कोटा

  • Home
  • Rajasthan
  • Kota
  • थर्मल में कोयले का संकट, 500 मेगावाट कम हो रहा उत्पादन
--Advertisement--

थर्मल में कोयले का संकट, 500 मेगावाट कम हो रहा उत्पादन

कोटा|कोटा सुपर पावर थर्मल में कोयले का संकट लगातार बना हुआ है। जिसके कारण दो इकाइयों को तो बंद किया हुआ है साथ ही...

Danik Bhaskar

Apr 01, 2018, 04:05 AM IST
कोटा|कोटा सुपर पावर थर्मल में कोयले का संकट लगातार बना हुआ है। जिसके कारण दो इकाइयों को तो बंद किया हुआ है साथ ही पांच इकाइयों में भी उत्पादन कम कर दिया गया है। अभी यहां 1240 मेगावाट की जगह केवल 740 मेगावाट बिजली का ही उत्पादन हो रहा है।

जिन इकाइयों को बंद किया हुआ है उनसे एक दिन में इतनी बिजली उत्पादित होती है जिससे पूरा कोटा शहर एक दिन रोशन हो सके। थर्मल अधिकारियों के अनुसार अभी कोल इंडिया से दो से तीन रैक आ रही है, यानि 7600 टन कोयला ही आ रहा है। जबकि सभी सातों इकाइयों को चालू रखने के लिए 16 हजार टन से अधिक कोयले की आवश्यकता है। इस कमी को देखते हुए 220 मेगावाट की दोनों इकाइयों को तो पूरी तरह बंद कर दिया गया है, बाकी पांच इकाइयों में भी उत्पादन कम कर दिया। अभी पांच इकाइयों में केवल 740 मेगावाट बिजली की उत्पादित हो रही है। अधिकारियों को कहना है कि जब तक मांग व कोयले की आपूर्ति में सुधार नहीं होता, तब तक बंद इकाइयों को चालू करने व चालू इकाइयों में लोड बढाने के की कार्रवाई नहीं की जा सकती। पांच इकाइयों को चालू रखने के लिए थर्मल प्रशासन ने कोयले का स्टॉक करके रखा है जो 22 हजार 425 टन है।

यदि सभी इकाइयों को चालू कर दिया जाए तो इससे यह इकाइयों दो दिन भी नहीं चलेगी। चीफ इंजीनियर हरि बाबू गुप्ता का कहना है कि कोयले की आपूर्ति होने के बाद ही बंद इकाइयों को चालू किया जा सकेगा।

Click to listen..