पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

यूरिया को लेकर माहौल खराब होने की आशंका, उर्वरक मंत्रालय रोज मांग रहा रिपोर्ट

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
यूरिया की किल्लत को देखते हुए पुलिस व प्रशासन सकते में है। उन्होंने इससे कानून व्यवस्था बिगड़ने की भी आशंका जताई है। इसके चलते कोटा संभाग से उर्वरक मंत्रालय लगातार रिपोर्ट मांग रहा है। वहीं, कोटा में 2 लाख मीट्रिक टन यूरिया की खपत बताई जा रही थी, उसे भी बढ़ा दिया है। प्रतिदिन कोटा संभाग में कितना यूरिया आ रहा है और कहां-कहां खपत हो रही है। इसकी रिपोर्ट कृषि विभाग को प्रतिदिन जयपुर मंत्रालय को भेजनी पड़ रही है। वहीं मध्यप्रदेश में कालाबाजारी के होने की आशंका के चलते पुलिस व प्रशासन पूरी निगरानी बनाए हुए है। वे राजस्थान से सटी सीमाओं के बाहर यूरिया नहीं जाने दे रहे हैं।

नॉन सीएडी एरिया में 1780 मीट्रिक टन यूरिया आज बंटेगा : कोटा संभाग में लगातार यूरिया आने के बाद भी किल्लत बनी हुई है। इंटीरियर इलाके में अभी लोग लाइन में लगे हुए हैं। इसके चलते प्रशासन ने गुरुवार को नॉन सीएडी इलाके में 1780 मीट्रिक टन यूरिया अलग-अलग जगह भेजा है। इसके अलावा एक रैक 3100 मीट्रिक टन की गुरुवार को पहुंची, जो कोटा संभाग के सभी जिलों में भेज दी गई है। इसके अलावा 2000 मीट्रिक टन यूरिया सीएफसीएल से आया, जिसे भी गुरुवार को बंटवा दिया गया। कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. रामावतार शर्मा ने बताया कि सीएडी एरिया में पूरी तरह से लाइन खत्म हो गई है। लेकिन नोन सीएडी एरिया में अभी भी दिक्कत है। इसको देखते हुए 1780 मीट्रिक टन यूरिया सीएफसीएल से रोड से स्पेशल नोन सीएडी एरिया में भेज दिया गया है। वह आज सुबह 8 बजे से मिलने लग जाएगा। इसके अलावा 3100 मीट्रिक टन की एक रैक पहुंची है, इसे भी सभी जिले में भेज दिया गया है। वहीं 2000 मीट्रिक टन भी सीएफसीएल से सीधा चारों जिले में पहुंच गया है। यूरिया पर्याप्त मात्रा में आ रहा है। किसानों को कहीं भी दिक्कत नहीं आने दी जाएगी। किसानों को आसानी से यूरिया मिल रहा है।

खबरें और भी हैं...