स्वाइन फ्लू पॉजिटिव आई 46 वर्षीय महिला, सीजन का पहला केस आया

Kota News - शहर में स्वाइन फ्लू ने एक बार फिर दस्तक दी है। इस सीजन का पहला स्वाइन फ्लू केस बुधवार को सामने आया है। महिला निजी...

Jan 16, 2020, 09:25 AM IST
Kota News - rajasthan news 46 year old female swine flu positive first case of season
शहर में स्वाइन फ्लू ने एक बार फिर दस्तक दी है। इस सीजन का पहला स्वाइन फ्लू केस बुधवार को सामने आया है। महिला निजी हॉस्पिटल में भर्ती है, उसकी स्थिति सामान्य बताई गई है। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के साथ ही चिकित्सा विभाग की टीम ने घर पहुंचकर संपर्क में आए लोगाें को दवा दी है।

सीनियर फिजिशियन डॉ. केके पारीक ने बताया कि हजीरा बस्ती निवासी 46 वर्षीय महिला को 4-5 दिन से खांसी-जुकाम व बुखार था। मरीज हमारे यहां सोमवार को भर्ती हुई थी, लक्षणों के आधार पर मंगलवार को उसका स्वॉब लेकर लैब भेजा था, जिसकी रिपोर्ट बुधवार को पॉजिटिव आई। महिला को आइसोलेशन में रखा है, वह बाइलेट्रल निमोनिया की शिकार है, लेकिन स्थिति ठीक है।

उधर, चिकित्सा विभाग ने सर्वे के बाद बताया कि महिला की कहीं बाहर जाने की हिस्ट्री नहीं आ रही, वह लंबे समय से घर पर ही थी। गौरतलब है कि कोटा में इस बार कड़ाके की ठंड के बावजूद स्वाइन फ्लू का कोई नया मामला नहीं आया था, ऐसे में चिकित्सा विभाग से लेकर आमजन सुकून महसूस कर रहा था। लेकिन यह केस आने के बाद सभी अलर्ट हो गए हैं। कोटा में स्वाइन फ्लू का अंतिम केस 25 अक्टूबर, 2019 को आया था।

इस बीमारी ने पिछले साल ली थी 16 जान

स्वाइन फ्लू के बारे में वह सबकुछ, जो जानना जरूरी

इस बीमारी से बचाव व उपचार के बारे में भास्कर के पाठकों को बता रहे हैं एमबीएस अस्पताल में स्वाइन फ्लू के नोडल ऑफिसर डॉ. सीपी मीणा-


बचाव के लिए क्या करें : खांसते या छींकते वक्त मुंह व नाक पर रुमाल या टिश्यू पेपर रखें। हाथों को बार-बार साबुन से अच्छी तरह धोएं। खांसी-जुकाम के रोगियों से दूरी बनाएं। भरपूर नींद लें व डॉक्टर के संपर्क में रहें। खूब पानी पीएं व पौष्टिक डाइट लें।

मरीजों की 3 श्रेणियां व इलाज

श्रेणी ए

लक्षण : हल्का बुखार, खांसी, गले में खराश, शरीर में दर्द

उपचार : लक्षणों के अनुरूप दवा लें, आराम करें, खूब पानी पीएं व पौष्टिक आहार लें। इस श्रेणी के मरीजों को टेमी फ्लू (ऑसेल्टामीविर) या जांच की जरूरत नहीं।

लक्षण : श्रेणी ए या बी के लक्षणों के साथ सांस में तकलीफ, सीने में दर्द, बीपी कम होना, कफ में खून आना, बेहोश होने जैसी स्थिति पैदा होना, नाखून नीले पड़ना, बच्चों का चिड़चिड़ा होना, उल्टी दस्त आदि।

इलाज : तत्काल टेमी फ्लू शुरू करें और मरीज को हायर सेंटर पर रैफर करें। इस श्रेणी में तत्काल जांच कराने की जरूरत होती है।

श्रेणी सी

2012

5

2013

8

2014

1

2015

28

2016

2

2017

26

2018

29

2019

16

हाई रिस्क वाले लोग : गर्भवती महिलाएं, बच्चे, वृद्ध, कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले लोग व अन्य।

फैलने के कारण : व्यक्ति से व्यक्ति में, खांसते-छींकते वक्त हवा के जरिए, हाथ व सतह पर जमा बूंदें।

श्रेणी बी

लक्षण : श्रेणी ए के लक्षणों के साथ ही तेज बुखार (102 या इससे ज्यादा) हो, गले में ज्यादा खराश व दर्द।

इलाज : टेमी फ्लू टैबलेट दें, आराम करें, खूब पानी पीएं व पौष्टिक आहार लें। इसमें भी जांच की जरूरत नहीं है।

X
Kota News - rajasthan news 46 year old female swine flu positive first case of season
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना