रेलवे / ट्रेन में सफर खत्म होने के 30 मिनट पहले कोच अटैण्डेंट को लौटाना होगा बेडरोल



bedroll will have to return 30 minutes before the train ends to Coach attendant
X
bedroll will have to return 30 minutes before the train ends to Coach attendant

  • कोचों में बेडराेल की चोरी रोकने के लिए रेलवे ने लिया फैसला
  • पिछले 3 सालों में रेलवे को 4 हजार करोड़ रु का नुकसान हुआ

Dainik Bhaskar

May 20, 2019, 01:09 AM IST

कोटा. ट्रेनों के एसी कोच में यात्रा करने वालों को अब यात्रा पूरी करने के 30 मिनट पहले अपना बेडरोल कोच अटैण्डेंट को लाैटाना होगा। रेलवे ने यह फैसला ट्रेनों में बेडरोल चोरी होने की घटनाअों को देखते हुए लिया है। दिल्ली-मुंबई रेलमार्ग पर स्थित कोटा रेलवे स्टेशन से होकर कोटा से श्रीगंगानगर, कोटा से कटरा, कोटा से उधमपुर सहित कई ट्रेन चलती है।

 

24 घंटे में कोटा से लगभग 92 ट्रेन पास होती है। कोटा से चलने वाली ट्रेनों में प्रथम, द्वितीय व तृतीय श्रेणी एसी के यात्रियों को बेडरोल उपलब्ध करवाया जाता है। बेडरोल में चादर, कंबल, टावल व तकिया दिया जाता है। यात्री को अब गंतव्य स्टेशन पर पहुंचने से पहले बेडरोल वापिस करना होगा। राजधानी, दुरंतों, संपर्क क्रांति एक्सप्रेस ट्रेनों के एसी के विभिन्न कोचों में यात्रा करने वाला यात्रियों को बेड रोल कोच अटैण्डेंट उपलब्ध करवाता है। रेलवे अधिकारियों का कहना है कि पिछले तीन सालों में रेलवे को 4 हजार करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा है।
 

इस वजह से लिया निर्णय
रेलवे ने यह निर्णय इसलिए लिया है क्योंकि यात्री सफर पूरा होने के बाद कई बार बेड रोल के सामानों को या तो बर्थ पर ही छोड़ देते हैं या कई यात्री अपने साथ ले जाते हैं। बर्थ पर छोड़े गए बैड रोल के सामान को कोई भी उठाकर ले जाता है। इससे रेलवे को बहुत अधिक आर्थिक नुकसान होता था। रेलवे अधिकारियों का मानना है कि सफर पूरा होने से आधा घंटे पहले कोच अटैण्डेंट द्वारा यात्रियों से कंबल तकिया, ताैलिया लेने से रेलवे को नुकसान नहीं होगा।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना