पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

20 दिन में वापस आने का वादा कर घर से गया था जवान, 2 दिन बाद ही आई शहादत की खबर

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • हेमराज मीणा (43) पुत्र हरदयाल मीणा सीआरपीएफ की 61वीं बटालियन में थे

कोटा. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में कोटा जिले का भी एक जवान शहीद हुआ है। सांगोद क्षेत्र के विनोद कलां गांव के हेमराज मीणा (43) पुत्र हरदयाल मीणा सीआरपीएफ की 61वीं बटालियन में थे। वे करीब 18 साल से फौज में रहकर देश की सेवा कर रहे थे। हेमराज के बड़े भाई रामबिलास ने भास्कर को बताया कि हेमराज नागपुर (महाराष्ट्र) में ट्रेनिंग पर गए हुए थे। वहां से लौटते वक्त इसी सोमवार रात को कुछ देर के लिए गांव आए थे और मंगलवार सुबह साढ़े 6 बजे गांव से रवाना होकर बुधवार को ही जम्मू-कश्मीर पहुंचे थे। दोपहर बाद जैसे ही हमले की खबरें आई तो बेटियों की फौज के अफसरों से बात हो गई थी, इसके बाद मेरी भी कमांडर से बात हुई, तब जाकर उनकी शहादत की पुष्टि हुई।

 

पत्नी से 20 दिन बाद ही वापस लौटने का किया था वादा

 

हेमराज मीणा मंगलवार को ही ड्यूटी पर गए थे। जाते वक्त हेमराज मीणा ने पत्नी से 20 दिन बाद ही वापस लौटने का वादा किया था एवं कहा था कि आने के बाद परिवार के साथ घूमने जाएंगे।

 

बड़े भाई बोले-पाकिस्तान को मिलना चाहिए जवाब

 

वीर शहीद हेमराज मीणा के बड़े भाई रामविलास मीणा का कहना है कि पाकिस्तान को इसका जवाब मिलना चाहिए। मैं खुद बॉर्डर पर जाकर पाकिस्तान को इसका जवाब देना चाहता हूं। हाड़ौती के वीर हेमराज मीणा के शहीद होने की सूचना जैसे ही गांव में पहुंची तो परिवार का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। उनके निवास स्थान सेन कॉलोनी में कोहराम मच गया। वीर शहीद के पिता हरदयाल मीणा के तीन पुत्र हैं, जिनमें से हेमराज दूसरे नंबर के हैं। हेमराज मीणा के दो पुत्र व दो पुत्रियां हैं। हेमराज मीणा की बड़ी बेटी रीना बेटी उम्र 18 वर्ष, टीना उम्र 14 वर्ष, अजय उम्र 12 वर्ष, ऋषभ उम्र 4 वर्ष है। हेमराज मीणा की पत्नी मधुबाला का रो रोकर बुरा हाल हो गया है। हेमराज मीणा अपने परिवार के साथ तीन वर्ष पूर्व ही सांगोद में शिफ्ट हुए थे। पुश्तैनी मकान विनोद खुर्द में शहीद के वृद्ध माता-पिता निवास करते हैं।

 

तीन वर्षों से कश्मीर में तैनात थे

 

शहीद हेमराज मीणा गत तीन वर्षों से देश की सेवा में कश्मीर में ही तैनात रहकर अपनी सेवाएं दे रहे थे। इससे पूर्व वह नक्सल प्रभावित इलाके में भी तैनात रहे थे।

 

सूचना पहुंची तो परिवार का रो-रोकर हुआ बुरा हाल

 

चार बच्चों के सिर से उठा पिता का साया : रामबिलास ने बताया कि चार भाइयों में मैं सबसे बड़ा हूं, मुझसे छोटे हेमराज और उनसे छोटे देवलाल तथा नरेंद्र हैं। हेमराज के परिवार में पत्नी मधुबाला के अलावा चार बच्चे हैं। दो बड़ी बेटियां रीना (17) व टीना (13) हैं तथा दो छोटे बेटे ऋषभ (5) व अजय (11) हैं। बड़े भाई ने बताया कि शाम तक तो हम खुद भी कन्फर्म नहीं कर पा रहे थे। बाद में जब सेना के अधिकारियों से बात हुई तो घटनाक्रम की पुष्टि हुई।
 

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आपका कोई सपना साकार होने वाला है। इसलिए अपने कार्य पर पूरी तरह ध्यान केंद्रित रखें। कहीं पूंजी निवेश करना फायदेमंद साबित होगा। विद्यार्थियों को प्रतियोगिता संबंधी परीक्षा में उचित परिणाम ह...

और पढ़ें