Hindi News »Rajasthan »Kota» फैसला; सिटी बसों की व्यवस्था देखेगी निजी कंपनी

फैसला; सिटी बसों की व्यवस्था देखेगी निजी कंपनी

कोटा बस कंपनी की ओर से शहर में चलाई जा रही सिटी बसों में टिकट वितरण व चालकों की व्यवस्था निजी कंपनी की ओर से की जाएगी,...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 01:35 PM IST

कोटा बस कंपनी की ओर से शहर में चलाई जा रही सिटी बसों में टिकट वितरण व चालकों की व्यवस्था निजी कंपनी की ओर से की जाएगी, इससे निगम को करीब 12 लाख रुपए की आय होगी। पहले निगम इसके लिए पैसे दे रहा था। जो घाटा अभी तक 67 लाख का था, उसे कम करने में सहायता मिलेगी। यह फैसला कंपनी की मंगलवार को हुई बैठक में लिया गया।

महापौर महेश विजय ने बताया कि कमेटी में अब यूआईटी चेयरमैन रामकुमार मेहता को भी वाइस चेयरमैन बनाया गया है। बसों के संचालन में खर्च होने वाली राशि व सरकार से मिलने वाली राशि में अब दोनों विभागों की बराबरी होगी। बैठक में फैसला किया कि टिकट वितरण व परिचालक लगाने की जिम्मेदारी के लिए ठेका दिया जाए, जिसकी पालना कर ली गई है। इसमें जिस कंपनी ने ठेका लिया है, वह निगम को 12 लाख रुपए माह देगी। अभी निगम इस काम के बदले में कंपनी को 14 लाख रुपए दे रहा था, बाकी संचालन में कुल 67 लाख का घाटा हर माह हो रहा था। इसे कम करने में ठेका देने से राहत मिलेगी। इसके साथ ही अब जो घाटा होगा व उसकी भरपाई में राज्य सरकार से जो राशि मिलेगी, उसमें यूआईटी व निगम का बराबर का हिस्सा होगा। निगम बसों के टिकटों से तो आय करेगा ही इसके साथ ही बसों पर विज्ञापन से भी पैसा कमाएगा। इसके अलावा शहर में चालीस आधुनिक बस स्टैंड तैयार किए जाएंगे। इसमें बसों के आने से लेकर उनके जाने तक की सीडी से जानकारी मिलती रहेगी। स्टेशन से नयापुरा, खड़े गणेशजी व उसके आसपास आने-जाने वाले रास्तों पर इन्हें बनाया जाएगा।

पांच एसी बसें भी चलेगी

महापौर ने बताया की शहर में पांच एसी बसें भी संचालित की जाएगी। यह बसें खरीदी जाएंगी, जो पूरी तरह से पर्यटन के काम आएगी। इसका फैसला कर लिया गया है।

बायो टाॅयलेट बनेंगे

बैठक में शहर में आधुनिक एवं आकर्षक बायोटॉयलेट लगाने का निर्णय लिया गया। इसी प्रकार आमजन को समय पर सेवायें प्रदान करने के लिए नगर निगम, स्मार्ट सिटी कार्यालय एवं कलेक्ट्रेट कार्यालय को ई-ऑफिस के रूप में विकसित किया जाएगा। बैठक कलेक्टर रोहित गुप्ता की अध्यक्षता में हुई, जिसमें महापौर महेश विजय, यूआईटी अध्यक्ष रामकुमार मेहता, आयुक्त नगर निगम डॉ. विक्रम जिंदल सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

न्यू सिस्टम

निगम को करीब 12 लाख रुपए की आय होगी, घाटे को पूरा करने में मिलेगी मदद

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kota

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×