही है। पीएमओ के निर्देश पर इस प्रोजेक्ट के लिए इसरो व एनआरएससी हैदराबाद के अफसरों की टीम बनाई गई है। कोटा में फ्लाई करने के दौरान एयरक्राफ्ट में सेंसर के साथ प्रोजेक्ट से जुड़े अधिकारी भी रहेंगे।


क्या है कोटा आने का उद्देश्य?

हाड़ौती में इस सेंसर से कराए जा रहे अध्ययन का उद्देश्य यह है कि यहां पानी की गुणवत्ता व खेती के लिए जमीन कैसी है। फसलें कौन-कौनसी है। विभिन्न प्रजातियां कौन-कौनसी है। कलेक्ट किया गया डाटा योजनाओं की प्लानिंग में काम आएगा।