पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वीसी को बोम की मीटिंग से बुलाने पर अड़े एबीवीपी कार्यकर्ता, प्रॉक्टर ने की सख्ती, भूख हड़ताल पर बैठे

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कोटा यूनिवर्सिटी में बुधवार को जमकर हंगामा हुआ। बोम की मीटिंग के दौरान ही एबीवीपी के कार्यकर्ता वीसी से मिलने काे लेकर अड़ गए। प्रॉक्टर चक्रपाणी गौतम ने सख्ती दिखाई तो नाराज होकर कार्यकर्ता मेन गेट पर भूख हड़ताल पर बैठ गए। छात्रसंघ पदाधिकारी विवि के समर्थन में आ गए।

प्लेसमेंट सेल को सक्रिय करने, कैंपस में पीने के पानी व्यवस्था करने, सीसीटीवी लगने आदि मांगों को लेकर एबीवीपी कार्यकर्ता वीसी सचिवालय पहुंचे। वहां मौजूद प्रॉक्टर गौतम ने उनकी मांगें वीसी तक पहुंचाने का आश्वासन दिया। एबीवीपी के कार्यकर्ता वीसी को बाहर बुलाने की मांग करने लगे। इस पर उनको बोम की मीटिंग का हवाला दिया। इसके बाद भी कार्यकर्ता नहीं माने तो प्रॉक्टर सहित अन्यों ने सख्ती दिखाते हुए उनको वहां से निकलने को कहा। इससे एबीवीपी कार्यकर्ता नाराज हो गए। इस दौरान विवि प्रशासन की मीडियाकर्मियों से भी बहस हो गई। इस हंगामे के बीच छात्रा गुंजन झाला सहित अन्य पदाधिकारी भूख हड़ताल पर बैठ गए। उनका आरोप है कि विश्वविद्यालय प्रशासन ने उनके साथ अभद्र व्यवहार किया।

छात्रों से कहा गया था कि बोम की मीटिंग को छोड़कर वीसी नहीं आ सकती हैं। इसके बाद वहां पर नारेबाजी कर शुरू कर दी। अनुशासन को देखते हुए स्टूडेंट्स को वहां से जाने के लिए कहा। अभद्रता जैसी कोई बात नहीं है। -चक्रपाणि गौतम, प्रॉक्टर, कोटा यूनिवर्सिटी

बोम की मीटिंग : यूनिवर्सिटी व स्टूडेंट्स के डवलपमेंट पर खर्च होंगे 110 करोड़

कोटा यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स और इंफ्रास्ट्रक्चर पर करीब 110 करोड़ रुपए खर्च करेगी। वहीं स्किल डवलपमेंट सेंटर और बी-फाॅर्मा को कोर्सेज को संचालित करने के लिए नई बिल्डिंग भी बनेगी। अभी स्किल डलवपमेंट सेंटर एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लाॅक में संचालित हो रहा है। बी-फार्मा की क्लासेज एकेडमिक ब्लॉक में लग रही है। दोनों की अपनी बिल्डिंग बनने से स्टूडेंट्स को लाभ होगा और नए कोर्सेज संचालित किए जा सकेंगे। इसकी बजट की स्वीकृति को बोम में पास कर दिया गया है। बोम की मीटिंग बुधवार को वीसी सचिवालय में हुई। वीसी प्रो. नीलिमा सिंह ने अध्यक्षता की। मीटिंग में फाइनेंस कमेटी के मीटिंग को भी पास किया गया। साल 2019-20 के लिए 90 करोड़ का रेवेन्यू व 110 करोड़ के खर्चे पर चर्चा की। इसमें बिल्डिंग निर्माण के साथ ही स्वीमिंग पूल बनाने पर राशि खर्च की जाएगी। इससे पहले यूजीसी से मिली स्वीमिंग पूल की राशि को यूनिवर्सिटी को ब्याज सहित वापस करना पड़ा था। अब यूनिवर्सिटी खुद की राशि खर्च करके इसका निर्माण करवाएगी। मीटिंग के दौरान डिप्टी रजिस्ट्रार जीएडी प्रवीण गोयल के पद को लेकर चर्चा हुई। बोम ने यह माना है गोयल को किसी संवेदनशील विभाग एफिलिएशन व एग्जाम का चार्ज नहीं दे रखा है। उनकाे वर्तमान में दिया गया चार्ज सही है। वहीं, बोम में कनवोकेशन में वितरित की जाने वाली करीब 7 हजार डिग्रियों व गोल्ड मैडल का अनुमोदन करते हुए ग्रेस पास किया गया।

विधायक भरत सिंह ने भी दिए सुझाव: मीटिंग के दौरान विधायक व बोम सदस्य भरत सिंह ने भी सुझाव रखे। उन्होंने यूनिवर्सिटी में पानी की दिक्कत हो देखते हुए वॉटर हार्वेस्टिंग स्ट्रेक्चर व सोलर एनर्जी प्लांट लगाने की बात रखी।

विवि प्रशासन ने दर्ज करवाई रिपोर्ट

विवि प्रशासन ने बोम की मीटिंग में व्यवधान पैदा करने वाले स्टूडेंट्स के खिलाफ अारकेपुरम थाने में रिपोर्ट दी है। इसमें राजकाज में बाधा डालने के साथ राष्ट्रपिता की तस्वीर का अनादर करने का मामला दर्ज करवाया है। विश्वविद्यालय प्रशासन ने बाहर महात्मा गांधी का फ्लैक्स लगाया हुआ था। रिपोर्ट में बताया है कि एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने उस फ्लैक्स को हटाकर खुद के प्रदर्शन की सूचना लगवा दी। उधर, देर रात आंदोलन समाप्त होने की सूचना थी।

खबरें और भी हैं...