Hindi News »Rajasthan »Kota» Dengue New Virus In India, Fears Quota Too

भारत में डेंगू का नया वायरस, कोटा में भी आशंका, 150 सैंपल की जांच होगी

डेंगू के अमेरिकन-अफ्रीकी जीनोटाइप में नहीं होती इतनी बड़ी संख्या में मौत।

आशीष जैन। | Last Modified - Nov 05, 2017, 08:05 AM IST

  • भारत में डेंगू का नया वायरस, कोटा में भी आशंका, 150 सैंपल की जांच होगी
    +1और स्लाइड देखें
    कोटा।भारत में डेंगू के नए वायरस की पुष्टि हुई है। एनआईवी (नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी), पुणे के वैज्ञानिकों ने इसकी खोज की है। हाल ही में वायरोलॉजी नाम के एक मेडिकल जर्नल में इस शोध के नतीजे प्रकाशित किए गए हैं। इसमें बताया गया है कि यह वायरस एशियन जीनोटाइप का है, जो खतरनाक है।
    - इसी वायरस ने 2005 में सिंगापुर और 2009 में श्रीलंका में महामारी फैलाई थी। इस बार दक्षिण भारत में डेंगू पीड़ित मरीजों के ब्लड सैंपल में इस वायरस की पुष्टि हुई है। कोटा में भी इस बार डेंगू ने महामारी का रूप लिया हुआ है। इस आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता कि यह नया वायरस यहां भी हो।
    - इस बार पूरे डेंगू सीजन में स्थानीय डॉक्टर बार-बार यह सवाल उठाते रहे हैं कि इस बार अजीबोगरीब ढंग से नए-नए कॉम्पलिकेशन लेकर मरीज पहुंच रहे हैं। अब राज्य सरकार ने कोटा के मरीजों के 150 ब्लड सैंपल एनआईवी, पुणे भेजने का निर्णय किया है।
    - इनकी जांच से स्पष्ट होगा कि कोटा में डेंगू का कौन सा वायरस था, जिसने इतना कहर बरपाया और दर्जनों लोगों को मौत के मुंह में धकेल दिया। वैज्ञानिकों का यह भी मानना है कि इस वायरस की भारत में एंट्री सिंगापुर से हुई है। अभी तक तमिलनाडु केरल के डेंगू रोगियों में इस वायरस की मौजूदगी पाई गई है।
    भास्कर एक्सपर्ट व्यू
    - दो दिन तक आंकड़ा कुछ कम रहने के बाद शनिवार को एक बार फिर डेंगू मरीजों की संख्या बढ़ी। सीएमएचओ डॉ. आरके लवानिया ने बताया कि 43 में से 38 मरीज कोटा, 3 बारां 2 बूंदी से हैं। शहर में फॉगिंग एंटी लार्वा एक्टिविटी लगातार चल रही है।
    - मौसमी बीमारियों के मद्देनजर एमबीएस अस्पताल में रविवार सुबह 8 बजे से विशेष सफाई अभियान चलाया जाएगा। इसमें कोटा शहर की 50 से ज्यादा संस्थाओं को बुलाया गया है। सीएमएचओ डॉ. आरके लवानिया हम लोग संस्था के डॉ. सुधीर गुप्ता ने बताया कि पूरे परिसर को अलग-अलग भागों में बांटकर सफाई की जाएगी।
    यह बदलाव खतरनाक : डॉ. सालूजा
    - कोटा मेडिकल कॉलेज में मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर डॉ. मनोज सालूजा बताते हैं कि एनआईवी पुणे की जांच में इस नए वायरस की पुष्टि हुई है। यह एशियन जीनोटाइप है, जो वाकई खतरनाक है। एनआईवी पुणे की स्टडी बताती है कि सिंगापुर श्रीलंका में फैली महामारी इसी वायरस की देन थी। वहां डेंगू से काफी मौतें हुई थी।
    - अमेरिकन-अफ्रीकी जीनोटाइप में इतनी मौतें नहीं होती। नए वायरस एशियन जीनोटाइप में मृत्यु दर भी ज्यादा है और कॉम्पलिकेशन भी अधिक होते हैं। वायरस में इस तरह के बदलाव की वजह से ही डेंगू की वैक्सीन या स्थायी दवा में भी समस्या है।
    कोटा में नए वायरस की आशंका इसलिए
    1 सबसेज्यादा मौतें हुई है कोटा में डेंगू से इस बार।
    2हरमरीज में नए ढंग के कॉम्पलिकेशन नजर आए।
    33मरीजों की आंखों की रोशनी तक चली गई डेंगू से।
    4ब्रेनहेमरेज के अलावा भी नए कॉम्पलिकेशन देखे गए।
  • भारत में डेंगू का नया वायरस, कोटा में भी आशंका, 150 सैंपल की जांच होगी
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kota

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×