Hindi News »Rajasthan »Kota» रोबोटिक सर्जरी : अब डॉक्टर बिना हाथ लगाए करेंगे ऑपरेशन

रोबोटिक सर्जरी : अब डॉक्टर बिना हाथ लगाए करेंगे ऑपरेशन

क्या ऐसा संभव है कि कोई डॉक्टर आपको हाथ भी नहीं लगाए और ऑपरेशन कर दें? एक बारगी हर कोई कहेगा, संभव ही नहीं, लेकिन अब यह...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 05:00 AM IST

क्या ऐसा संभव है कि कोई डॉक्टर आपको हाथ भी नहीं लगाए और ऑपरेशन कर दें? एक बारगी हर कोई कहेगा, संभव ही नहीं, लेकिन अब यह मुमकिन है। अब रोबोटिक सर्जरी होने लगी है, राजस्थान में भी दो जगह रोबोटिक सर्जरी मशीन लग चुकी है। इस मशीन का सोमवार को कोटा के एमबीएस अस्पताल परिसर में भी प्रदर्शन किया गया। जहां शहरभर के सर्जन्स और रेजिडेंट्स ने इसकी बारीकियां समझी। मशीन के साथ आए कंपनी के प्रतिनिधियों ने बताया कि जयपुर के इंडस श्रीराम हॉस्पिटल तथा जोधपुर एम्स में यह मशीन लग चुकी है।

करीब 18 करोड़ लागत की यह मशीन वैन के साथ प्रदर्शन के लिए कोटा आई तो डॉक्टरों में भी खासी जिज्ञासा रही। इसमें सर्जन 3 डी तकनीक से सर्जरी वाले हिस्से को देख सकेंगे। वहीं मरीज से दूर कंसोल पर बैठकर रोबोट से औजारों को मूव करा सकते हैं। डॉक्टर के हाथ स्थिर न रहने या हिलने जैसी समस्या नहीं रहती, क्योंकि कमांड देने के बाद रोबोट का मूवमेंट बिल्कुल सटीक रहता है। इससे होने वाली सर्जरी में न्यूनतम जटिलताएं रहती है और बहुत कम चीरे में बड़ी सर्जरी आसानी से संभव है। ऑपरेशन के बाद दर्द, ब्लड लॉस या संक्रमण की संभावनाएं न्यूनतम रहेंगी। इसमें 10 गुणा ज्यादा बड़े देख पाने की वजह से कैंसर की गांठ को पूरी तरह निकालने में मदद मिलती है। इस आधुनिक तकनीक से रोबोट द्वारा मरीज पर किसी भी प्रकार की चीर-फाड़ किए बिना केवल बेहद ही सूक्ष्म 3-4 एमएम छिद्र द्वारा सर्जरी की जाती है। ऐसे छिद्र, जो ऑपरेशन के बाद दिखाई भी नहीं देते।

इंडस श्रीराम हॉस्पिटल के विशेषज्ञों ने एमबीएस में रोबोटिक सर्जरी मशीन का डेमो दिया

एमबीएस अस्पताल में डेमो के लिए लगाई गई रोबोटिक सर्जरी मशीन।

मशीन के कंसोल पर बैठकर देखते सर्जन।

250 मरीजों को दिया परामर्श, प्रिया की सर्जरी निशुल्क करेगा इंडस श्रीराम समूह:इंडस श्रीराम हॉस्पिटल समूह की ओर से इस डेमो वैन में रोबोटिक हैंड आॅन ट्रेनिंग के साथ ही निशुल्क रोबोटिक-बेरियाट्रिक (मोटापा) परामर्श शिविर भी लगाया गया। रोबोटिक बेरियाट्रिक सर्जन डाॅ. सुनील चांडक के साथ लेप्रोस्कोपिक एवं जनरल सर्जन डाॅ. भागीरथ चौधरी ने करीब 250 मोटापा ग्रसित मरीजों को परामर्श दिया। रोबोटिक वैन का उद्‌घाटन प्रिसिंपल डॉ. गिरीश वर्मा, सर्जरी विभाग के हैड डाॅ. आरएस मीणा एवं डाॅ. नीरज देवंदा ने किया तथा ‘द विंसी रोबोटिक’ की रोबोटिक हैंड आॅन ट्रेनिंग का भी अनुभव लिया। डाॅ. चांडक ने बताया कि कोटा की 10 वर्षीय बच्ची प्रिया कुकरेजा की रोबोटिक बेरियाट्रिक सर्जरी इंडस श्रीराम हास्पिटल की ओर से की जाएगी। निर्धन परिवार की इस बच्ची की सर्जरी पर 4 से 4.5 लाख का खर्च आता, जो अस्पताल निशुल्क करेगा। हार्मोन असंतुलन की वजह से प्रिया का वजन काफी ज्यादा है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kota

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×