Hindi News »Rajasthan »Kota» केंद्रीय श्रमिक संगठनों ने प्रदर्शन कर सांकेतिक गिरफ्तारी दी, बाद में छोड़े गए

केंद्रीय श्रमिक संगठनों ने प्रदर्शन कर सांकेतिक गिरफ्तारी दी, बाद में छोड़े गए

केन्द्रीय श्रम संगठनों ने अपनी मांगों को लेकर बुधवार को रैली निकालकर कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया और सांकेतिक...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 01:35 PM IST

केन्द्रीय श्रम संगठनों ने अपनी मांगों को लेकर बुधवार को रैली निकालकर कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया और सांकेतिक गिरफ्तारी दी। गिरफ्तार जनप्रतिनिधियों को बाद में रिहा कर दिया गया।

केन्द्रीय श्रम संगठनों से जुड़े संगठनों के पदाधिकारी व कार्यकर्ता बुधवार को सुबह 11.30 बजे लाडपुरा पंचायत समिति कार्यालय पर एकत्रित हुए। बाद में रैली के रूप में नारेबाजी करते हुए कलेक्ट्रेट के गेट पर पहुंचे। वहां आमसभा हुई।

केन्द्रीय संयुक्त मोर्चे के संयोजक मुकेश गालव ने बताया कि बजरी की आपूर्ति नहीं होने से भवन निर्माण से जुड़े मजदूरों के समक्ष रोजी-रोटी का संकट पैदा हो गया है। शीघ्र ही बजरी की आपूर्ति की जाए। रोडवेज, बिजली व जलदाय, पर्यटन में निजीकरण बंद किया जाना चाहिए। सभी ठेका संविदा कर्मियों को नियमित किया जाना चाहिए। श्रम संगठनों से वार्ता किए बिना नए श्रम कानून बनाए जाने से श्रमिकों के अधिकारों का हनन किया जा रहा है। इन कानूनों को वापस लिया जाना चाहिए। आमसभा को इंटक के रामलाल गुर्जर, सीटू के उमाशंकर, रविन्द्र सिंह, राजस्थान मेडिकल सेल्स रिप्रेंटेटिव यूनियन के प्रदेश उपाध्यक्ष राकेश गालव, रेलवे के एसके भार्गव, इरशाद खान, राज सीटू के तारकेश्वर तिवारी, अखिल भारतीय किसान सभा के फजर मोहम्मद, जनवादी महिला समिति की पुष्पा खींची, इरशाद खान ने संबोधित किया। बाद में एक प्रतिनिधिमंडल ने कलेक्टर से भेंटकर उन्हें प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन दिया। प्रदर्शन में आजाद हिन्द बिल्डिंग वर्कर्स यूनियन, थर्मल ठेकेदार वर्कर्स यूनियन के सैकड़ों श्रमिक उपस्थित थे।

केंद्रीय श्रम संगठनों ने रैली निकालकर कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया। गिरफ्तारी के दौरान पुिलस से बहस करते संगठन के प्रतिनिधि।

संगठनों ने ये मांगें रखी

आम वस्तुओं की मूल्य वृद्धि पर रोक लगाई जाए।

रोजगार के नए अवसर सृजित किए जाएं।

रेलवे, प्रतिरक्षा, फुटकर व्यापार, बैंक में एफडीआई पर रोक लगे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kota

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×