• Hindi News
  • Rajasthan
  • Kota
  • दिनभर लगा रहा सूतक, ग्रहण के पश्चात स्नान कर श्रद्धालुओं ने मंदिरों में की पूजा-अर्चना, दान-पुण्य
--Advertisement--

दिनभर लगा रहा सूतक, ग्रहण के पश्चात स्नान कर श्रद्धालुओं ने मंदिरों में की पूजा-अर्चना, दान-पुण्य किया

रात को मंदिरों में सफाई के बाद भजन-कीर्तन हुए सिटी रिपोर्टर | कोटा पूर्ण चंद्रग्रहण के दौरान शहर के मंदिरों के...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 01:40 PM IST
दिनभर लगा रहा सूतक, ग्रहण के पश्चात स्नान कर श्रद्धालुओं ने मंदिरों में की पूजा-अर्चना, दान-पुण्य
रात को मंदिरों में सफाई के बाद भजन-कीर्तन हुए

सिटी रिपोर्टर | कोटा

पूर्ण चंद्रग्रहण के दौरान शहर के मंदिरों के कपाट बंद रहे। इस दौरान मंदिरों में भजन कीर्तन हुए। प्राचीन परंपराओं के अनुसार, कई मंदिरों में पूर्ण चंद्रग्रहण के कारण आरती का समय बदला गया। ग्रहण का सूतक मानकर कई लोगों ने नए कार्य शुरू नहीं किए। ग्रहण के पश्चात लोगों ने स्नान कर जगह-जगह पूजा-पाठ किए और दान-पुण्य किया। मंदिरों के भी बाहर भजन कीर्तन हुए और पट बंद रहे। रात को मंदिरों में साफ सफाई हुई। मंदिरों के पट गुरुवार सुबह मंगलाआरती के साथ खुलेंगे।

मंिदरों के पट बंद रहे, आरती का समय बदला, मंगलआरती के साथ आज खुलेंगे पट

गोदावरी धाम में कीर्तन करते श्रद्धालु।

नयापुरा जानकी नाथ मंदिर के पट बंद रहे।

रंगबाड़ी बांके बिहारी मंदिर से निकली संकीर्तन यात्रा

रंगबाड़ी स्थित बांके बिहारी मंदिर से माघ शुक्ल पूर्णिमा पर संकीर्तन परिक्रमा निकली। गोविंद बोलो हरि गोपाल बोलो, राधे गोविंदा मन भजले हरि का प्यारा नाम ले, मीठी रस से भरयोड़ी राधा रानी लागे, सरीखे भजन व कीर्तन की धुन पर हर कोई नृत्य करता चल रहा था। परिक्रमा मंदिर से रवाना होकर रंगबाड़ी के प्रमुख मार्ग,रामचरण सर्किल, खड़े गणेश जी मंदिर व प्रमुख मार्गो से होकर मंदिर लौटी। मार्ग में यात्रा का स्वागत किया। इस दौरान मंदिर जयकारों से गूंजता रहा।

X
दिनभर लगा रहा सूतक, ग्रहण के पश्चात स्नान कर श्रद्धालुओं ने मंदिरों में की पूजा-अर्चना, दान-पुण्य
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..